Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

गलत मंत्र से जन्मा राक्षस, निगलने चला देवताओं को

11
शेयर्स

राक्षसों से एक बार लड़ाई में इंद्र ने मदद ली थी विश्वरूप से. लेकिन विश्वरूप सिर्फ देवताओं की साइड नहीं थे. उनकी मम्मी असुर थीं इसलिए उनको असुरों से भी प्यार था. कहते हैं उनके तीन सिर और उसमें तीन मुंह थे- एक इंसानों वाला, एक देवता वाला, और एक असुर वाला. देवताओं के साथ यज्ञ करते हुए विश्वरूप का मन असुरों के लिए पिघल गया और चोरी से असुरों के नाम से भी आहुति देने लगे.

इंद्र ने उन्हें ताड़ लिया. वो गुस्से में भूल गए कि ब्रह्मा जी ने उन्हें बताया था कि विश्वरूप असुरों से भी प्यार करते हैं और यज्ञ में यह बात बर्दाश्त करनी होगी. इंद्र फुर्ती में उठे और हपक के विश्वरूप का सिर काट दिए. उनको लग गया पाप, वो भी ऐसा वैसा नहीं, ब्रह्महत्या का.

विश्वरूप के पापा थे त्वष्टा. उनको आया बहुत जबर गुस्सा और इंद्र को भस्म करने के लिए वह डालने यज्ञ में आहुति. पर गुस्से में वह गलत मंतर पढ़ गए. बस सावधानी हटी, दुर्घटना घटी. ऑन द स्पॉट पैदा हो गया राक्षस वृत्रासुर. पैदा होते ही वह दौड़ा देवताओं को निगलने. इंद्र जो हथियार चलाए तो राक्षसवा एक्कै सेकेंड में सब काट दीहिस.

दधीचि से मदद मांगने पहुंचे देवता
दधीचि से मदद मांगने पहुंचे देवता.                                                                                                                                                    चित्र: जगन्नाथ

देवता सब रोते हुए पहुंचे भगवान विष्णु के पास. विष्णु सीधे बोले- मैटर आउट ऑफ कंट्रोल है. वृत्रासुर को मारने के लिए हथियार इंपोर्ट करने पड़ेंगे. चले जाओ दधीचि ऋषि के पास. उनकी हड्डियों से बने हथियार से ही ये राक्षस मर सकता है. इंद्र ने सारा ईगो बाजू रखकर दधीचि से रिक्वेस्ट की. जब दधीचि ने क्रॉस क्वेश्चन किया कि भाई हम ही क्यों शहीद हों, तब इंद्र ने उन्हें विष्णु जी के ऑर्डर के बारे में बताया. दधीचि फाइनली मान गए और अपना शरीर त्याग कर दिया. विश्वकर्मा जी ने उनकी हड्डियों से बनाया हथियार- वज्र.

फाइट भयानक थी और कई दिनों तक चली. न इंद्र हार मानते थे न वृत्रासुर. अंत में इंद्र ने दधीचि वज्र से राक्षस के हाथ काट दिए. राक्षस भी कम नहीं था, उसने इंद्र को ऐरावत के साथ निगल लिया. पर इंद्र डबल सेफ थे. उनके पास विश्वरूप का दिया हुआ नारायण कवच था जिससे वो बच गए. अंत में वृत्रासुर का पेट चीरकर ऐरावत के साथ बाहर निकल आए और राक्षस का हो गया काम तमाम.

(श्रीमद्भगवत महापुराण)

क्या आप दधीचि की संतान का नाम बता सकते हैं?
  1. अथर्वा
  2. पिप्पलाद
  3. गभस्तिनी
  4. चित्ति

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
shrimad bhagwat katha in Hindi: The story of vritrasura vs Indra

कौन हो तुम

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला के बारे में 9 सवाल

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल खेलते हैं.

कितनी 'प्यास' है, ये गुरु दत्त पर क्विज़ खेलकर बताओ

भारतीय सिनेमा के दिग्गज फिल्ममेकर्स में गिने जाते हैं गुरु दत्त.

इंडियन एयरफोर्स को कितना जानते हैं आप, चेक कीजिए

जो अपने आप को ज्यादा देशभक्त समझते हैं, वो तो जरूर ही खेलें.

इन्हीं सवालों के जवाब देकर बिनिता बनी थीं इस साल केबीसी की पहली करोड़पति

क्विज़ खेलकर चेक करिए आप कित्ते कमा पाते!