Submit your post

Follow Us

बॉलीवुड में इस विलेन को लाए थे मंटो, जो ख़ौफ का दूसरा नाम था

1.67 K
शेयर्स

सआदत हसन मंटो उर्दू भाषा के बेबाक कहानीकार. कहते थे – “ये बिल्कुल मुमकिन है कि सआदत हसन मर जाए और मंटो जिंदा रह जाए.” हुआ भी वही. 11 मई 1912 को जन्मे और 18 जनवरी 1955 को नहीं रहे. जाने के बाद उन्हें और ज़्यादा चाहा गया, सराहा गया. उनकी ख़ूबी थी कि अपनी कहानियों के माध्यम से वो सीधे आंखों में देखकर सवाल करते थे. मुद्दा चाहे कोई भी हो – इश्क हो, अमानवीय घटनाएं हों, दुख हों, मुल्कों के झगड़े हो. अपने 42 साल के जीवन में उन्होंने लघु कथा संग्रह, उपन्यास, रेडियो नाटक, रचनाएं और व्यक्तिगत रेखाचित्र प्रकाशित किए.

हम यहां उन्हें याद कर रहे हैं किसी और कारण से. वो ये कि उन्होंने हिंदी सिनेमा को एक ऐसा विलेन दिया जो ख़ौफ का ऐसा पर्याय था कि मां-बाप ने अपने बच्चों का नाम उस पर रखना छोड़ दिया था. लड़कियां उनके ज़िक्र मात्र से डरती थीं. एक एक्टर के तौर पर जो उनकी जीत थी. बात कर रहे हैं जबरदस्त एक्टर प्राण की.

हिंदी सिनेमा के कभी न भुलाए जा सकने वाले विलेन प्राण जो असल ज़िंदगी में जबरदस्त इंसान थे.

मंटो का बरख़ुरदार = प्राण

प्राण को मंटो रूपवान और हसीन दिखने वाला गबरू जवान कहते थे. उन्होंने एक बार बताया था कि प्राण को लाहौर का बंदा-बंदा जानता था. इसके दो बड़े कारण थे. पहला उनका ड्रेसिंग सेंस और दूसरा उनका सजीला दिखने वाला तांगा. वो वक़्त था जब शहर में लोगबाग तांगों से सफ़र किया करते थे. इसलिए तांगा व्यक्ति के पहचान का हिस्सा होता था.

तो मंटो प्राण को बॉलीवुड कैसे लाए?

बात शुरू होती है 1942 के लाहौर में. जब प्राण वहां की फिल्मों में काम करते थे. कुछ साल बाद इंडिया-पाकिस्तान का बंटवारा हुआ तो उन्हें वो जगह छोड़कर हिंदुस्तान आना पड़ा. वे बंबई आ पहुंचे. जोश से भरे, मायानगरी पहुंच तो गए पर वहां काम कैसे मिले? रोल ढूंढ़ने के साथ छोटी-मोटी नौकरियां भी करते रहे. जैसे मरीन ड्राइव के पास होटल डेल्मार में उन्होंने जॉब की. फिर 1948 में जाकर उन्हें वो मौका मिला जिसने उन्हें बॉलीवुड में स्थापित होने में मदद की.

मंटो और उनके मित्र एक्टर श्याम
एक्टर सुंदर श्याम चड्ढा जिन्होंने नरगिस स्टारर ‘मीना बाज़ार’ (1949) और अशोक कुमार अभिनीत ‘समाधि’ (1950) में काम किया था.

मंटो जानते थे कि प्राण अच्छे एक्टर हैं. क्योंकि लाहौर की उनकी पिछली से वे वाकिफ थे. इस आधार पर उन्होंने अपने दोस्त श्याम चड्ढा से बात की. वो ख़ुद हिंदी फिल्मों में एक्टर थे. बड़े-बड़े एक्टर्स के साथ काम करते थे. उन्होंने श्याम को प्राण के बारे में बताया तो उनकी मदद से प्राण को काम मिला.

ये काम था ‘बॉम्बे टॉकीज़’ की फिल्म ‘जिद्दी’ में. ये वही फिल्म थी जिसे करने के बाद देव आनंद को पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा था. डायरेक्टर शाहिद लतीफ की इस फिल्म में हीरोइन थीं कामिनी कौशल औऱ नेगेटिव रोल में थे प्राण. 1948 में आई इस फिल्म ने प्राण को बॉलीवुड में जमा दिया. इस फिल्म से शुरू हुई विलेन वाली अपनी छवि से वो सबसे ज्यादा जाने गए.


वीडियो देखें- वो एक्टर जिसके बिना हिंदी सिनेमा अधूरा ही रहता

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Story of how iconic Bollywood villain Pran was introduced by Saadat hasan manto

कौन हो तुम

बजट के ऊपर ज्ञान बघारने का इससे चौंचक मौका और कहीं न मिलेगा!

Quiz खेलो, यहां बजट की स्पेलिंग में 'J' आता है या 'Z' जैसे सवाल नहीं हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.