Submit your post

Follow Us

कहानी शबनम की, जो फांसी पाने वाली भारत की पहली औरत हो सकती है

15 अप्रैल, 2008. यूपी के अमरोहा डिस्ट्रिक्ट का गांव – बावनखेड़ी. रात के लगभग डेढ़ दो बजे होंगे. एक लड़की ज़ोर-ज़ोर से चीखती है. उसकी चीख सुनकर आस पड़ोस वाले इकट्ठा हो जाते हैं. घर के अंदर घुसते हैं तो वहां के हालात देखकर दंग रह जाते हैं. अंदर सात लाशें पड़ी हैं. इस लड़की के परिवार के सारे सदस्य मारे गए हैं. जीवित बची है तो ये 25 साल की लड़की, जिसका नाम शबनम है. जो मरे, वो थे – शबनम के मां-बाप. शबनम के दो भाई. शबनम की एक भाभी. शबनम की एक मौसी की बेटी. शबनम का एक भतीजा.


रुकिए! दरअसल ज़िंदा बचने वालों में केवल शबनम ही नहीं थी. कोई और भी उसके परिवार में था जिसे एक खरोंच तक नहीं लगी. और वो था, उसके पेट में दो महीने का बच्चा.

बहरहाल, इस घटना के चलते इतनी घुप्प रात में उस सुनसान से गांव में भी हड़कंप मच जाता है. आस-पास के गांव से भी भीड़ इकट्ठी हो जाती है. मीडिया से लेकर पुलिस, नेता सब पहुंच जाते हैं. इकट्ठा हुए लोगों के बीच आपस में खुसुर-फुसुर होने लगती है. लेकिन इन सभी बातों में, कानाफूसियों में, अनुमान की मात्रा ज़्यादा और सच की कम, बहुत कम रहती है. क्यूंकि कोई नहीं जानता कि ये सब क्यूं हुआ. कई लोग तो अब तक ये भी सही से नहीं जान पाते कि क्या हुआ. जानते हैं तो बस इतना कि कुछ बुरा, बहुत बुरा हुआ है. ऐसा जो इस गांव को हमेशा के लिए बदल कर रख देगा.

उधर शबनम पछाड़ खाते हुए, बिलखते हुए इस रात की घटना सबको बताती है. कि कैसे लुटेरे उसके घर में घुस गए और उसके पूरे परिवार का क़त्ल कर डाला. वो बच गई क्यूंकि वो बाथरूम में थी.

यूं एक तरफ पुलिस उन लुटेरों की खोजबीन में लग जाती है और दूसरी तरफ तफ्तीश और पोस्टमॉर्टम भी करवा लेती है. उस दिन के कॉल डिटेल्स भी निकाले जाते हैं. लुटेरे तो नहीं मिलते लेकिन बाकी की जांच से निकल कर आता इन कत्लों का घिनौना सच.

ये केस इतना हाई प्रोफाइल बन गया था कि अगले दिन खुद तत्कालीन मुख्यमंत्री शबनम से मिलने और उसे सांत्वना देने आईं.
ये केस इतना हाई प्रोफाइल बन गया था कि अगले दिन खुद तत्कालीन मुख्यमंत्री, मायावती शबनम से मिलने और उसे सांत्वना देने आईं.

दरअसल पुलिस ने तफ्तीश में जाना कि वो लुटेरे नहीं थे जिन्होंने शबनम के परिवार का क़त्ल किया. क्यूंकि अव्वल तो मृतकों द्वारा खुद को बचाने की कोई कोशिश की गई हो, ऐसा किसी भी एंगल से नहीं दिखता था. साथ ही, जो क़त्ल का उद्देश्य शबनम बता रही थी – यानी लूट-पाट – ऐसा पूरे घर में कुछ भी नहीं पाया गया था. और हां, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ये भी पता चला कि मृतकों की हत्या करने से पहले उन्हें बेहोशी की दवाई या कोई ज़हर भी दिया गया था.

तो?

तो, क़त्ल करने वाला घर का ही कोई सदस्य था जिसने तसल्लीबख्श इस घटना को अंजाम दिया था. कोल्ड-ब्लडेड. और यहां पर पुलिस को ‘शेरलॉक होम्स’ की तरह डिडक्शन वाली तरकीब अपनाने की ज़रूरत नहीं थी, शक की सूई एक ही जगह टिकनी थी. शबनम पर. सो टिकी. साथ ही शबनम की कॉल डिटेल्स भी इसी तरफ इशारा कर रही थीं. क़त्ल की रात उसकी एक ही नंबर पर कई बार बात हुई. क़त्ल हो जाने के बाद भी शबनम की उस नंबर पर बात हुई थी. एक और बात भी पुलिस को एक दो दिन बाद ही पता लगी, वो थी शबनम का प्रेगनेंसी. जबकि अभी उसका विवाह नहीं हुआ था. लेकिन ये सब तो बड़े कमज़ोर से सबूत थे. सरकमस्टेंशीयल. परिस्थितिजन्य.

लेकिन सब्सटेंशियल एविडेंस? जैसे क़त्ल करने के लिए यूज़ किया गया या किए गए हथियार. वो कहां से आए, कहां गए? कोई गवाह भी नहीं.

अब पुलिस के पास एक ही चारा बचा था – कड़ी पूछताछ. सो करी. और तब शबनम ने पूरी कहानी बता दी. एक ऐसी कहानी जिसके बाद आज ग्यारह वर्ष होने को आए हैं लेकिन आज भी बावनखेड़ी और आस-पास के गांवों में कोई अपनी लड़की का नाम शबनम नहीं रखता. एक ऐसी कहानी जो शबनम द्वारा पहले बताई गई लुटेरों की कहानी से ज़्यादा अविश्वसनीय थी लेकिन ज़्यादा सत्य थी. वो कहते हैं न कि सच कई-कई बार कल्पना से ज़्यादा अविश्वसनीय होता है.

सलीम
सलीम

दरअसल इस अविश्वसनीय कहानी की शुरुआत होती है शबनम और सलीम के बीच बेइन्तहा प्रेम से.

लेकिन दोनों के परिवारों को, ख़ास तौर पर शबनम के परिवार को ये रिश्ता कतई मंज़ूर न था. उधर शबनम को परिवार का ये रिश्ता मंज़ूर न करना मंज़ूर न था. बस फिर क्या था, जैसे वन फाइन डे होता है, वैसे ही वन बेड नाईट में शबनम ने मौका देखकर और सलीम के साथ प्लानिंग कर इन 7 लोगों की हत्याओं को अंजाम दे दिया. पहले इन दोनों ने सबके खाने में कुछ मिलाया और उसके बाद एक धारदार कुल्हाड़ी से एक के बाद एक, पूरे परिवार की हत्या कर दी. जिस एक इंसान के साथ शबनम उस रात लगातार कॉल में थी वो दरअसल सलीम ही था. सलीम ने भी अपना जुर्म कबूल कर लिया था और वो कुल्हाड़ी, जिससे क़त्ल किया गया था, वो भी ठीक उसी जगह मिली जहां उसने बताई थी. यानी एक गंदले से तालाब के किनारे.

तस्वीर पुरानी और धुंधली है. इसमें उस कुल्हाड़ी की बरामदगी कैद है जिससे सातों कत्ल किए गए थे.
तस्वीर पुरानी और धुंधली है. इसमें उस कुल्हाड़ी की बरामदगी कैद है जिससे सातों कत्ल किए गए थे.

शबनम और सलीम बेशक एक ही धर्म के थे लेकिन जहां शबनम का परिवार वेल ऑफ़ था वहीं सलीम का परिवार गरीबी में जीवन यापन कर रहा था. खुद सलीम जहां मैट्रिक तक की भी पढ़ाई न कर पाया था वहीं शबनम ने डबल एम ए कर रक्खा था. साथ एक ही धर्म के होने के बावज़ूद जहां शबनम सूफी परिवार की थी वहीं सलीम की फैमिली पठानों की थी.

सोचिए ये प्रेम का कैसा कुरूप चेहरा था कि एक दो माह की गर्भवती ने एक आठ माह के नवजात की भी जान ले ली. जी! क़त्ल होने वालों में एक आठ माह का नवजात भी था.

# फ़ास्ट फॉरवर्ड, 2019 –

आज शबनम जेल में है और अपनी फांसी की सज़ा का इंतज़ार कर रही है. सुप्रीमकोर्ट ने निचली अदालतों के द्वारा दी गई उसकी फांसी की सज़ा को बरकरार रखा. उसके बाद शबनम ने राष्ट्रपति से सज़ा माफ़ी की भी गुहार की. लेकिन घटना की विभत्सता देखते हुए, वहां से भी न तो शबनम की सज़ा माफ़ हुई न कम हुई. अब कुछ ही दिनों में सुप्रीमकोर्ट उसके द्वारा फ़ाइल की गई एक रिव्‍यू पेटिशन पर फैसला देने वाला है. उधर सलीम को भी वही सज़ा मिली जो शबनम को. उसकी भी माफ़ी याचना राष्ट्रपित प्रणब मुखर्जी द्वारा अस्वीकार कर दी गई है. उसकी भी रिव्यू पिटिशन पेंडिंग है. अगर रिव्यू पिटिशन में फैसला बरकरार रहता है तो शबनम फांसी की सज़ा पाने वाली आज़ाद भारत की पहली महिला होगी. और ये पूरी स्टोरी हमने आप लोगों को इन दिनों में इसलिए बताई क्यूंकि कुछ ही दिनों में रिव्यू पिटिशन पर फैसल आने वाला है.

उधर जो उसके पेट में दो महीने का बच्चा था वो बड़ा हो गया है. दस साल का. मुस्लिम धर्म के गोद लेने को लेकर कोई नियम तो नहीं है लेकिन वो लड़का इस वक्त एक पत्रकार के पास है.

क़त्ल हुए लोगों की धुंधली तस्वीर
क़त्ल हुए लोगों की धुंधली तस्वीर

हमने उन पत्रकार की और उनके परिवार की पहचान जानबूझकर छुपाई है ताकि बच्चे के भविष्य में इन बातों का ग़लत असर न पड़े. तब जबकि इन सब में उसका कोई दोष नहीं है. वो तो दरअसल इस घटना का आठवां विक्टिम है. वैसे वो पहले सात साल शबनम के साथ ही जेल में पला-बढ़ा लेकिन फिर भी उसे आज तक शबनम और उस रात के बारे में कुछ भी पता नहीं है.

शबनम के लड़के को परवरिश के लिए एक अच्छा परिवार मिलना उसके द्वारा किए गए एक अच्छे कर्म का ही फल कहा जा सकता है. दरअसल जिस पत्रकार की हम बात कर रहे हैं उसके पास जब ट्यूशन फीस के पैसे नहीं होते थे तो शबनम ने कई बार उसकी मदद की थी. शबनम के एहसान को चुकाने का इससे प्यारा तरीका और कुछ नहीं हो सकता.


वीडियो देखें:

मेघालय की खदान में फंसे लोगों का दुश्मन पानी नहीं, सरकार है! –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.