Submit your post

Follow Us

अब खत्म हुआ इन दो भारतीय दिग्गजों का टेस्ट करियर!

साल 2020 का दिसंबर. एडिलेड में टीम इंडिया 36 रन पर बुक हो गई. बुक हो गई हमारी गंवई क्रिकेट का शब्द है. सोफेस्टिकेटेड लोग जिसे समेटना कहते हैं उसे हमारे गांव-जवार के बालक सब बुक करना. हां, तो इंडिया 36 रन पर बुक हो गई. कप्तान विराट कोहली पहले से तय छुट्टियों पर घर लौट आए. अब टीम की कमान आई अजिंक्य रहाणे के हाथ में. अगला टेस्ट मेलबर्न में था. फ्रंट से लीड करते हुए रहाणे ने सेंचुरी मार दी. भारत ने यह टेस्ट जीत सीरीज 1-1 से बराबर की.

चार मैचों की इस सीरीज के खत्म होने के बाद टीम इंडिया के नाम के आगे विनर लिखा था. यानी भारत ने ऑस्ट्रेलिया के घर में पहला टेस्ट हारने के बाद सीरीज अपने नाम कर ली थी. सीरीज का तीसरा मैच ड्रॉ रहा. टीम इंडिया ने एक बार फिर से पिछड़ने के बाद बेहतरीन वापसी की. और इस वापसी के हीरो रहे चेतेश्वर पुजारा. पुजारा ने दोनों पारियों में हाफ सेंचुरी मारी. और इस दौरान उन्होंने लगभग 400 गेंदें भी खेलीं. पुजारा ने चौथे टेस्ट में भी फिफ्टी मारी. दोनों पारियां मिलाकर 300 से ज्यादा गेंदें खेलीं.

# Cheteshwar Pujara का हाल

फिर इंग्लैंड की टीम इंडिया आई. पुजारा ने पहले ही टेस्ट में फिफ्टी मारी. दूसरे टेस्ट में रहाणे ने फिफ्टी मारी. बाकी के दो टेस्ट में इन दोनों के बल्ले से ही कुछ खास रन नहीं निकले. और इसके बाद इस जोड़ी की अगली फिफ्टी आई इंग्लैंड के खिलाफ चली रही टेस्ट सीरीज के दूसरे टेस्ट में. लॉर्ड्स टेस्ट की दूसरी पारी में रहाणे ने 61 रन बनाए. जबकि इसी सीरीज के तीसरे टेस्ट की दूसरी पारी में में पुजारा ने 91 रन की पारी खेली. मेलबर्न टेस्ट के बाद रहाणे ने एक जबकि पुजारा ने चार फिफ्टी मारी है.

एक दौर था जब पुजारा और रहाणे अपनी बैटिंग से भारत के लिए मैच बचाते थे. लेकिन अब इनके बैट में इतनी भी ताकत नहीं रही कि अपने करियर को बचाने के लिए खड़े हो पाएं. पुजारा की आखिरी सेंचुरी जनवरी 2019 में आई थी. और कुछ ही महीनों में इस बात को तीन साल पूरे हो जाएंगे. ऐसा भी नहीं है कि पिछले तीन साल से पुजारा एकदम नाकाम चल रहे हैं.

पुजारा ने सिडनी की 193 रन की पारी के बाद 22 टेस्ट मैचों में 10 बार 50 का आंकड़ा पार किया है. और इस दौरान तक़रीबन हर पारी में उन्होंने बहुत सारी गेंदें भी खेलीं. यानी सस्ते में निपटी पारियां निकाल भी दें, तो भी पुजारा के पास ठीकठाक अच्छी पारियां हैं. लेकिन इसके बाद भी वह सेंचुरी नहीं मार पा रहे. अक्सर पुजारा क्रीज़ पर अच्छा वक्त बिताने के बाद आउट हो रहे हैं. और उनका लीन पैच कुछ ज्यादा ही लंबा खिंचता दिख रहा है.

इस पूरे वक्त में अगर 2018-19 का ऑस्ट्रेलिया टूर निकाल दें तो पुजारा का ऐवरेज बेहद खराब रहा है. इस दौरान पुजारा ने वेस्ट इंडीज़ में 15, घर में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 36.25, बांग्लादेश के खिलाफ 54.50, न्यूज़ीलैंड में 25, ऑस्ट्रेलिया के हालिया टूर पर 33.87, इंग्लैंड के खिलाफ घर में 22.16 तो अभी चल रहे इंग्लैंड टूर पर 27.66 के ऐवरेज से रन बनाए हैं.

# Ajinkya Rahane

दूसरी ओर हैं रहाणे. मेलबर्न और फिर सीरीज जीत के बाद लोगों ने रहाणे को कप्तान बनाने की मांग कर दी. मतलब जोश तो पहले से था, लेकिन इन रिजल्ट्स ने उस जोश को कई गुना बढ़ा दिया. लोग चाहते थे कि रहाणे को तुरंत प्रभाव से टेस्ट टीम की कप्तानी दे दी जाए.

लेकिन अगर रहाणे की बैटिंग के आंकड़े देखे जाएं, तो कप्तानी तो बाद की बात है, टीम में उनकी जगह ही खतरे में दिखती है. पिछले 22 टेस्ट मैचों में रहाणे के नाम तीन शतक हैं. ये शतक वेस्टइंडीज़ के नॉर्थ साउंड, भारत के रांची और ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहरों में आए हैं. इन शतकों के अलावा रहाणे के नाम सात पचासे भी हैं.

लेकिन एवरेज देखें तो रहाणे ने 2018-19 के ऑस्ट्रेलिया टूर पर 31 की ऐवरेज से रन बनाए. न्यूज़ीलैंड टूर पर 22.75, हालिया ऑस्ट्रेलिया टूर पर 38.28, इंग्लैंड के इंडिया टूर में 18.66, जबकि अभी के इंग्लैंड टूर पर 18.16 की ऐवरेज से रन बनाए हैं. जबकि इसी दौरान वेस्ट इंडीज़ टूर पर उनका ऐवरेज 90 से ज्यादा रहा. साउथ अफ्रीका के खिलाफ घर में रहाणे ने 72 जबकि अपने ही घर में बांग्लादेश के खिलाफ 68 से ज्यादा की ऐवरेज से रन बनाए.

# निष्कर्ष

पुजारा और रहाणे दोनों के लिए चीजें मुश्किल दिख रही हैं. मयंक अग्रवाल, हनुमा विहारी, सूर्य कुमार यादव, शुभमन गिल और पृथ्वी शॉ जैसे प्लेयर्स को बहुत दिनों तक स्क्वॉड के साथ टहलाया नहीं जा सकता. टीम मैनेजमेंट को जल्दी ही इन युवा प्लेयर्स को मौका देना ही होगा. और इन्हें मौका देने के लिए पुजारा और रहाणे को अपनी जगह छोड़नी होगी.

और लगातार खिंचता इनका बुरा दौर इस मामले में इन दोनों की ही मदद करता नहीं दिख रहा. और एक बात तय है, इस उम्र में टीम से ड्रॉप होने का सीधा मतलब है- इंटरनेशनल करियर पर विराम. लगभग 34 के हो चुके पुजारा और 33 पार कर चुके रहाणे के लिए एक बार टीम से बाहर होने के बाद वापसी करना आसान नहीं होगा.


सहसपुर से टीम इंडिया तक का शमी का सफर कैसा रहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.