Submit your post

Follow Us

ऑस्ट्रेलिया का वो खिलाड़ी जो चोटिल न होता तो साइमंड्स और क्लार्क टीम में न आ पाते!

‘शेन वॉटसन की मास्टरक्लास पारी, चेन्नई तीसरी बार बना आईपीएल चैंपियन’

28 मई 2018. अख़बारों की सुर्खियां ऑस्ट्रेलिया के शानदार ऑलराउंड क्रिकेटर शेन वॉटसन की तारीफों से भरी पड़ी थीं. पिछली रात ही वॉटसन ने आईपीएल 2018 के फाइनल मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद की गेंदबाजी की बखिया उधेड़ दी थी. 57 गेंदों में नाबाद 117 रन. हैदराबाद की खौफनाक गेंदबाजी का फुक्का फूट चुका था. वॉटसन की पूरी पारी लयबद्ध थी. वह खिलाड़ी जो पिछले सीजन में 8 मैचों में सिर्फ 71 रन बना पाया था. गेंदबाजी में उसके खाते में सिर्फ 5 विकेट दर्ज थे. आईपीएल 2017 में उसकी टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने नई नीलामी में वॉटसन को अपने साथ रखा तक नहीं था. लेकिन दो साल के प्रतिबंध के बाद वापसी कर रही चेन्नई सुपरकिंग्स को इस खिलाड़ी पर पूरा भरोसा था. वॉटसन ने इस भरोसे को मजबूत कर दिया. गजब का खेला. वॉटसन ने अपने आईपीएल कैरियर में 3575 रन बनाए हैं और 92 विकेट हासिल किए हैं. इन 134 मैचों में 4 शतक और 177 छक्के लगाए हैं. एक बेहतरीन कैरियर रिकॉर्ड जिसपर कोई भी दूसरा खिलाड़ी रश्क करेगा. गेंदबाज भी और बल्लेबाज भी.

शेन वाटसन का आईपीएल कैरियर लाजवाब रहा है.
शेन वाटसन का आईपीएल कैरियर लाजवाब रहा है.

फाइनल में शेन वॉटसन की पारी देख रहे उनके ही देश के क्रिकेटर मार्क्स स्टोइनिश ने कहा,

‘ऑस्ट्रेलिया ने इस खिलाड़ी की अहमियत कभी नहीं समझी. अगर वे आज भी ऑस्ट्रेलिया के लिए वापसी करते हैं तो यह बेमिसाल होगा.’

लेकिन वॉटसन संन्यास के बाद वापसी के लिए कभी तैयार नहीं हुए. उन्होंने 27 मार्च 2016 को मोहाली में भारत के खिलाफ टी20 मैच के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था. क्रिकेट में संन्यास के बाद वापसी करने की परंपरा रही है. पर वॉटसन ने इसके लिए कभी ‘हां’ नहीं कहा.

17 जून 2020 को शेन वॉटसन अपना 39वां जन्मदिन मना रहे हैं. इसी तारीख को 1981 में क्वीन्सलैंड के इप्सविच में वो पैदा हुए. पहली बार लिस्ट ए क्रिकेट खेला तस्मानिया की तरफ से. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण के बाद वे वापस क्वीन्सलैंड के लिए खेलने लगे. अपने पांचवें लिस्ट ए मैच में ही उन्होंने शतक लगाया. साल भर बाद वे ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय टीम में थे. वो भी ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज खिलाड़ी स्टीव वॉ के स्थान पर. लेकिन वॉटसन पहले मैच में फ्लॉप हो गए. उनको दूसरा बड़ा झटका तब लगा जब वे उस मैच के तुरंत बाद चोटिल होकर टीम से बाहर हो गए. जो खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया के लिए मिशन 2003 वर्ल्ड कप के तहत टीम में शामिल किया गया था. वह खिलाड़ी सिर्फ एक मैच खेलकर टीम से बाहर हो चुका था. उस वक्त ऑस्ट्रेलिया के महानतम ऑलराउंडर रहे एलन डेविडसन ने लिखा था, ‘उसके पास सारी क्षमताएं हैं. वह एक बेहतरीन खिलाड़ी, लाजवाब एथलीट है. उसे समय चाहिए.’ शेन वॉटसन के स्थान पर तब एंड्रयू साइमंड्स को शामिल किया गया. साइमंड्स इस मौके को भुनाने के लिए तैयार बैठे थे. ऐसा ही एक किस्सा 2006 में हुआ जब हैमस्ट्रिंग की चोट से परेशान वॉटसन की अनुपस्थिति ने माइकल क्लार्क की सफलता का द्वार खोल दिया.

आईपीएल में छाए और टीम में आए

2008 का साल आ चुका था. टी-20 क्रिकेट में इतिहास रचने की शुरुआत हो रही थी. इसी साल आईपीएल शुरू हुआ. शेन वॉटसन को राजस्थान रॉयल्स की टीम ने खरीदा. 1.25 लाख डॉलर की कीमत में. बंदे ने इस सीजन में 472 रन और 17 विकेट निकाले. पहले सीजन के मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट रहे. और उनकी टीम आईपीएल 1 की विजेता थी. दोहरी खुशी. पर एक तीसरी खुशी शेन वॉटसन का इंतजार कर रही थी.

वॉटसन ने सेंचुरी मार चेन्नई को जिताया था आईपीएल.
वॉटसन ने सेंचुरी मार चेन्नई को जिताया था आईपीएल.

आईपीएल में मिली सफलता के बाद शेन वॉटसन मालदीव में छुट्टियां मनाने की तैयारी कर रहे थे. तभी उनके पास संदेश आया, वेस्टइंडीज पहुंचने का. मैथ्यू हेडेन चोट की वजह से ऑस्ट्रेलियाई टीम के बाहर हो चुके थे. वॉटसन ने ओपनर बल्लेबाज के तौर पर सीरीज में हिस्सा लिया. 5 मैचों की वनडे सीरीज के तीसरे मैच में उन्होंने अपने कैरियर का पहला शतक लगाया. टूर्नामेंट के हर मैच में कम से कम एक विकेट हासिल किया. यह एक बड़े खिलाड़ी के बनने की शुरुआत थी. इस सीरीज को ऑस्ट्रेलिया ने 5-0 के अंतर से जीता था.

टी20 के मास्टर पर टेस्ट में फेल

2005 का साल. जनवरी का महीना. वॉटसन को टेस्ट टीम के लिए चुना गया. पाकिस्तान के खिलाफ. पहली गेंद फेंकने के दौरान ही वॉटसन धड़ाम हो चुके थे. मुंह के बल जमीन पर. बड़ा सवाल था, क्या वॉटसन अपने कैरियर में ऊपर उठ कर सीधे चल पाएंगे! वॉटसन ने पूरे मैच में 19 ओवर फेंके और सिर्फ 1 विकेट हासिल किया. सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए वॉटसन ने घबराते हुए 31 रन बनाए. टेस्ट में पहला विकेट मिला पाकिस्तान के दिग्गज बल्लेबाज यूनिस खान का.

शेन वॉटसन के पिता टेस्ट क्रिकेट के शौक़ीन हैं, लेकिन वॉटसन सीमित ओवरों के क्रिकेट में अपनी पहचान बनाने में अधिक कामयाब रहे. वॉटसन के ऑलराउंडर बनने का किस्सा भी रोचक है. वे अपनी क्रिकेट के शुरुआती दिनों में तेज गेंदबाज बनना चाहते थे. क्रेग मैकडरमाट के जैसा. फिर बल्लेबाजी का चस्का चढ़ा तो सामने मार्क वॉ और रिकी पोंटिंग की मूर्ति थी.

कितने मैच अकेले अपने बल पर जिताए

5 अक्टूबर, 2009. चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल. न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की. न्यूजीलैंड 9 विकेट पर 200 रन पर ही सिमट गई. 201 के मिले लक्ष्य को ओपनर शेन वॉटसन के शतक ने बेहद आसान बना दिया. 45.4 ओवरों में सिर्फ 4 विकेट खोकर ऑस्ट्रेलिया ने यह लक्ष्य हासिल कर लिया. ऑस्ट्रेलिया ने चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीत लिया था. शेन वॉटसन फाइनल में मैन ऑफ़ द मैच घोषित हुए.

वॉटसन टेस्ट में ज्यादा अच्छा नहीं कर सके.
वॉटसन टेस्ट में ज्यादा अच्छा नहीं कर सके.

11 अप्रैल 2011. वर्ल्ड कप से क्वॉर्टरफाइनल में बाहर हो चुकी ऑस्ट्रेलियाई टीम बांग्लादेश के दौरे पर थी. वनडे सीरीज के दूसरे मैच में बांग्लादेश ने 50 ओवरों में 229 रनों का स्कोर खड़ा किया. जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने एक तूफान भेजा. शेन वॉटसन. उन्होंने सिर्फ 86 गेंदों पर नाबाद 185 रन ठोंक दिए. 15 चौके और 15 छक्के लगाए. यह ऑस्ट्रेलिया की तरफ से वनडे में किसी भी बल्लेबाज द्वारा बनाया गया सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर है.

टी20 में तो कोई जोड़ नहीं

टी-20 में शेन वॉटसन ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं. टी20 विश्वकप में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के लिए सर्वाधिक विकेट भी लिए हैं और सबसे अधिक छक्के भी लगाए हैं. उन्होंने टी20 क्रिकेट की आईसीसी की ऑलराउंडर क्रिकेटरों की रैंकिंग में पहले स्थान पर रहते हुए क्रिकेट को अलविदा कहा. एक लाजवाब कैरियर का सटीक अंत. पर वॉटसन के जीवन में चोटों का सिलसिला लगातार चलता रहा. इसकी शुरुआत बचपन में ही हो चुकी थी. हैमस्ट्रिंग की चोट से वे लगातार जूझते रहे. कैरियर शुरू होता, फिर थमता रहा. पर हर बार एक अल्पविराम के बाद वो वापसी करते रहे. एक ऐसा खिलाड़ी जिसका संघर्ष, क्लास और कैरियर, सब कुछ देखने और गुनने के योग्य है.

शानदार, जबरदस्त, जिंदाबाद वॉटसन!


ये भी पढ़ें:

IPL में लगातार 5 हाफ सेंचुरी मारने वाले इस खिलाड़ी ने ऑस्ट्रेलिया की लंका लगा दी
हार्दिक पंड्या ने जैसे स्टंप तोड़ा वो उनके 71 रन से ज्यादा खतरनाक और मजेदार है
इंडिया का वो बॉलर, जिसने अपने पोलियो वाले हाथों को अपना हथियार बना लिया

लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.