Submit your post

Follow Us

क्या अशोक गहलोत राजस्थान में मुख्यमंत्री पद की दावेदारी में पिछड़ चुके हैं?

शनिवार 31 मार्च की शाम ऑनलाइन मीडिया पर एक खबर चमकी. केन्द्रीय कांग्रेस कमिटी में बड़ा बदलाव होने की खबर आई. जनार्दन द्विवेदी की महासचिव पद से छुट्टी करते हुए उनकी जगह अशोक गहलोत को लाया गया था. उन्हें संगठन के मामलों की कमान सौंपी गई. गुजरात में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन के बाद इस बदलाव ने शायद ही किसी को अचम्भे में डाला हो.

राजस्थान के मुख्यमंत्री रह चुके अशोक गहलोत की छवि हमेशा से संगठन के आदमी की रही है. वो कांग्रेस के उन चुनिंदा नेताओं में शामिल हैं जो कांग्रेस के अनुषांगिक संगठनों से होते हुए कांग्रेस में आए हैं. 1971 के युद्ध के समय वो सेवा कांग्रेस में हुआ करते थे और बंगाल के शरणार्थी कैम्पों में काम करते हुए उन्होंने सियासत का ककहरा पढ़ा था. वो कांग्रेस के छात्र मोर्चे NSUI के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं.

अशोक गहलोत लगातार कांग्रेस के केन्द्रीय नेतृव में शामिल कर लिए गए हैं
अशोक गहलोत लगातार कांग्रेस के केन्द्रीय नेतृव में शामिल किए जाते रहे हैं.

जिस समय यह खबर आई, अशोक गहलोत अपने गृह जिले जोधपुर में थे. कुछ ही घंटों में उन्हें जोधपुर से दिल्ली के लिए उड़ान भरनी थी. लेकिन उन्होंने दिल्ली आने का कार्यक्रम निरस्त कर दिया. इस खबर के राजस्थान पहुंचते ही यह चर्चा तेज हो गई कि मुख्यमंत्री पद के लिए सचिन पायलट की उम्मीदवारी मजबूत हो गई है और अशोक गहलोत को केन्द्रीय नेतृव में जगह देकर राहुल गांधी ने इस बात का साफ़ इशारा दे दिया है.

दरअसल राजस्थान में कांग्रेस फिलहाल साफ तौर पर दो धड़ों में बंटी हुई है. पहले धड़े का नेतृव सचिन पायलट कर रहे हैं. वहीं दूसरे धड़े की वफ़ादारी अशोक गहलोत के साथ में है. सचिन के पिता राजेश पायलट और अशोक गहलोत किसी दौर में एक-दूसरे के काफी करीबी रहे हैं. आज अपने दोस्त के बेटे से उन्हें राजनीतिक चुनौती झेलनी पड़ रही है. पिछले चार महीने में आए दो चुनावी नतीजों ने दोनों खेमों की दावेदारी को पुख्ता करने का काम किया है.

अशोक गहलोत के करीबी बताते हैं कि वो जोधपुर से कितना भी दूर रहें, राखी के रोज हर हाल में जोधपुर पहुंचते हैं. 2017 पहला ऐसा साल था, जब ऐसा नहीं हुआ. वो गुजरात के प्रभारी थे और 9 अगस्त, 2017 को गुजरात में राज्यसभा के चुनाव थे. राखी से ठीक दो दिन बाद. गहलोत अप्रैल 2017 से ही गुजरात में जाकर जम गए थे और विधानसभा चुनाव तक वहीं बने रहे. वो दीपावली के मौके पर भी गुजरात में ही थे. कांग्रेस को इसका फायदा मिला. हालांकि कांग्रेस चुनाव हार गई लेकिन उसने मोदी के घर में बीजेपी को कांटे की टक्कर दी. गुजरात विधानसभा में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन ने गहलोत के सियासी रसूख को खूब मजबूत किया.

गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान अशोक गहलोत और राहुल गांधी
गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान अशोक गहलोत और राहुल गांधी.

गुजरात चुनाव के नतीजे आने के एक महीने बाद राजस्थान में दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर उप-चुनाव हुए. इन चुनावों की कमान राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट के हाथ में थी. सचिन 2014 में अजमेर लोकसभा सीट से बीजेपी के नेता सांवर लाल जाट के खिलाफ चुनाव हार चुके थे. इससे पहले वो 2009 में इसी सीट से सांसद थे. इस उप-चुनाव की शुरुआत में उनकी उम्मीदवारी के कयास लगाए गए. उस समय सियासी हलकों में यह चर्चा तेज थी कि पायलट को लोकसभा भेजकर गहलोत के लिए रास्ता साफ़ किया जा सकता है. आखिरकार टिकट दिया गया रघु शर्मा को. इस उप-चुनाव में कांग्रेस ने पायलट के नेतृव में तीनों सीटों पर जीत दर्ज की. इसने मुख्यमंत्री पद के लिए पायलट की दावेदारी को मजबूत कर दिया.

गहलोत के AICC का महासचिव बनाए जाने की खबर आने के कुछ ही मिनटों के बाद जोधपुर जिला कांग्रेस कमिटी के दफ्तर पर जश्न मनाया जा रहा था और गहलोत ने खुद को पत्रकारों से घिरा हुआ पाया. उनके एक बयान ने सूबे में कुछ घंटों पहले शुरू हुई कयासबाजी को एकदम से धराशायी कर दिया-

“सूबे का कोना-कोना, हर गांव, हर ढाणी मेरे दिल में बसी हुई है. मैं आपसे दूर नहीं हूं. इससे पहले भी मैं AICC का महासचिव था और मुख्यमंत्री बनके राजस्थान लौटा था.”

सचिन पायलट और अशोक गहलोत. बीच में खड़े हैं राहुल गांधी.
सचिन पायलट और अशोक गहलोत. बीच में खड़े हैं राहुल गांधी.

गहलोत अपने इस बयान में 2008 का हवाला दे रहे थे. 2003 में चुनाव हारने के बाद उन्हें कांग्रेस के केन्द्रीय नेतृत्व में जगह दे दी गई थी. वो पांच साल तक AICC के महासचिव रहे. 2008 के विधानसभा चुनाव में भी कम-ओ-बेश स्थितियां आज जैसी ही थीं. उस समय मेवाड़ के कद्दावर कांग्रेसी नेता सीपी जोशी गहलोत के प्रबल प्रतिद्वंदी थे. 2008 के विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान वो कार्यकर्ताओं से कहते हुए पाए गए,

“इस बार तो मेरा चांस कम ही है”.

2008 के राजस्थान विधानसभा चुनाव के नतीजों में सबसे बड़ा उलटफेर था मुख्यमंत्री पद के प्रमुख दावेदार सीपी जोशी का चुनाव हार जाना. जोशी राजसमंद जिले की नाथद्वारा सीट से महज एक वोट के अंतर से चुनाव हार गए. इसे महज एक संयोग कहा जा सकता है लेकिन जोशी के कई समर्थक इसके लिए गहलोत को जिम्मेदार ठहराते रहे. गहलोत राजस्थान के उन नेताओं में से हैं जिनकी जमीन पर पकड़ बहुत मजबूत है. उनके बारे में यह कहा जाता है कि सभी 200 विधानसभा में उनके दो से पांच हजार समर्थक मिल जाएंगे.

अशोक गहलोत कांग्रेस के हालिया महाधिवेशन में सोनिया गांधी के बगलगीर थे. ये उनके बढ़ते सियासी कद का गवाह है.
अशोक गहलोत कांग्रेस के हालिया महाधिवेशन में सोनिया गांधी के बगलगीर थे. ये उनके बढ़ते सियासी कद का गवाह है.

राजस्थान में हुए उप-चुनाव के नतीजे आने के बाद 22 फरवरी को दिल्ली में कांग्रेस आलाकमान की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई. इस बैठक के बाद मीडिया में आई खबरों की सुर्खी थी, ‘राजस्थान में कांग्रेस बिना किसी चेहरे के चुनाव लड़ेगी.’ यह खबर एक तरह से गहलोत का दावा थी कि वो मुख्यमंत्री पद की दावेदारी से पीछे हटने वाले नहीं हैं. इस लिहाज से देखा जाए तो केंद्रीय नेतृव में जाने से अशोक गहलोत की उम्मीदवारी कमजोर होने की बजाए मजबूत ही हुई है. हालांकि पायलट की तरफ से मिल रही चुनौती काफी कड़ी है.


यह भी पढ़े 

क्या राजस्थान में राम और हनुमान दंगा करवाने के साधन बन गए हैं?

पढ़िए अरविंद केजरीवाल का पूरा खत, जिसमें उन्होंने अरुण जेटली को सॉरी कहा है

कौन हैं वो दो जज, जिन्होंने किया SC-ST ऐक्ट में बदलाव

वीडियोः त्रिपुरा, नागालैंड, मेघालय में BJP ने कमाल कैसे किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.