Submit your post

Follow Us

गलत मंत्र से जन्मा राक्षस, निगलने चला देवताओं को

राक्षसों से एक बार लड़ाई में इंद्र ने मदद ली थी विश्वरूप से. लेकिन विश्वरूप सिर्फ देवताओं की साइड नहीं थे. उनकी मम्मी असुर थीं इसलिए उनको असुरों से भी प्यार था. कहते हैं उनके तीन सिर और उसमें तीन मुंह थे- एक इंसानों वाला, एक देवता वाला, और एक असुर वाला. देवताओं के साथ यज्ञ करते हुए विश्वरूप का मन असुरों के लिए पिघल गया और चोरी से असुरों के नाम से भी आहुति देने लगे.

इंद्र ने उन्हें ताड़ लिया. वो गुस्से में भूल गए कि ब्रह्मा जी ने उन्हें बताया था कि विश्वरूप असुरों से भी प्यार करते हैं और यज्ञ में यह बात बर्दाश्त करनी होगी. इंद्र फुर्ती में उठे और हपक के विश्वरूप का सिर काट दिए. उनको लग गया पाप, वो भी ऐसा वैसा नहीं, ब्रह्महत्या का.

विश्वरूप के पापा थे त्वष्टा. उनको आया बहुत जबर गुस्सा और इंद्र को भस्म करने के लिए वह डालने यज्ञ में आहुति. पर गुस्से में वह गलत मंतर पढ़ गए. बस सावधानी हटी, दुर्घटना घटी. ऑन द स्पॉट पैदा हो गया राक्षस वृत्रासुर. पैदा होते ही वह दौड़ा देवताओं को निगलने. इंद्र जो हथियार चलाए तो राक्षसवा एक्कै सेकेंड में सब काट दीहिस.

दधीचि से मदद मांगने पहुंचे देवता
दधीचि से मदद मांगने पहुंचे देवता.                                                                                                                                                    चित्र: जगन्नाथ

देवता सब रोते हुए पहुंचे भगवान विष्णु के पास. विष्णु सीधे बोले- मैटर आउट ऑफ कंट्रोल है. वृत्रासुर को मारने के लिए हथियार इंपोर्ट करने पड़ेंगे. चले जाओ दधीचि ऋषि के पास. उनकी हड्डियों से बने हथियार से ही ये राक्षस मर सकता है. इंद्र ने सारा ईगो बाजू रखकर दधीचि से रिक्वेस्ट की. जब दधीचि ने क्रॉस क्वेश्चन किया कि भाई हम ही क्यों शहीद हों, तब इंद्र ने उन्हें विष्णु जी के ऑर्डर के बारे में बताया. दधीचि फाइनली मान गए और अपना शरीर त्याग कर दिया. विश्वकर्मा जी ने उनकी हड्डियों से बनाया हथियार- वज्र.

फाइट भयानक थी और कई दिनों तक चली. न इंद्र हार मानते थे न वृत्रासुर. अंत में इंद्र ने दधीचि वज्र से राक्षस के हाथ काट दिए. राक्षस भी कम नहीं था, उसने इंद्र को ऐरावत के साथ निगल लिया. पर इंद्र डबल सेफ थे. उनके पास विश्वरूप का दिया हुआ नारायण कवच था जिससे वो बच गए. अंत में वृत्रासुर का पेट चीरकर ऐरावत के साथ बाहर निकल आए और राक्षस का हो गया काम तमाम.

(श्रीमद्भगवत महापुराण)

क्या आप दधीचि की संतान का नाम बता सकते हैं?
  1. अथर्वा
  2. पिप्पलाद
  3. गभस्तिनी
  4. चित्ति
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?