Submit your post

Follow Us

जब पाकिस्तान में रामानंद सागर का 'रामायण' देखने के लिए चंदा जुटाकर डिश टीवी लिया गया

(ये आर्टिकल हमें लिख भेजा है अभिषेक सिंह राव ने. अहमदाबाद से हैं. स्वतंत्र पत्रकारिता करते हैं. क़िस्से-कहानियों में दिलचस्पी रखते हैं. इसीलिए रामायण से जुड़ा ये क़िस्सा पाकिस्तान से खोज लाए)

कुछ दिन पहले तक रामायण और महाभारत के कारण 80 और 90 के दशक की सुनी सड़कें हमें याद आती थी, लेकिन लॉकडाउन के बाद आज सूनी सड़कों के कारण रामायण और महाभारत की याद आ रही है. 7 मार्च, दी कपिल शर्मा शो. मेहमान थे, रामानंद सागर की रामायण से राम, सीता और लक्ष्मण के किरदार निभाने वाले अरुण गोविल, दीपिका चिखलिया और सुनील लहरी. बहुत से वाकयों के बीच एक वाकया उन्होंने यह भी बताया कि उस दौर में 22 से 30 प्रतिशत फ़ैन-मेल उन्हें पाकिस्तान से आती थी.

26 मार्च, लॉकडाउन के चलते सोशल मीडिया पर लोग रामायण और महाभारत के फिर से दूरदर्शन पर प्रसारण की मांग करने लगे. 27 मार्च को प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि  ‘28 मार्च से दूरदर्शन के नेशनल चैनल पर रामायण का प्रसारण फिर से शुरू होगा.’

प्रकाश जावड़ेकर के इस ट्वीट के बाद हर कोई अपने उस दौर को याद कर रहा है जब कुछ घंटों के लिए पूरा देश ठहर सा जाता था. काम-काज बंद, यातायात ठप्प, सड़कें सुनसान, हर कोई रामायण और महाभारत के माध्यम से अपने टीवी से चिपका रहता था.

# फोन लगाया पाकिस्तान

मैंने मेरे एक पाकिस्तानी मित्र को फ़ोन लगाया. उसका नाम धर्मेंद्र है, जो पाकिस्तान के पंजाब सूबे में बस्ती अमानगढ़, रहीम यार खान में रहता है. मैंने जैसे ही उसे बताया कि ‘भारत सरकार रामायण का री- टेलीकास्ट करने वाली है.’  उसने तुरंत मेरी बात अपने दादाजी मोहब्बत राम दास जी से करवाई जिन्होंने हिन्दू बस्ती को रामायण दिखाने के लिए खूब पापड़ बेले थे.

मोहब्बत राम दास जी बताते हैं-

90 का दशक था जब एक रोज़ हमें पता चला कि पाकिस्तान में सोमवार शाम 7:30 बजे सोनी पर रामायण प्रसारित होगा. हम खुश तो हुए, लेकिन दिक्कत थी कि बस्ती में किसी के भी घर डिश-रिसीवर नहीं था. और इसके लिए 5000 पाकिस्तानी रुपयों की जरूरत थी. चूकि बस्ती में मिडिल क्लास से लोअर मिडिल क्लास तबके के लोग रहते थे इसलिए 5000 रुपया जमा करना किसी एक, दो या तीन घरों के बस की बात नहीं थी. तब हम सब बस्ती वाले इकट्ठे हुए और इस पर चर्चा की. आप मानेंगे नहीं, लेकिन इस बातचीत के बाद हर घर ने अपने सामर्थ्य से 50, 100 रुपये हमें दिए और इस तरह हम डिश-रिसीवर खरीद सके.

हमारी बस्ती के पास में ही एक खाली मैदान था. वहां हमने टीवी लगा दी और बस फिर क्या! सोमवार को 7:30 बजे नहीं कि बस्ती से बच्चे-बूढ़े-महिलाएं-नौजवान हर कोई टीवी के सामने आकर बैठ जाता. बस्ती में क़रीब 100 घर थे. रामायण वाले दिन महिलाएं अपना काम जल्दी ख़त्म कर लेती थीं, आदमी काम-धंधा निपटाकर घर आ जाते थे. और बच्चों के तो मज़े ही मज़े थे. 7:30 से पहले किसी का कोई काम बाकी रह जाए या कहीं बाहर जाना हो तब भी रामायण कोई नहीं छोड़ता था.

मोहब्बत राम दास जी एक बात पर ज़ोर देते हुए कहते हैं कि “हमने और भी बहुत सारी रामायण देखी हैं लेकिन रामानंद सागर जी ने जिस तरह से किरदारों को चुना था और उन किरदारों ने जिस कदर काम किया, मतलब कमाल ही कर दिया. हमारे आँसू रोके नहीं रुकते थे जब हम राम-सीता-लक्ष्मण-भरत-हनुमान को टीवी पर देखते थे.”

तस्वीर में बाएं हैं रामदास जो किसी को अपनी क़िताब भेंट कर रहे हैं. रामदास ने कई किताबें लिखी हैं. (तस्वीर इनके नाती ने उपलब्ध करवाई है)
तस्वीर में बाएं हैं रामदास जो किसी को अपनी क़िताब भेंट कर रहे हैं. रामदास ने कई किताबें लिखी हैं. (तस्वीर इनके नाती ने उपलब्ध करवाई है)

पाकिस्तान में रामायण के प्रभाव के बारे में बात करते हुए मोहब्बत राम दासजी कहते हैं-

यहां के मुसलमान भी रामायण पसंद करते थे. उस दौर में हमारे आस-पास के मुसलमान अक्सर ऐसी बातें किया करते थे और आज भी करते हैं कि ‘अगर भाइयों का सलूख देखना हो तो राम-लक्ष्मण-भरत से सीखना चाहिए.

रामदास आगे कहते हैं-

अब तो हमारे पास मोबाइल-कंप्यूटर आ गए हैं. मैंने रामानंद सागर की रामायण के तमाम एपिसोड्स कंप्यूटर में सेव कर रखे हैं और कितनी ही बार देख चूका हूं, फिर भी बार-बार देखने की तलब लगी रहती है.

# इलाक़े में दिमाग़ी रसूख है रामदास का

मोहब्बत राम दास बस्ती अमानगढ़ में काफ़ी चर्चित व्यक्ति हैं. सोशल मीडिया पर काफ़ी सक्रीय हैं. उन्होंने उर्दू में एक किताब लिखी है ‘मुक्ति का मार्ग’ जिसका लोग बखान करने से नहीं थकते.

मोहब्बत राम दास जी ने पहली बार टेलीकास्ट हुए रामायण के सभी एपिसोड्स के साथ-साथ सभी रिपीट एपिसोड्स भी देखे हैं. इसके बाद, जब रामायण खत्म हो गई, तो उन्होंने सीडी-डीवीडी में भी कई बार रामायण देखी. और जब कंप्यूटर आए, तो ख़ास रामायण देखने के लिए उन्होंने कंप्यूटर और इंटरनेट चलाना सीखा. रामायण को देखकर उन्होंने अपने विचार लिखने के लिए टाइपिंग सीखी. टाइपिंग सीखने के बाद उन्होंने तब भगवद-गीता का उर्दू में अनुवाद किया और कई किताबें लिखीं.


ये वीडियो भी देखें:

राधे: NDA से ट्रेंनिंग ले चुके ‘संगय शेलत्रिम’ से होगी सलमान खान की भिड़ंत

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.