Submit your post

Follow Us

वो क्रांतिकारी जिसकी धरपकड़ के लिए अंग्रेजों ने पूरी CID लगा रखी थी

‘ज़िंदगी ज़िदा-दिली को जान ऐ रोशन
वरना कितने ही यहां रोज फ़ना होते हैं.’

-ठाकुर रोशन सिंह

काकोरी ट्रेन डकैती के लिए अंग्रेजों ने अशफ़ाक़, ‘बिस्मिल’, राजेंद्र लाहिड़ी के साथ रोशन सिंह को जिम्मेदार माना था. ब्रिटिश अदालत ने चारों को 5-5 साल की बामशक़्क़त क़ैद और फांसी की सजा सुनाई  थी. पर मौत का फ़रमान सुनकर यह वीर नौजवान खिलखिलाकर हंस पड़े थे. फांसी, ताउम्र क़ैद में भी तब्दील हो सकती थी, लेकिन जेल में किसको बैठना था. ये मतवाले तो चाहते थे कि उन्हें फांसी ही हो और ये बात ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे. आज़ादी की लड़ाई और धारदार हो जाए. लोगों के दिल में गुस्से का ज्वालामुखी फट पड़े.

img1121218055_1_2

ठाकुर रोशन सिंह 22 जनवरी 1892 में पैदा हुए थे. रोशन सिंह और रामप्रसाद ‘बिस्मिल’ में बहुत ही गाढ़ी दोस्ती थी. दोनों में हमेशा इस बात का कॉम्पटीशन रहता था कि ठाकुर रोशन सिंह देश के काम पहले आएगा या रामप्रसाद. ‘बिस्मिल’, रोशन कैे साथी उनको ठाकुर बोल-बोलकर तंग किया करते थे.

19 दिसंबर 1927 का वो दिन भी आया जब बिस्मिल और रोशन सिंह साथ में फांसी के तख़्ते पर चढ़ने जा रहे थे. रोशन सिंह ने अपनी रौबीली मूंछ पर ताव देते हुए ‘बिस्मिल’ से कहा, ‘देख, ये ठाकुर भी जान की बाजी लगाने में पीछे नहीं रहा.’

काकोरी कांड में रोशन नहीं थे शामिल?

अमर शहीद ठाकुर रोशन सिंह
शहीद ठाकुर रोशन सिंह

इतिहास के कुछ जानकारों का कहना है कि 9 अगस्त 1925 को लखनऊ के पास काकोरी स्टेशन के पास जो सरकारी खजाना लूटा गया था, उसमें ठाकुर रोशन सिंह शामिल नहीं थे इसके बावजूद उन्हें 19 दिसंबर 1927 को इलाहाबाद के नैनी जेल में फांसी पर लटका दिया गया.

36 साल के ठाकुर रोशन सिंह की उमर के ही केशव चक्रवर्ती काकोरी डकैती में शामिल थे और उनकी शक्ल रोशन सिंह से मिलती थी. अंग्रेजी हुकूमत ने यह माना कि रोशन ही डकैती में शामिल थे. केशव बंगाल की अनुशीलन समिति के सदस्य थे फिर भी पकडे़ रोशन सिंह गए. लेकिन अंग्रेजों को सबूत नहीं मिल पा रहे थे. ताकि उनकी धरपकड़ कर सकें.

25 दिसंबर 1924 की बमरौली डकैती हुई और इस डकैती में रोशन सिंह भी शामिल थे. इस बार अंग्रेजों को सबूत हाथ लग गए थे. अब तो अंग्रेज पुलिस ने सारा जोर ठाकुर रोशन सिंह को फांसी की सजा दिलवाने में ही लगा डाला. इस डकैती के सबूतों को अंग्रेजों ने काकोरी के लिए इस्तेमाल किया. केशव चक्रवर्ती को उसके बाद ढूंढा तक नहीं गया और रोशन सिंह को ही काकोरी कांड का आरोपी बना डाला.

दिलेर रोशन सिंह की जबर दिलदारी

ठाकुर रोशनसिंह  ने 6 दिसंबर 1927 को इलाहाबाद में नैनी की मलाका की काल-कोठरी से अपने एक मित्र को पत्र लिखा था,

‘इस सप्ताह के भीतर ही फांसी होगी. आप मेरे लिये रंज हरगिज न करें. मेरी मौत खुशी का सबब होगी. यह मौत किसी प्रकार के अफसोस के लायक नहीं है. दुनिया की कष्ट भरी यात्रा समाप्त करके मैं अब आराम की जिन्दगी जीने के लिये जा रहा हूं’

बताते हैं कि रोशन सिंह फांसी के पहले ज़रा भी उदास न थे. वो अपने साथियों से कहते रहते थे कि उन्हें फांसी दे दी गई, कोई बात नहीं. उन्होंने तो जिंदगी का सारा सुख उठा लिया लेकिन बिस्मिल, अशफाक और लाहिडी़ जिन्होंने जीवन का एक भी ऐशो-आराम नहीं देखा, उन्हें इस बेरहम बरतानिया सरकार ने फांसी पर चढ़ाने का फैसला क्यों लिया.


ये भी पढ़ें-

बिस्मिल और अशफाक उल्ला खां की दोस्ती का किस्सा, जो मौत के बाद ही खत्म हुआ

ये थी भगत सिंह को फांसी की असली वजह

भगत सिंह के 20 क्रांतिकारी विचार

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.