Submit your post

Follow Us

PM मोदी ये एक चीज राहुल गांधी से सीख लें, तो उनकी ख्याति दोगुनी हो जाएगी

राहुल गांधी के करियर में सबसे बड़ी परेशानी नरेंद्र मोदी की मौजूदगी है. अक्सर लोग राहुल और मोदी की तुलना करते हैं. ये तुलना ही राहुल के आड़े आ रही है. बेशक कुछ बातों में मोदी उनसे काफी आगे हैं. मसलन, राजनीति के दांव-पेच और भाषण देने की कला. मगर कुछ बातें ऐसी भी हैं, जहां राहुल गांधी उनसे आगे नजर आते हैं. 

राहुल गांधी में कई कमियां होंगी, लेकिन कुछ मामलों में वो बड़े सही हैं. मसलन, हंसने की कला. खुद पर बने चुटकुलों पर भी मजे लेने की कला. ये गुण बहुत कम नेताओं में है. विदेशों में कई नेता हैं ऐसे. जो हंसते हैं. हंसाते हैं. ऐसा नहीं कि हंसने-हंसाने में ही रह जाते हों. काम भी करते हैं. मगर उनका अंदाज भारी-भरकम नहीं होता. और किसी को नहीं, तो बराक ओबामा को ही याद कर लीजिए. राहुल में भी ‘सेंस ऑफ ह्यूमर’ है. सेंस ऑफ ह्यूमर, माने हंसने की कला. न केवल हंसने, बल्कि औरों को भी हंसाने की काबिलियत. एक और अच्छी बात है उनमें. सवालों के जवाब देते हैं. कई बार असहज करने वाले सवालों का जवाब देने की भी हिम्मत करते हैं. ये दोनों ही बातें मोदी जी में नहीं हैं. मोदी जी ने कई मौकों पर मीडिया से बात की है. मगर इंटरव्यू में. जहां एक तय पैटर्न दिखता है. कुछ इंटरव्यू तो ऐसे भी रहे, जिनमें पूरा ध्यान मोदी जी की तारीफ पर था. प्रेस कॉन्फ्रेंस करना, मीडिया के खुले सवाल लेना और उनके जवाब देना, ये सब मोदी जी का स्टाइल ही नहीं है. इन दोनों बातों में राहुल गांधी का आत्मविश्वास मोदी के मुकाबले बीस ही नजर आता है.

राहुल को पता है कि उनका कितना मजाक उड़ता है
राहुल का अंदाज निखर रहा है. उन्हें पता है कि उनका मजाक उड़ता है. तो वो खुद भी उन चुटकुलों पर जवाबी चुटकुले बनाते हैं. हंसते हैं. खुद का मजाक उड़ाना आसान नहीं होता. वो भी तब, जब दुनिया आपका मजाक उड़ाने में खर्च हुई जा रही हो. वैसे, राहुल कोई पीड़ित नहीं हैं. राजनीति में होने पर ये सब झेलना पड़ता है. मायने ये रखता है कि आप कैसे झेलते हैं. तो राहुल हंसकर झेलते हुए नजर आते हैं. उनकी बातों से सहमति हो न हो, लेकिन उनका ये अंदाज तो सच में अच्छा लगता है.

कई बार तो लोग इतनी बेमतलब की बातों पर राहुल को घेरते हैं कि निरे बेवकूफ लगते हैं.
कई बार तो लोग इतनी बेमतलब की बातों पर राहुल को घेरते हैं कि निरे बेवकूफ लगते हैं.

चर्चा राहुल के एक हालिया पोस्ट की हो रही है
पिछले कुछ समय से राहुल अच्छा बोल रहे हैं. अच्छा लिख रहे हैं. कभी दुष्यंत कुमार की कविताएं शेयर करते हैं. कभी सधे हुए सवाल पूछते हैं. कई दिन हुए. राहुल ने अपनी खिल्ली उड़वाने की कोई वाजिब वजह नहीं दी. ऐसे में उनसे खुन्नस रखने वालों की मुसीबत हो गई है. उनको राहुल का बेहतर होना पच नहीं रहा है. सो कई लोग सवाल करने लगे. कहने लगे कि राहुल खुद नहीं लिखते सोशल मीडिया पर. किसी से लिखवाते हैं.

‘खुन्नसालोचकों’ को चिढ़ाने के लिए राहुल अपने कुत्ते को आगे लाए
जाहिर है, ‘खुन्नसालोचकों’ की ये बातें राहुल ने भी पढ़ी-सुनी होंगी. तो उन्होंने जवाब दिया. फेसबुक पर पोस्ट लिखा. लिखा तो राहुल ने, लेकिन पोस्ट उनके कुत्ते की ओर से आई थी. उनके कुत्ते का नाम है पिदी. पहले मुझे लगा पिद्दी है नाम. फिर मैंने सोचा, देखते हैं. कहीं पिदी ही हो. तो हमने Pidi का मतलब पूछा. प्रफेसर गूगल से. जवाब आया. स्कॉटलैंड साइड में पिदी का मतलब होता है. कम. थोड़ा सा. हमारे यहां पिद्दी होता है एक शब्द. मतलब, छोटा सा. तो पिदी या पिद्दी, एक ही जैसी बात है. तो इसी पिद्दी की तरफ से राहुल ने लिख दिया पोस्ट. पोस्ट का हिंदी तर्जुमा कुछ इस तरह है:

लोग पूछ रहे हैं कि इस आदमी (राहुल गांधी) के ट्विटर अकाउंट पर असल में कौन ट्वीट करता है. मैं साफ-साफ कहे दे रहा हूं. मैं करता हूं ट्वीट. पिदी. मैं राहुल से कहीं ज्यादा स्मार्ट और कूल हूं. देखो, मैं ट्वीट के साथ क्या कर सकता हूं. ट्वीट, उप्स. मैं तो ट्रीट कहना चाह रहा था.

राहुल को देखकर लगता है कि वो तेजी से सीख रहे हैं. कई बार काफी साफगोई दिखाते हैं. मुश्किल सवालों का जवाब देते हैं.
राहुल को देखकर लगता है कि वो तेजी से सीख रहे हैं. कई बार काफी साफगोई दिखाते हैं. मुश्किल सवालों का जवाब देते हैं.

कई लोग शायद राहुल का कटाक्ष ही नहीं समझ पाए
इस पोस्ट के साथ एक वीडियो भी था. पिदी का. वो कुछ करतब दिखा रहा है. उसकी बात बाद में करेंगे. जैसे ही राहुल का ये पोस्ट आया, खुन्नसालोचक भी शुरू हो गए. राहुल का मजाक उड़ाने लगे. खूब हंसी उड़ाई. कई तो बेहद बेहूदे कमेंट थे. लोगों की प्रतिक्रिया से साफ था कि वो राहुल का कटाक्ष नहीं समझ पाए हैं. बीजेपी इसे भुनाने में कैसे पीछे रहती. उसने भी कह दिया. राहुल का कुत्ता तो उनसे ज्यादा स्मार्ट है. कुछ लोग राहुल को ट्रोल करने में अपनी सारी हस्ती झोंक देते हैं. राहुल आए दिन ट्रोल होते हैं. कई बार तो बेमतलब भी ट्रोल होते हैं. इसके बावजूद उनका अंदाज डिफेंसिव नहीं है. बोलते हैं, जो बोलना होता है. हंसी उड़ाए जाने की परवाह नहीं करते. सोशल मीडिया पर लिखते हैं. इधर-उधर जब जो बोलना होता है, बोलते हैं. कई बार गलत बोलते हैं. तो सुधार भी करते हैं. जिद नहीं दिखाते. अपने ऊपर हंस भी लेते हैं.

हमारे ज्यादातर नेताओं को खुद पर हंसना नहीं आता
इसको तो मैं खासियत ही मानूंगी. वजह ये कि हमारे नेता ऐसे होते नहीं. औरों का मजाक उड़ाना तो जानते हैं, लेकिन अपने ऊपर हंसना नहीं जानते. औरों का मजाक बनाते समय कोई हद नहीं रखते. कुछ भी बोल जाते हैं. मगर मजाल कि अपने ऊपर बने चुटकुलों पर हंसने की हिम्मत दिखा दें. तभी तो जब हम कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो जैसे कूल नेताओं को देखते हैं, तो ठंडी आहें भरते हैं. हमारे यहां बहुत कम ही नेता हैं, जो अपवाद हों. राहुल ऐसे ही अपवादों में हैं. इसीलिए राहुल का ये पोस्ट मुझे अच्छा लगा. कूल लगा. स्पोर्टिंग होने का क्रेडिट तो उनको मिलना ही चाहिए.

मगर इस पोस्ट के वीडियो से बहुत चिढ़ भी हुई
ये तो हुआ इस पोस्ट में लिखे गए टेक्स्ट पर रिऐक्शन. पोस्ट में मगर एक वीडियो भी है. इसे देखकर राहुल पर गुस्सा आया. वीडियो में आपको राहुल का चेहरा नहीं दिखेगा. बस उनका हाथ नजर आएगा और आवाज सुनाई देगी. बाकी जो दिखता है, वो पिदी है. वीडियो में राहुल पिदी से कुछ करतब करवाते हैं. राहुल कहते हैं, नमस्ते करो. पिदी दो पैरों पर खड़ा हो जाता है. फिर आगे के दो पैर जोड़कर नमस्ते करता है. फिर राहुल उसको ट्रीट देते हैं. बिस्किट टाइप. वो उसकी नाक पर रख देते हैं. फिर उसको हुक्म देते हैं, सीधे खड़े रहने का. पिदी आज्ञाकारी. बात मानता है. फिर राहुल चुटकी बजाते हैं. पिदी करतब दिखाते हुए नाक पर रखा बिस्किट मुंह में रख लेता है. आप में से बहुतों को ये नॉर्मल लगेगा. कहेंगे, वाह. बड़ा मस्त सिखाया है कुत्ते को.

घर है या सर्कस, जानवर को बेमतलब का करतब क्यों सिखाना
हैंडशेक करो, नमस्ते करो. दो पैरों पर खड़े हो जाओ. अखबार उठाकर लाओ. कुत्तों को इस टाइप की चीजें सिखाना मुझे एक किस्म की क्रूरता लगती है. जैसे, सर्कस के जानवर को ट्रेनिंग देते हैं न. उसी टाइप की क्रूरता. लगता है, इंसान बस मनोरंजन के लिए जानवर पाल रहा है. अपना रौब दिखाने के लिए जानवर पाल रहा है. जानवर बेचारा पूरी जिंदगी हमें अपना परिवार समझता रहता है. और हम उसे सामान समझ रहे होते हैं. इसीलिए जब मैंने राहुल गांधी के कुत्ते का ये वीडियो देखा, तो दिल दुखा मेरा. तो उनका फेसबुक पोस्ट मेरे लिए 50-50 था. जैसे गणित में होता है न. + और – दोनों माइनस हो जाते हैं. वैसे ही. मुझे राहुल का अपने ऊपर हंसने का अंदाज अच्छा लगा. मगर अपने कुत्ते से करतब करवाना बुरा लगा.

खबर है कि राहुल गांधी को जल्द ही कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बना दिया जाएगा. वैसे, ये अटकलें तो सालों से लगाई जा रही हैं.
खबर है कि राहुल गांधी को जल्द ही कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बना दिया जाएगा. वैसे, ये अटकलें तो सालों से लगाई जा रही हैं.

ये भी पढ़ें: 

‘राहुल गांधी ने मुझसे कहा कि मैं तुम्हें चाहता हूं, पत्नी का दर्जा दूंगा’

उधर राहुल गांधी नानी के घर गए हैं, इधर कांग्रेसी नेता ने उन्हें मरा घोषित कर दिया

जितिन हो गए देन, शीला दीक्षित हो गईं नाउ. हाऊ…

राहुल गांधी के लिए सबसे बड़ा फैसला लेने का वक्त आ गया है और वो अध्यक्ष बनना नहीं है

गोवा में कांग्रेस ने वाट्सएप पर प्रेस रिलीज़ की जगह भेज दिया पॉर्न


हिमाचल प्रदेश में किसकी बन रही है सरकार, सर्वे बता रहा है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.