Submit your post

Follow Us

सोनू सूद से मदद मांगने वालों ने अपने ट्वीट क्यों डिलीट किए थे, पता चल गया

अभिनेता सोनू सूद. इस समय देश के अलग-अलग हिस्सों में लॉकडाउन की वजह से फ़ंसे लोगों को उनके घर पहुंचा रहे हैं. पहले बसों का इंतज़ाम कर रहे थे. अब ट्रेन और फ़्लाइट्स का भी सहारा ले रहे हैं. दावा है कि घर जाते मज़दूरों से कोई भी पैसा नहीं लिया जा रहा है.

ट्विटर पर सोनू सूद से सबसे ज़्यादा मदद मांगी जा रही है. और हालिया बवाल भी. 7 जून को ट्विटर पर लोगों ने ध्यान दिया कि सोनू सूद को मदद के लिए जो ट्वीट किए गए थे, ऐसे कई सारे ट्वीट डिलीट कर दिए गए. इसके बाद विवाद का दौर शुरू हुआ. क़यास लगाए जाने लगे कि सोनू सूद से मदद मांगने वाले अधिकतर लोग फ़र्ज़ी हैं. फिर राजनीति की भी बात शुरू हो गयी. शिवसेना के नेता संजय राउत ने सोनू सूद के बारे में कहा कि महाराष्ट्र से उत्तर भारतीय मज़दूरों को सोनू सूद उनके घर भेज रहे हैं. वे उद्धव ठाकरे सरकार को नीचा दिखाना चाह रहे हैं. लेकिन 8 जून को सोनू सूद उद्धव और आदित्य ठाकरे से मिले. अपने काम के लिए शाबासी पाई. संजय राउत ने ये भी कहा था कि सोनू सूद के पीछे किसी ख़ास पार्टी का हाथ है.

ऐसे में सवाल उठता है कि सोनू सूद के बारे में खुलकर बात की जाए. उनके ट्वीट का सहारा लिया जाए. और देखा जाए कि जो ट्वीट डिलीट किए गए, उनका क्या हिसाब किताब रहा है. और इसमें लल्लनटॉप की मदद की अजयेंद्र ने. यूपी के बलिया के रहने वाले हैं. दो दिन जागकर कोरोना काल के सोनू सूद के सारे ट्वीट खंगाले. लल्लनटॉप के साथ शेयर किया. और पता चला कि हो क्या रहा है.

सबसे पहले डिलीट किए गए ट्वीट की बात. अव्वल तो सोनू सूद ने जिन ट्वीट्स का रिप्लाई किया, या उन्हें रिट्वीट किया, उनमें से कुछ ट्वीट फ़र्ज़ी थे. और कुछ दूसरे लोगों की मदद करने से जुड़े हुए थे. कुछ ट्वीट तो ऐसे थे, जो दूसरे लोगों की मदद करने के लिए सोनू सूद को किए गए थे. लेकिन सोनू सूद द्वारा मदद पहुंचाये जाने के पहले ही वे लोग अपने घर की ओर रवाना हो चुके थे, या किसी और संस्था से उन्हें मदद मिल चुकी थी.

इसके बारे में सोनू सूद ने तो ख़ुद ही ट्विटर पर लिखकर आगाह किया. कहा कि आपके ट्वीट करने और डिलीट कर देने से हमारे काम में बाधा पहुँच रही है. अगर मामला सच्चा हो, तभी ट्वीट करिए.

लेकिन ऐसा तो है नहीं कि सोनू सूद को जितने ट्वीट किए गए, या जो ट्वीट डिलीट कर दिए गए, वो सब ही फ़र्ज़ी थे. कुछ ट्वीट असल भी थे. तो उन्हें क्यों डिलीट किया गया? क्या कहानी है?

अजयेंद्र ने कुछ चीज़ें खोदकर निकाली हैं. जिनसे कुछ बात साफ़ होती है. उदाहरण के साथ देखिए. नीचे एक अनमोल यादव ने सोनू सूद को मदद के लिए ट्वीट किया. बाद में ट्वीट उपलब्ध नहीं था.

18 मई को अनमोल यादव ने सोनू सूद को ट्वीट किया.
18 मई को अनमोल यादव ने सोनू सूद को ट्वीट किया.

अनमोल यादव का अकाउंट खोजने पर पता चलता है कि उनका ट्विटर अकाउंट प्रोटेक्टेड है. शायद बाद में उन्होंने प्रोटेक्टेड कर दिया हो. इस वजह से उनके ट्वीट अब नहीं दिख रहे हैं.

अनमोल यादव

ऐसे कई सारे केस हैं, जहां अकाउंट को प्रोटेक्ट कर दिया गया है. और इस वजह से ट्वीट नहीं दिख रहे हैं. इसके बाद कई सारे ट्वीटर अकाउंट ऐसे हैं, जो अकाउंट ही पूरे-पूरे डिलीट कर दिए गए. रिसर्च करने वालों का मानना है कि देखकर ऐसा लगता है कि शायद अकाउंट घर पहुंचने के लिए मदद मांगने के लिए ही बनाए गए थे.

लेकिन कुछ लोग ऐसे हैं, जिन्होंने सोनू सूद से मदद मांगी. और मदद मिल गयी. और उन्होंने अपना मदद मांगने वाला ही ट्वीट डिलीट किया. बाद में उन्होंने सोनू सूद को रिप्लाई करके शुक्रिया कहा. उदाहरण देखिए बनारस के रहने वाले शुभम साहू का.

इसके साथ ही कुछ लोगों ने दूसरों के लिए मदद मांगी. और मदद मांगने वाले ट्वीट में उनके फ़ोन और आधार नम्बर साझा कर दिए. इसके बाद लोगों ने उन्हें समझाया. तो मदद मांगने वालों ने अपनी ग़लती मानी. और ध्यान देने का वादा किया. शायद इस वजह से ट्वीट भी डिलीट किया. साद अहमद का उदाहरण देखिए.

 

एक यूज़र दिव्या गुप्ता ने भी सोनू सूद से कुछ प्रवासियों के लिए मदद मांगी. इसके बाद अपना ट्वीट डिलीट कर दिया. लेकिन उसके बाद सोनू सूद को ट्वीट किया. और डोनेशन देने की पेशकश की.

 

इसके अलावा कई सारे लोग ऐसे हैं, जिन्होंने सोनू सूद से मदद मांगने वाला ट्वीट डिलीट कर दिया. लेकिन उनके ट्विटर खाते पर दूसरे ट्वीट मौजूद हैं. उनकी पर्सनल डिटेल के साथ. फ़ोन नंबर के साथ. उनमें से कुछ से हमने बात करने की कोशिश की. कुछ ने कहा कि सोनू सूद से मदद मिल गयी. कुछ ने कहा कि दूसरे NGO या सरकारी व्यवस्था से घर जाने की व्यवस्था हो गयी.

कुछ ट्वीट डिलीट करने वाले लोगों ने साफ़ कहा, हमारी पर्सनल डिटेल है. फ़ोन नम्बर है. इसलिए ट्वीट डिलीट कर रहे हैं.

इतना सब काम करने वाले अजयेंद्र बताते हैं कि अधिकतर ट्वीट जो डिलीट किए गए हैं, उन्हें पर्सनल डिटेल छिपाने के लिए ही डिलीट किया गया है. बाक़ी या तो अकाउंट ही बंद हैं या तो अकाउंट सेक्योर कर दिया गया. जिसके बाद ट्वीट ही नहीं दिख रहे हैं.

इसके अलावा इन ट्वीट्स का किसी ख़ास पार्टी लाइन से लेना देना नहीं है. कई सारे लोग ऐसे हैं, जिन्होंने मोदी सरकार या भाजपा या कांग्रेस पार्टी की आलोचना की है. तरफ़दारी की है. जो अकाउंट खुले हैं, वहां जाकर उनके पिछले ट्वीट्स को देखा जा सकता है. लेकिन यहां पर सब ओपन है. सोनू सूद की तरफ़ से सभी को रिप्लाई किया जा रहा है.

ऐसे में सोनू सूद का क्या कहना है? बातचीत में सोनू सूद ने दी क्विंट से बताया,

“मुझे लगता है कि बहुत सारे लोग अपनी मंज़िल तक पहुंच गए. मदद मिल गयी. अब उनके नम्बर सोशल मीडिया पर मौजूद होंगे, तो उन्हें अब भी फ़ोन आ रहे होंगे. तो मुझे लगता है शायद इतने कॉल्स से बचने के लिए उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया हो. इसकेअलावा बहुत सारे लोग ऐसे हैं, जो अपना नम्बर देते हैं. और हमारी तरफ़ से फ़ोन जाने पर अपना ट्वीट डिलीट कर देते हैं. कहते हैं कि हमें बस आपसे बात करनी थी.”


सोनू सूद ने एक बार फिर चार्टेड फ्लाइट से 173 मज़दूरों को उनके घर पहुंचाया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.