Submit your post

Follow Us

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे का वर्ल्ड रिकॉर्ड बना, लेकिन वो टीम 'ऑस्ट्रेलिया' नहीं थी!

साल 2011 में लगातार 10वीं बार विश्वकप हारने के बाद एंड्र्यू स्ट्रॉस की कप्तानी से छुट्टी हुई और कुक के रूप में टीम को नया कप्तान मिला. लेकिन 2011 से ही वनडे क्रिकेट में एलिस्टर कुक के पीछे-पीछे इओन मॉर्गन भी चल रहे थे. वो मॉर्गन, जिसमें इंग्लिश चयनकर्ता भविष्य का एक शानदार कप्तान देख रहे थे. पहली बार इंग्लिश सलेक्टर्स की नज़र एक ऐसे कप्तान पर पड़ी थी, जो उनके विश्व विजय होने के सपने को सच करने वाला था.

2015 विश्वकप में भले ही इंग्लैंड को हार मिली. लेकिन अब पूरी तरह से टीम की कमान इओन मॉर्गन के हाथों में थी. मॉर्गन के जोड़ीदार के रूप में टीम को नए कोच मिले ट्रेवर बेलिस. ट्रेवर ऑस्ट्रेलिया के रहने वाले थे. इन दोनों के कंधों पर अब इंग्लैड टीम का भविष्य था.

दोनों ने धीरे-धीरे एक टीम तैयार करना शुरू की. 2019 विश्वकप में सिर्फ एक साल का वक्त बचा था. टूर्नामेंट से ठीक पहले हर मैच एक टेस्ट की तरह था. जिस जून-जुलाई के महीने में इंग्लैंड को विश्वकप खेलना था. उससे ठीक एक साल पहले उसे ऑस्ट्रेलिया की टीम इंग्लैंड आई. इंग्लैंड के लिए विश्वकप के एक साल के काउंटडाउन को शुरू करने का इससे बढ़िया मौका नहीं हो सकता था.

australia ball tempering bancroft

जिस ऑस्ट्रेलिया के नाम से दुनिया की बड़ी-बड़ी टीमें कांपती थी, उस ऑस्ट्रेलिया को अब कोई सीरियसली लेने के लिए तैयार नहीं था. वजह थी 2018 मार्च के महीने में हुआ बॉल टेम्परिंग स्कैंडल. इस स्कैंडल की वजह से ऑस्ट्रेलिया की तैयार टीम विश्वकप से एक साल पहले ही तबाह हो गई. कई सीनियर खिलाड़ियों की टीम से छुट्टी हो गई.

3 मई 2018 को हुआ कोच का ऐलान

जहां इंग्लैंड की टीम लगभग तीन साल से आने वाले विश्वकप की तैयारी में लगी थी, वहीं ऑस्ट्रेलिया के लिए इस सीरीज़ की तैयारी के लिए सिर्फ 40 दिन का वक्त था. 13 जून को सीरीज़ का पहला वनडे ओवल के मैदान पर खेला जाना था, जबकि 2 मई यानी 40 दिन पहले तक ऑस्ट्रेलियंस को ये नहीं पता था कि भविष्य की तैयारी किस तरह से करनी है और उनका कोच कौन है?

फिर तीन मई के दिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के सीईओ के साथ आए जस्टिन लैंगर. ऑस्ट्रेलिया के नए कोच, जिन्होंने टीम मीटिंग में ये साफ कर दिया था कि इस बार हमारी टीम एक अलग रंगरूप में खेलेगी. पहले की तरह स्लेजिंग नहीं, गाली-गलौज नहीं. उन्हें अपनी टीम से कहा था कि हम बिना ऐसा किए भी शानदार क्रिकेट खेल सकते हैं.

Justin Langer
ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर

इस सीरीज़ में इंग्लैंड का पलड़ा एकतरफा भारी था, क्योंकि जहां इंग्लैंड की टीम दुनिया की सबसे खतरनाक टीमों में से एक थी, वहीं ऑस्ट्रेलियाई टीम एक नौसिखाया नज़र आ रही थी.

साउथ अफ्रीका में जो कुछ हुआ, अब ऑस्ट्रेलिया को एक नया विश्वास हासिल करना था. अपने फैंस को, अपने देश को यकीन दिलाना था कि हम वही ऑस्ट्रेलिया हैं, जिसने एक नहीं कई-कई बार अपने देश के लिए जी-जान लगाया है.

ऑस्ट्रेलिया पांच वनडे और एक टी20 खेलने इंग्लैंड के दौरे पर आई. ऑस्ट्रेलिया पांच मैचों की वनडे सीरीज़ के पहले दोनों मुकाबले हार चुका था. इस हार के बाद लैंगर ने ऑस्ट्रेलियंस में विश्वास भरने की कोशिश की. लेकिन सबकुछ इतना आसान नहीं था, क्योंकि उनकी टक्कर दुनिया की नंबर एक टीम और आत्मविश्वास के साथ खेल रही इंग्लैंड के साथ थी.

ऐतिहासिक तारीख 19 जून 2018, नॉटिंघम ट्रेंट ब्रिज

तीसरा मैच नॉटिंघम के ट्रेंट ब्रिज में खेला जाना था. तारीख थी 19 जून 2018. ऑस्ट्रेलियन टीम पर सीरीज़ में बने रहने का दबाव साफ था. मैच शुरू हुआ, ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने टॉस जीत लिया. लेकिन ये क्या पेन ने पहले गेंदबाज़ी का फैसला किया है. वो भी एक सपाट पिच पर और ऐसे खतरनाक बैटिंग लाइनअप के आगे, जिसमें नंबर आठ तक प्योर-क्लास बल्लेबाज़ी है.

इंग्लैंड की बल्लेबाज़ी

इंग्लैंड के लिए जेसन रॉय और जॉनी बेयरस्टो की जोड़ी पारी की शुरुआत करने उतरी. पहली गेंद पर शॉट के साथ उनके इरादे साफ थे. दोनों ने पहले विकेट के लिए 19 ओवर तक बल्लेबाज़ की और बोर्ड पर स्कोर टांगा 159 रनों का. ऑस्ट्रेलियंस का हावभाव सब बयां कर रहा था. लेकिन 82 रन बनाकर रॉय अब आउट हो गए. उनके आउट होने के बाद मैदान पर उतरे एलेक्स हेल्स.

Alex Hales
एलेक्स हेल्स

ऑस्ट्रेलिया को पता होता कि नंबर तीन का बल्लेबाज़ ऐसी उथल-पुथल मचाएगा, तो शायद विकेट लेने के बारे में सोचते ही नहीं. देखते ही देखते 34 ओवर में टीम का स्कोर 310 रन तक पहुंच गया. बेयरस्टो(92 गेंदों में 139 रन) अपना पूरा काम करके वापस जा चुके थे.

लेकिन अब तो असली खेल होना था. पारी की आखिरी 90 गेंदों में ही हेल्स और मोर्गन को अपना असली काम जो करना था. अभी तो एंड्र्यू टाय (10 ओवर में 100 रन) के साथ वो होना था, जिसे वो हमेशा याद रखेंगे.

एलेक्स हेल्स ने अपनी एक बाह चढ़ाई और ऑस्ट्रेलिया पर चढ़ाई कर दी. उन्होंने एक के बाद एक पांच छक्के और 16 चौके लगाए. उन्होंने अपनी पारी में 147 रन ठोके. वहीं दूसरी तरफ कप्तान मोर्गन ने तो सिर्फ 30 गेंदों में 67 रनों की पारी खेल डाली. इस दौरान पहले तो उन्होंने अपने ही वनडे क्रिकेट के पुराने सबसे बड़े स्कोर 444 को पीछे छोड़ा और इतिहास में अपना नाम दर्ज करवा लिया.

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन चेहरे पर ग्लव्स रखकर निराश नज़र आ रहे थे, क्योंकि अब सबकुछ उनके बस के बाहर था. मैदान पर खड़ी उस ऑस्ट्रेलियाई टीम को देखकर ऐसा बिल्कुल भी नहीं लग रहा था कि ये वही टीम है, जिसने 1999 से 2007 तक विश्व क्रिकेट पर एकछत्र राज किया है. भले ही इस टीम ने पीली जर्सी पहनी है, लेकिन शायद ये ऑस्ट्रेलिया नहीं है. ऑस्ट्रेलियन टीम तो वो होती थी, जो शेर की गुफा में भी हाथ डालकर हिस्सा छीन लाती थी. लेकिन इस टीम में वो बात नज़र नहीं आती. क्रिकेट इतिहास के सबसे बड़े स्कोर वाले इस मुकाबले में इंग्लैंड ने 242 रनों के विशाल अंतर से ऑस्ट्रेलिया को हरा दिया.

इस प्रदर्शन के बाद पूरी दुनिया में इंग्लैंड टीम की एक ऐसी छवि बनी कि अगर दुनिया की किसी भी टीम को विश्वकप जीतना है, तो उसे इंग्लैंड नाम के हर्डल को पार करना ही होगा. लेकिन 2019 विश्वकप में इंग्लैंड नाम के हडल को कोई भी टीम पार नहीं कर सकी.

इस ऐतिहासिक मैच में दुनिया ने वर्ल्ड क्रिकेट में वनडे का सबसे बड़ा स्कोर देखा. वो भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ. ऑस्ट्रेलियाई इतिहास के पन्नों में ये शर्मनाक रिकॉर्ड दर्ज है. कई साल के बाद जब ऑस्ट्रेलिया या दुनिया की नई पीढ़ी इस रिकॉर्ड को देखेगी और सोचेगी कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इतना बड़ा रिकॉर्ड? तो ये कहानी शायद ही उन्हें पता हो कि ये वो ऑस्ट्रेलियाई टीम नहीं थी, जो अपने विरोधी को 481 तो क्या 281 बनाने में भी नाको चने चबवा देती थी.


क्रिकेट टीम को लेकर हॉन्ग कॉन्ग जा रहे जहाज के साथ ऐसा क्या हुआ कि वह ताइवान के पास डूब गया? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020