Thelallantop

वाटरप्रूफ स्मार्टफोन हो गया पानी से खराब, तब क्या...

वाटरप्रूफ स्मार्टफोन को भी होता है पानी से नुकसान

हमारे एक दोस्त नए-नए तैराक बने हैं. दरअसल, थोड़ा फिट रहने का शौक था तो सोचा क्यूं न तैराकी की जाए. तैराकी तो चल ही रही थी इसी दरमियान पूरे पचास हजार खर्च करके नया Smartphone लिया था, IP67 रेटिंग थी तो अति उत्साह में तरणताल में गोते लगाने की जगह सीधे नदी में डुबकी लगाई और बना डाला बढ़िया सा वीडियो. वीडियो पोस्ट करते इसके पहले ही स्मार्टफोन ने काम करना बंद कर दिया. भागे-भागे पहुचे कंपनी के सर्विस सेंटर. जहां पता चला कि वाटर डैमेज पर कोई वारंटी नहीं है.

थके हारे हमारे पास आए. अपना दुखड़ा रोने लगे तो हमने उनको समझाया कि कंपनी ने तो कभी कहा ही नहीं कि फोन पर वाटर डैमेज या लिक्विड डैमेज होने पर वारंटी मिलती है, बल्कि उन्होंने तो इतना ही कहा कि फोन IP67 रेटिंग अप्रूव्ड है और वाटर एण्ड डस्ट रेसिस्टेंट है. आपको ये पूरा झोल समझ आया क्या? नहीं न तो चलिए हम समझाते हैं कि क्यूं स्मार्टफोन कंपनियां वाटर डैमेज पर कोई वारंटी नहीं देतीं और आईपी रेटिंग क्या बला है.

सबसे पहले IP रेटिंग

IP रेटिंग चार अंकों का एक शब्द होता है, जैसे कि IP67 या IP68 आपने आमतौर पर देखा होगा. पहले दो शब्द आईपी का मतलब है इन्ग्रेस प्रोटेक्शन जिसका अर्थ है कि बाहर से किसी चीज के अंदर आने पर कितनी सुरक्षा मिलेगी. तीसरे और चौथे अंक नंबर हैं, जैसे कि 67 और 68 जो क्रमशः धूल और पानी से बचाव के लिए होते हैं. धूल के लिए 6 इस्तेमाल होता है जो अधिकतम रेटिंग है. छोटे रेत या बारीक धूल से बचाने के लिए. आखिरी अंक 7 या 8 पानी से बचाव की रेटिंग को बताता है और ये भी अधिकतम 8 होता है. कुल मिलाकर यदि आपका स्मार्टफोन IP68 रेटिंग वाला है तो धूल और पानी से अधिकतम बचाव मिल सकता है.

IP रेटिंग क्या है…इस पर बात हो गई. अब जानिए कि वास्तव में ये काम कैसे करता है. आईपी रेटिंग, दरअसल एक आइडियल कंडीशन के लिए मान्य होती है जैसे कि साफ पानी में और एक तय समय के लिए. यदि स्मार्टफोन IP68 रेटिंग का है तो साफ पानी में 1.5 मीटर गहराई तक और 30 मिनट के लिए वाटर रेसिस्टेंट है या फिर IP67 है तो 1 मीटर तक. अब आप समंदर में गहराई तक डुबकी मार रहे हैं, पानी भी खारा है तो फिर भूल जाइए कि कोई प्रोटेक्शन मिलेगा. आसान भाषा में समझिए कि आपका फोन टेबल पर रखा था और ग्लास से पानी गिर गया या फिर बाथरूम में वॉश बेसिन में नलके के पानी से सामने आपका फोन गिरा और आपने तुरंत उठा लिया तभी आईपी रेटिंग काम करेगी.

कंपनी कितना भी ऐड करे कि फोन हमारा वाटरप्रूफ है. इसका मतलब ये बिल्कुल ही नहीं है कि आपके फोन को पानी से कोई डैमेज नहीं होगा. ज़्यादातर परिस्थितियों में फोन सिर्फ वाटर रेसिस्टेंट होते हैं. एक आइडियल कंडीशन के बाद स्मार्टफोन को नुकसान होना तय है. ऐसे में वारंटी की नियम और शर्तें अहम हो जाती हैं. आमतौर पर वारंटी में फिजिकल डैमेज शामिल नहीं होता और लिक्विड डैमेज भी फिजिकल डैमेज ही है तो वारंटी कवर मिलना संभव नहीं. हो सकता है कि किसी विशेष ऑफर में कंपनी की ओर से वन टाइम फिजिकल डैमेज प्रोटेक्शन मिल भी जाए. लेकिन आमतौर पर यह सुविधा नहीं मिलती.

वीडियो: वॉट्सऐप वेब के ये फीचर आपके बहुत काम आएंगे

Read more!

Recommended