Submit your post

Follow Us

जिस मेथड से सांप काटने की दवा तैयार होती है, उसी से बनेगी कोरोना की दवा!

CCMB. पूरा नाम – सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्युलर बायोलॉजी (The Centre for Cellular & Molecular Biology). देश के प्रीमियर रिसर्च ऑर्गनाइज़ेशन में से है. हैदराबाद से काम करता है और इस वक्त बहुत ज़रूरी काम कर रहा है. CCMB एंटी-कोविड ड्रग तैयार करने की प्रोसेस में है. इसमें उनका हाथ बंटा रहा है Vins Biotech. इस ड्रग यानी दवा VINCOV-19 का जानवरों पर ट्रायल सफल रहा है. 26 अप्रैल को इसे क्लीनिकल ट्रायल यानी इंसानों पर ट्रायल की भी अनुमति मिल गई. ये भी सफल रहा तो आप समझ सकते हैं कि Covid-19 महामारी के दौर में ये कितनी राहत की बात होगी!

हम इस पूरी बात को, प्रक्रिया को आसानी से समझने की कोशिश करते हैं.

CCMB और Vins Biotech क्या हैं?

CCMB के बारे में हमने आपको बताया ही. हैदराबाद से काम करता है. 1977 से CCMB काम कर कर रहा है, जो जीव विज्ञान से जुड़े तमाम रिसर्च करता रहता है. फिलहाल इसका फोकस कोविड-19 से जुड़े ऐसे रिसर्च पर ही है, जो महामारी में कुछ राहत दे सकें.

Vins Biotech 1997 से काम कर रही है और सांप के जहर के ख़िलाफ ड्रग तैयार करने के मुख्य काम से जुड़ी है. यानी एंटी वेनम ड्रग तैयार करती है. कोबरा और वाइपर जैसे सांपों का एंटी-वेनम ड्रग तैयार कर चुकी है.

हमने CCMB के टेक्निकल ऑफिसर BVN नवीन कुमार और Vins Biotech के PRO समीर सक्सेना से बात की. दोनों ने इस बात की पुष्टि की कि ये दोनों संस्थाएं मिलकर एंटी-वेनम टेक्नीक के आधार पर एंटी-कोविड ड्रग तैयार करने की दिशा में काम कर रही हैं. हालांकि अधिकारी इसकी स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस बताने से अभी परहेज कर रहे हैं क्योंकि मामला पाइपलाइन में है. फिर भी एक मोटा-माटी प्रक्रिया समझने की हमने कोशिश की.

क्या है एंटी वेनम टेक्नीक?

CCMB के डायरेक्टर डॉ राकेश के मिश्रा ने बताया –

“एंटी वेनम टेक्नीक मतलब सांप के ज़हर से ही सांप के ज़हर की दवा बनाने की कारीगरी. एक घोड़े के शरीर में बहुत कम मात्रा में सांप का इनएक्टिवेटेड ज़हर इंजेक्ट कराया जाता है. कुछ दिन में घोड़े के शरीर में इस ज़हर के ख़िलाफ एंटीबॉडी बनने लगती हैं.

इसके बाद घोड़े के शरीर से खून निकालकर उसमें से एंटीबॉडी प्यूरिफाई कर ली जाती है. फिर इन एंटीबॉडी से बना ड्रग आप किसी भी उस व्यक्ति को दे सकते हैं, जिसे इस तरह के सांप ने काटा हो.”

एंटी-कोविड ड्रग कैसे बन रहा?

एंटी-कोविड ड्रग इसी एंटी-वेनम टेक्नॉलजी पर बन रहा है. लैब में कोरोना वायरस को इनएक्टिवेट करके उसे घोड़े के शरीर मे इंजेक्ट कराया गया. अच्छी बात ये रही कि घोड़े के शरीर में कुछ दिनों में कोविड-19 की एंटीबॉडी बनती पाई गई. यानी जानवर पर ये प्रयोग सफल रहा है.

क्या इससे जानवरों को कोई नुकसान नहीं होता?

डॉ राकेश से हमने पूछा कि एंटी वेनम तैयार करने में या अब एंटी कोविड तैयार करने में घोड़ों पर ही क्यों ट्रायल किया जाता है और क्या इससे घोड़ों को कोई नुकसान नहीं होता? उन्होंने बताया –

“घोड़े के शरीर में जब एंटीबॉडी बनती है तो आप उसके शरीर से आसानी से 2 लीटर तक खून निकाल सकते हैं. वो इतना ताकतवर होता है कि इतना खून निकाल लेने से भी उसे कमज़ोरी नहीं आती. बाकी जानवरों से आप इतना खून नहीं निकाल सकते. चूंकि पहले उसे जो वायरस या वेनम दिया जाता है, वो बहुत कम मात्रा में होता है और इसको लैब में पहले ही इनएक्टिवेट कर दिया जाता है तो घोड़े पर इसका बुरा असर नहीं होता. अगर एंटीबॉडी नहीं भी बनी तो जानवर सुरक्षित रहता है.”

ये तो थी डॉक्टर की कही हुई बात. लेकिन चूंकि मामला जानवरों से जुड़ा है तो हमने ये जानने की भी कोशिश की कि इस बारे में एनिमल राइट्स एक्टिविस्ट का क्या कहना है. इसके लिए बात की जानवरों के लिए काम करने वाली संस्था पीपल फॉर एनिमल से जुड़ी गौरी मोलेखी से. उन्होंने कहा –

“किसी भी दवा के लिए, किसी भी प्रयोग के लिए जानवरों का इस्तेमाल करना एक ग़लत परंपरा है. फिर आप एक बात और समझिए. एंटी-वेनम ड्रग तैयार करने के लिए सैकड़ों घोड़ों का इस्तेमाल किया जाता है. अब तो सेना से रिटायर होने वाले तमाम घोड़े भी इस तरह की टेस्टिंग के लिए ही काम में लिए जाते हैं. लेकिन फिर भी हमें जितनी मात्रा में एंटी-वेनम ड्रग चाहिए, उसका एक तिहाई ही हम तैयार कर पाते हैं. अब आप सोचिए कि एंटी-कोविड ड्रग तो इससे कहीं ज़्यादा मात्रा में चाहिए होगा. तो आप कितने घोड़ों का इस्तेमाल करके उतनी मात्रा में दवा तैयार कर पाएंगे? ये जानवरों पर टॉर्चर है.”

जानवरों पर ट्रायल सफल होने के बाद इसके क्लीनिकल ट्रायल के लिए drug controller general of india (DCGI) से अनुमति ली गई.  ये ट्रायल भी सफल हो जाता है तो महामारी के दौर में बड़ी उम्मीद बंधेगी.


मेदांता अस्पताल ने कोरोना से बचने के लिए जो गाइडलाइन बताई है, उसे नोट कर लीजिए!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान.

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.