Submit your post

Follow Us

RRB NTPC की 3 साल पहले की भर्ती का रिजल्ट आया तो हंगामा क्यों शुरू हो गया?

बीते दिनों RRB NTPC (रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड्स नॉन टेक्नीकल पॉप्युलर कैटगरीज) एग्जाम का रिजल्ट आया. रिजल्ट आते ही ये सोशल मीडिया पर ट्रेंड होने लगा. इस वजह से नहीं कि परीक्षा होने और रिजल्ट आने में तीन साल लग गए. दरअसल परीक्षा में शामिल अभ्यर्थियों का आरोप है कि RRB NTPC के रिजल्ट में कई तरह की खामियां हैं. अभ्यर्थियों का बड़ा समूह रिजल्ट से नाखुश नजर आ रहा है और अपने साथ नाइंसाफी होने की बात कर रहा है. इसे स्कैम भी बता दिया गया. बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों ने हैशटैग्स चलाने शुरू कर दिए. जिसकी वजह से RRB NTPC से जुड़े कई हैशटैग लगातार ट्रेंड में रहे.

पहले स्टेज की परीक्षा में लग गए तीन साल

रेलवे ने फरवरी 2019 में ‘नौकरियां ही नौकरियां’ वाला विज्ञापन निकाला. NTPC में 35208 पोस्ट की वैकेंसी. परीक्षा के जरिए रेलवे में क्लर्क, टिकट क्लर्क, गुड्स गार्ड, स्टेशन मास्टर, जूनियर क्लर्क सह टाइपिस्ट, कमर्शियल क्लर्क सह टाइपिस्ट जैसे पदों पर भर्ती होती है. इस परीक्षा में तीन स्टेज हैं. पहले दो स्टेज में कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट (CBT) होते हैं. जिसमें बहुकविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं. इन्हें CBT-1 और CBT-2 कहते हैं. तीसरे स्टेज में इंटरव्यू होता है.

यहां ये जानना भी जरूरी है कि NTPC में अलग-अलग लेवल के पदों के लिए एक साथ आवेदन लिया जाता है. इन्हें पे ग्रेड के आधार पर लेवल 2, 3, 4, 5, 6 में बांटा गया है. इसमें कुछ पद ग्रेजुएशन लेवल और कुछ पद 12वीं (10+2) लेवल के होते हैं.

फरवरी 2019 में RRB द्वारा 35208 पदों के लिए जारी नोटिफिकेशन
फरवरी 2019 में RRB द्वारा 35208 पदों के लिए जारी नोटिफिकेशन

NTPC के लिए आवेदन करने वालों की संख्या 1 करोड़ 26 लाख के लगभग थी. जून और सितंबर 2019 के बीच CBT-1 की परीक्षा आयोजित होनी थी. लेकिन नहीं हुई. 2019 बीता, 2020 भी बीत गया. परीक्षा पूरी हुई अगस्त 2021 में जाकर. वो भी दर्जनों राउंड के विरोध प्रदर्शन के बाद. परीक्षा के बाद CBT-1 का रिजल्ट आया 15 जनवरी 2022 को. जिसके बाद परीक्षा में शामिल अभ्यर्थियों ने सोशल मीडिया पर हल्ला बोल दिया.

समस्या क्या है?

परीक्षा में शामिल अभ्यर्थियों का आरोप है कि RRB ने नोटिफिकेशन में कुल पदों के सापेक्ष 20 गुना अभ्यर्थियों को CBT-1 में सेलेक्ट करने की बात कही थी. लेकिन रिजल्ट जारी किया तो ऐसा न करके एक अभ्यर्थी के रोल नंबर को ही कई बार सेलेक्ट कर लिया. परीक्षा में शामिल एक अभ्यर्थी लाहरी ने दी लल्लनटॉप से बात करते हुए कहा,

रेलवे ने रिक्त पदों का 20 गुना (यानी लगभग 7 लाख) अभ्यर्थियों को लेने के बजाय 20 गुना रोल नंबरों को CBT 2 के लिए क्वलिफाई कर दिया है. रिजल्ट जारी होने के बाद ये सामने आया कि जो उम्मीदवार क्वालिफाइड हैं, उनमें से कई के रोल नंबर एक से ज्यादा बार काउंट किए गए हैं.

रेलवे की मंशा पर सवाल उठाते हुए एक और अभ्यर्थी आबिद कहते हैं,

CBT-2 में एक अभ्यर्थी चार या पांच पोस्ट के लिए सेलेक्ट हुआ है. ऐसे में जब एक अभ्यर्थी को चार या पांच पोस्ट के लिए फाइनल सेलेक्शन मिल जाएगा तो फिर रेलवे किसे पोस्टिंग देगा? क्योंकि अभ्यर्थी तो एक ही है, इसलिए एक ही पोस्ट के लिए जॉइन कर पाएगा और बाकी पोस्ट खाली रह जाएगी. तीन साल से इन्होंने भर्ती अटका रखी है. दरअसल इन्हें पूरी पोस्ट ही नहीं भरनी है.

ग्रेजुएशन और 10+2 के लिए एक ही परीक्षा

ग्रेजुएशन और 10+2 लेवल के लिए एक ही तरह की परीक्षा आयोजित करने पर भी सवाल उठ रहे हैं. अभ्यर्थियों का कहना है कि अगर पेपर 10+2 लेवल का था तो जाहिर सी बात है फायदा ग्रेजुएशन वाले को होगा. एक अभ्यर्थी शैलेश कुमार कहते हैं,

आप कहते हो सब नोटिफिकेशन के हिसाब से हो रहा है. लेकिन आपने नोटिफिकेशन में तो ये भी कहा था कि परीक्षा 2019 में ही होगी और परीक्षा आप 2021 में ले रहे हैं, रिजल्ट 2022 में दे रहे हैं, उसका क्या? क्यों आपने 2 साल बर्बाद किए बच्चों के? जब इन्होंने  फॉर्म भरवाया था तब मेरा ग्रेजुएशन का फाइनल रिजल्ट नहीं आया था, जिसके कारण मुझे 10+2 लेवल के पदों पर ही फॉर्म डालना पड़ा था.

अब जब रिजल्ट आया है तो ग्रेजुएशन वालों का कट ऑफ अलग है और 10+2 वालों का अलग है. इनके अलग-अलग कट ऑफ़ के चलते हम 10+2 वाले तो बर्बाद हो गए. जब पेपर अलग-अलग होता है तो बारहवीं और ग्रेजुएशन के पदों का कट ऑफ़ अलग-अलग हो समझ में आता है (जैसा की ये मुख्य परीक्षा में करने वाले हैं), लेकिन समान पेपर के लिये अलग-अलग कट ऑफ़ तो 10+2  पदों के बच्चों के लिये सरासर नाइन्साफी है.

अभ्यर्थियों का कहना है कि जब ग्रेजुएशन और 10+2 लेवल के पदों के लिए एक कॉमन परीक्षा ली गई तो कट ऑफ भी कॉमन ही दी जानी चाहिए थी. लेकिन कट ऑफ प्रारंभिक परीक्षा के बाद ही पोस्ट वाइज दे दी गई है. इससे 10+2 के छात्रों के पदों पर भी स्नातक छात्रों का कब्जा हो गया है. जबकि ये प्रोसेस मुख्य परीक्षा (CBT-2) के बाद होना चाहिए था न कि प्रारंभिक परीक्षा (CBT-1) के बाद.

नॉर्मलाइजेशन पर सवाल

अभ्यर्थियों ने परीक्षा में किए गए नॉर्मलाइजेशन की प्रक्रिया पर भी सवाल खड़े किए हैं. नॉर्मलाइजेशन की प्रक्रिया उन परीक्षाओं में लागू होती है जो कई दिनों तक चलती हैं. जैसे कोई परीक्षा अगर चार दिन तक आयोजित होती है तो चारों दिन अभ्यर्थियों को अलग-अलग प्रश्न पत्र दिया जाता है. परीक्षा का लेवल हर पारी में और हर दिन अलग-अलग होता है. हो सकता है कि किसी दिन का पेपर सरल हो और किसी दिन का कठिन. ऐसे में जिस दिन का पेपर सरल था उस दिन परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों के सेलेक्ट होने का चांस बढ़ जाता है, और जिस दिन का पेपर कठिन हो उस दिन परीक्षा देने वालों का चांस घट जाता है. इस समस्या से निपटने के लिए नॉर्मलाइजेशन की प्रक्रिया को फॉलो किया जाता है.

दो कैंडिडेट्स के स्कोरकार्ड का स्क्रीनशॉट. पहले में रॉ स्कोर 52 है और नॉर्मलाइज्ड स्कोर 71. जबकि दूसरे में रॉ स्कोर 60 होने के बाद भी नॉर्मलाइज्ड स्कोर 63 ही है.
दो कैंडिडेट्स के स्कोरकार्ड का स्क्रीनशॉट. पहले में रॉ स्कोर 52 है और नॉर्मलाइज्ड स्कोर 71. जबकि दूसरे में रॉ स्कोर 60 होने के बाद भी नॉर्मलाइज्ड स्कोर 63 ही है.

नॉर्मलाइजेशन होने के बाद कुछ अभ्यर्थियों के नंबर बढ़ जाते हैं तो कुछ के घट जाते हैं. NTPC की परीक्षा में एक करोड़ 26 लाख अभ्यर्थी थे. इस वजह से ये काफी लंबा चला. इसलिए इसमें नॉर्मलाइजेशन भी हुआ. जिसकी वजह से अभ्यर्थियों में काफी रोष भी है. परीक्षा में शामिल मृदुल बताते हैं,

बोर्ड ने किस प्रकार से नॉर्मलाइजेशन किया ये भी स्पष्ट नहीं है. क्योंकि कुछ उम्मीदवारों के एक समान रॉ स्कोर होने के बावजूद नॉर्मलाइज्ड स्कोर अलग-अलग हैं. किसी के बहुत ज्यादा और किसी के बहुत कम नंबर हैं. जो की समझ से परे है. और इस वजह से बहुत से अभ्यर्थी कट ऑफ क्रॉस करने में कुछ नंबरों से रह गए हैं.

लेट-लतीफी

साल 2019 के फरवरी महीने में RRB NTPC की वैकेंसी आई थी. फेज-1 का रिजल्ट आने में तीन साल लग गए और अभी भी आगे के कई फेज बचे हुए हैं. उम्मीदवारों का ये भी कहना है कि बहुत से अभ्यर्थी इस लेट-लतीफी के कारण ओवरएज हो गए हैं. उनका कहना है कि रेलवे बोर्ड को स्पष्ट रूप से बताना चाहिए कि कब कौन से चरण की परीक्षा होगी और भर्ती प्रक्रिया कब तक पूरी होगी. मृदुल बताते हैं,

भर्ती बोर्ड ने प्रक्रिया को छह महीने में पूरा कर लेने की बात की थी और सेलेक्टेड उम्मीदवारों को जॉइनिंग देने की बात भी जल्द से जल्द कही गई थी. लेकिन तीन साल बीत गए और परीक्षा का पहला फेज अब जाकर पूरा हुआ है. अभी भी बाकी के फेज बचे हुए हैं.

परीक्षा में शामिल एक और अभ्यर्थी अवनीश हमें बताते हैं,

पहले उम्मीदवारों ने परीक्षा की तारीख जारी करने के लिए धरना प्रदर्शन किया. फिर पहले फेज के रिजल्ट के लिए सोशल मीडिया पर प्रदर्शन किया गया. अगर ऐसा ही हर बार होता रहा तो वो हमारे लिए अच्छी बात नहीं है और ये सरकारी तंत्र की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े करता है.

रेलवे बोर्ड ने क्या कहा?

रिजल्ट आने के बाद से ही RRB पर सवाल उठने लगे तो रेल मंत्रालय की ओर से जवाब भी आ गया. रेल मंत्रालय की ओर से जारी प्रेस रिलीज में बिंदुवार आपत्तियों पर जवाब दिया गया है.

रिक्तियों के 20 गुना उम्मीदवारों को CBT 2 के लिए शॉर्टलिस्ट करने की बात पर बोर्ड ने साफ किया कि नोटिफिकेशन के पैरा 13.2 के अनुसार CBT 2 में प्रत्येक लेवल के लिए अलग परीक्षा होगी और CBT 1 में सभी के लिए समान परीक्षा होगी. जिसके आधार पर रिक्तियों के हिसाब से 20 गुना उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया गया है.

नोटिफिकेशन के पैरा 13.2 के अनुसार CBT 2 में प्रत्येक लेवल के लिए अलग परीक्षा होगी और CBT 1 में सभी के लिए समान परीक्षा होगी.
नोटिफिकेशन के पैरा 13.2 के अनुसार CBT 2 में प्रत्येक लेवल के लिए अलग परीक्षा होगी और CBT 1 में सभी के लिए समान परीक्षा होगी.

बोर्ड ने ये भी कहा कि नोटिफिकेशन में कहीं भी ये बात नहीं कही गई थी की 7 लाख अलग-अलग उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा, क्योकि CBT 2 में सभी लेवल (2, 3, 4, 5, 6, 7) के लिए अलग-अलग परीक्षा होती है तो एक उम्मीदवार को एक से अधिक पदों के लिए शॉर्टलिस्ट किया जा सकता है.

वहीं कट ऑफ काफी ऊपर होने के जवाब में बोर्ड ने कहा कि ये नॉर्मलाइज्ड स्कोर के आधार पर जारी की जाती है, जो कि कुल रिक्त पदों पर भी निर्भर करती है. इसका पूर्ण रूप से ध्यान रखते हुए CBT 1 का रिजल्ट भी उसी आधार पर जारी किया गया है.

हालांकि तीन साल से भर्ती पूरी होने के इंतजार में बैठे अभ्यर्थी रेल मंत्रालय के जवाब से असंतुष्ट हैं और अभी भी रिवाइज्ड रिजल्ट जारी करने की मांग कर रहे हैं.

(ये स्टोरी हमारे साथ इंटर्नशिप कर रहे प्रशांत ने की है.)


रंगरूट. दी लल्लनटॉप की एक नई पहल. जहां पर बात होगी नौजवानों की. उनकी पढ़ाई-लिखाई और कॉलेज यूनिवर्सिटी कैंपस से जुड़े मुद्दों की. हम बात करेंगे नौकरियों, प्लेसमेंट और करियर की. अगर आपके पास भी ऐसा कोई मुद्दा है तो उसे भेजिए मेल के जरिए हमारे पास. हमारा पता है rangroot@lallantop.com


राजस्थान में REET, सब इंस्पेक्टर के बाद अब ये पेपर हुआ लीक!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.