Submit your post

Follow Us

पालघरचा राजा, जो ऑस्ट्रेलिया से लेकर इंग्लैंड तक विदेशियों को कूट रहा है

ना बल्लेबाज़ों जैसी तकनीक और ना ही तेज़ गेंदबाज़ों जैसा डील-डौल. लेकिन फिर भी बड़े मौज में बंदा पालघर से भारतीय क्रिकेट टीम तक चला आया. और आया तो ऐसा आया कि छा ही गया. समझ तो आप गए ही होंगे, और ना समझे तो समझ लीजिए बात शार्दुल ठाकुर की हो रही है.

वही शार्दुल जिन्होंने ब्रिस्बेन में घुसकर ऑस्ट्रेलिया को पटका और अब ओवल में अंग्रेज़ों को नचा दिया. भारतीय क्रिकेट टीम के हॉट सेंसेशन बने शार्दुल बचपन से ही ऐसे थे. आक्रामक और दृढ़ संकल्प से लबरेज़. सालों पहले की बात है, मुंबई की अंडर-23 टीम के ट्रायल्स वाली माधव मंत्री ट्रॉफी खेली जा रही थी. शार्दुल भी खेल रहे थे. और इसी खेल में एक बल्लेबाज़ ने उन्हें लंबा छक्का टांग दिया.

ओवर खत्म करके वो बाउंड्री पर टीम के 12th मेन के पास आए. बेहद गुस्सा. पहले तो उससे अपने बैग से शर्ट निकालने के लिए कहा. और फिर बोले,

‘बाहर निकल कर मारा है ना, अब दिखाता हूं उसको. समझता क्या है अपने आपको. तू रुक मैं दिखाता हूं उसको.’

इसके बाद शार्दुल गेंद फेंकने गए और पूरा ज़ोर लगाकर बाउंसर दे मारी. बल्लेबाज़ हिल गया. इसके बाद अगली गेंद सीधे उस बल्लेबाज़ के ऑफ स्टम्प पर जाकर लगी. ठाकुर ने वो ही किया जो उन्होंने कहा था.

# कोच बने गॉडफादर

मुंबई से लगभग दो घंटे की दूरी पर स्थित पालघर नाम की छोटी सी जगह से टीम इंडिया तक पहुंचे शार्दुल जब सिर्फ 14 साल के थे. तो उनके कोच दिनेश लाड की नज़र उन पर पड़ी. स्कूल क्रिकेट में कांदीवली के स्वामी विवेकानंद स्कूल का मैच बोइसर के तारापुर विद्या मंदिर से था. बोइसर की टीम में शार्दुल थे और दिनेश कांदीवली की टीम के कोच थे.

दिनेश लाड ने देखा सामने वाली टीम का एक लड़का बढ़िया पेस और खूबसूरत ऐक्शन के साथ बेहतरीन आउट स्विंगर्स फेंक रहा है. उस लड़के ने दिनेश की टीम को खूब परेशान किया. वो एक एंड से लगातार बोलिंग कर रहा था. और कोच समझ गए कि उसमें कुछ तो खास बात है.

Shardul Thakur Instagram
शार्दुल ठाकुर. फोटो: शार्दुल इंस्टाग्राम

लाड उस मैच के तुरंत बाद 14 साल के शार्दुल के पास गए और कहा कि वो उनके स्कूल को जॉइन कर ले. शार्दुल का घर उस स्कूल से बहुत दूर था. इसलिए कोच ने उन्हें एक साल तक अपने घर पर रहने का ऑफर भी दिया. इसके बाद शुरू हुआ शार्दुल की क्रिकेट का असली सफर.

# स्पीडगन पर छाए

टीनेज में शार्दुल अपनी टीम के पेस अटैक के सबसे छोटी कदकाठी वाले लड़के थे. लेकिन फिर भी उनके एटीट्यूड में कोई कमी नहीं थी. बिल्कुल मुंबईकर टाइप. जब शार्दुल 16 साल के थे तो उन्होंने 123kmph की स्पीड फेंक कई जानकारों को हैरान कर दिया.

उन्होंने ‘Gatorade Pacers’ के 2008 के एडिशन में श्रीसंत, टीए शेखर और उदय गुप्ता जैसे जजों के सामने स्पीडगन पर ये स्पीड निकाल प्रतियोगिता को जीत लिया. जिसके बाद उन्हें MRF पेस फाउंडेशन के लिए चुन लिया गया.

# बचपन का शौक

ठाकुर सिर्फ तेज़ गेंदबाज़ी तक अपने खेल को सीमित नहीं रखना चाहते थे. वो बल्लेबाज़ी में भी कुछ ऐसा करना चाहते थे जिससे वो भारत के लिए खेल सकें. शुरुआत से ही शार्दुल बल्लेबाज़ी में हाथ दिखाते रहे. मुंबई की मशहूर हैरिस शील्ड क्रिकेट टूर्नामेंट में साल 2006 में शार्दुल ने जूनियर और सीनियर लेवल का एक बड़ा रिकॉर्ड बनाया. उन्होंने एक ओवर में छह छक्के ठोक दिए.

इन छह छक्कों समेत शार्दुल ने अपनी इस पारी में कुल 10 छक्के और 20 चौके लगाए. उन्होंने सिर्फ 73 गेंदों में 160 रन ठोके. जिसके बाद सभी को ये समझ आ गया कि इस लड़के के पास बैटिंग और बोलिंग दोनों टैलेंट हैं. शार्दुल के बारे में कहा जाता है कि वो शुरुआती दिनों से ही एक कायदे के ऑलराउंडर थे जो कि तेज़ गेंदबाज़ी के साथ गेंद पर धोनी माफिक ज़ोरदार अटैक करते थे.

Shardul Thakur Mumbai
मुंबई के लिए खेलते शार्दुल की तस्वीर. फोटो: Shardul Instagram

लेकिन साल 2012 में मुंबई रणजी टीम के लिए सलेक्ट होने के बाद उनका फोकस पूरी तरह से फास्ट बोलिंग की तरफ डाइवर्ट हो गया. क्योंकि जिस वक्त वो टीम में आए, उन्हें ये पता था कि टीम को एक पेसर की ज़रूरत है वो उस गैप को फिल कर सकते हैं. उन्होंने मुंबई में उस गैप को भरा भी.

शार्दुल ने 65 फर्स्ट-क्लास मैचों में 218 विकेट चटकाए. हालांकि अपनी बैटिंग का नमूना उन्होंने बाद में मुंबई क्रिकेट में भी कई बार दिखाया. मुंबई क्रिकेट को करीब से पहचानने वाले लोग शार्दुल के बैटिंग टैलेंट से अनजान नहीं हैं.

Shardul Kxip
किंग्स इलेवन पंजाब के लिए शार्दुल ठाकुर. फोटो: Shardul Instagram

मुंबई के लिए डेब्यू के दो साल बाद शार्दुल का IPL में भी चयन हो गया. साल 2014 में पंजाब के लिए चुने गए. पहले दो सीज़न में उन्हें सिर्फ एक मैच खेलने को मिला. उस वक्त शार्दुल इतने निराश हो गए थे कि उन्होंने अपने कोच को फोन मिलाया और कहा,

‘मुझे मौका मिलने दो मैं इन्हें दिखा दूंगा.’

और फिर शार्दुल वो मौका मिला साल 2017 में, जब धोनी के साथ वो राइज़िंग पुणे सुपरजाएंट्स के लिए पहला मैच खेले. उन्होंने उस सीज़न में 11 विकेट निकाले. इसके बाद वो धोनी के साथ CSK चले गए और 2018 का सीज़न तो और भी बेमिसाल रहा. उन्होंने इस सीज़न 18 विकेट निकाले. और जो कहा था, वो दिखा दिया.

शार्दुल ठाकुर ने 2017 में पहली बार भारतीय टीम की नीली जर्सी पहनी. इसके बाद 2018 में वो भारत की T20 टीम का हिस्सा बन गए. लेकिन उन्हें टीम इंडिया की टेस्ट कैप मिली साल 2020 में. जब ऑस्ट्रेलिया पहुंचा भारत का आधा दल चोटिल था और टीम हार के दरवाज़े पर खड़ी थी.

Shardul Brisbane
ब्रिस्बेन में शार्दुल ठाकुर की पारी. फोटो: AP

विवेक राज़दान की ज़ुबान बोलें तो शार्दुल ने गाबा में ऑस्ट्रेलिया का घमंड तोड़ा. और उस मैच में बल्ले से 67 रनों की मैच विनिंग पारी भी खेली. अब इंग्लैंड में जाकर शार्दुल ने जिस तरह की बल्लेबाज़ी की है. भारतीय क्रिकेट फैन शार्दुल को पालघरचा राजा बुलाने में परहेज़ नहीं कर रहे हैं.


शार्दुल ठाकुर के शानदार प्रदर्शन पर हार्दिक पंड्या ट्रोल क्यों हो रहे? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.