Submit your post

Follow Us

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

आज है नेशनल हैंडलूम डे. 2016 से हर साल 7 अगस्त को सेलिब्रेट होता है. मम्मी कहती है कुछ भी हो जाए साड़ी का फैशन कभी खत्म नहीं होगा. सही बात है. देखा जाए तो साड़ी हमारी पहचान है. कल्चर का एक हिस्सा है. लल्लन ले कर आया है साड़ियों की वैरायटी पर एक क्विज. पहचानो और स्कोर करो.

1. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. बांदनी
  2. बनारसी
2. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. बांदनी
  2. मधुबनी
3. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. चंदेरी
  2. सिल्क
4. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. टेंपल
  2. इलकल
5. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. बनारसी
  2. कांजीवरम
6. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. खादी सिल्क
  2. कांजीवरम
7. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. मधुबनी
  2. फुलकारी
8. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. सिल्क
  2. नऊवारी
9. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. पटोला
  2. मधुबनी
10. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. फुलकारी
  2. खादी सिल्क
11. ये कौन सी साड़ी है?
ये कौन सी साड़ी है?
  1. टेंपल
  2. कांजीवरम
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

न्यू मॉन्क

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

अनंत चतुर्दशी और गणेश विसर्जन के अवसर पर पढ़िए गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

यज्ञ में नहीं बुलाया गया तो शिव ने भस्म करवा दिया मंडप

शिव से बोलीं पार्वती- 'आप श्रेष्ठ हो, फिर भी होती है अनदेखी'.

नाम रखने की खातिर प्रकट होते ही रोने लगे थे शिव!

शिव के सात नाम हैं. उनका रहस्य जानो, सीधे पुराणों के हवाले से.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

एक बार सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र ने भी झूठ बोला था

राजा हरिश्चंद्र सत्य का पर्याय हैं. तभी तो कहा जाता है- सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र. पर एक बार हरिश्चंद्र ने भी झूठ कहा था. क्यों कहा था?

जटायु के पापा का सूर्य से क्या रिश्ता था?

अगर पूरी रामायण पढ़े हो तो पता होगा. नहीं पता तो यहां पढ़ो.

ब्रह्मा की पूजा से जुड़ा सबसे बड़ा झूठ, बेटी से नहीं की थी शादी

कहते हैं कि बेटी सरस्वती से विवाह कर लिया था ब्रह्मा ने. इसीलिए उनकी पूजा नहीं होती. न मंदिर बनते हैं. सच ये है.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.