Submit your post

Follow Us

क़िस्सागोई 17: जान बचाने का बदला वापस मरके क्यों चुकाना चाहते थे रामानंद चट्टोपाध्याय?

आपने देखा होगा कि बहुत से लोग जो कविता लिखते हैं, साहित्य रचना करते हैं उनमें से कुछ ऐसे भी होते हैं जिन्हे अपने आप पर काबू नहीं होता है, धीरज नहीं होता है, सब्र नहीं होता है. वो सोचते हैं कि जैसे ही वो कुछ लिखें, कोई न कोई उसे सुन ले, या वो कहीं छप जाए या फिर कुछ नहीं तो वो ख़ुद ही उसे अजनबियों तक के इनबॉक्स में भेज देते हैं. जबकि रचना का भाग्य तय करने में उसकी गुणवत्ता का बड़ा योगदान है. इसी से जुड़ा एक क़िस्सा हाज़िर है.

Whatsapp Image 2020 05 06 At 2.06.23 Pm

मशहूर पत्रकार रामानंद चट्टोपाध्याय एक बार बनारस गए. वहां वो गंगा स्नान कर रहे थे कि अचानक गंगा में डूबने लगे. एक लड़के ने उन्हे बचा लिया. बाहर आए तो रामानंद जी ने लड़के को इनाम देना चाहा. उस लड़के ने मना कर दिया. अब रामानंद जी ने उसे अपना परिचय दिया कि मैं कलकत्ता में रहता हूं, प्रवासी पत्रिका का संपादक हूं. कभी कोई ज़रूरत हो तो मेरे पास आना मैं मदद करूंगा. इसके कुछ दिन बाद वो लड़का कलकत्ता आया. रामानंद जी से मिला. रामानंद उससे मिलकर बहुत ख़ुश हुए. उसका स्वागत सत्कार किया. फिर उससे आने का प्रयोजन पूछा. उस लड़के ने जवाब ने एक पांडुलिपि निकाली और रामानंद जी को देते हुए कहा कि ये मेरी कविताएं हैं आप इन्हे प्रवासी में छाप दीजिए.

रबीन्द्रनाथ टैगोर के साथ रामानंद चट्टोपाध्याय बैठे हुए दिख रहे हैं
रबीन्द्रनाथ टैगोर के साथ रामानंद चट्टोपाध्याय बैठे हुए दिख रहे हैं

रामानंद जी ने वो पांडुलिपि ली. उसे थोड़ी देर पढ़ा और फिर कविताओं को परख कर उस लड़के से कहा. माफ़ करना मैं तुम्हारी इन कविताओं को प्रवासी में नहीं छाप सकता. तुम चाहो तो अपने उपकार के बदले मुझे दोबारा गंगा में धक्का दे सकते हो. रामानंद जी ने इतनी सहजता से ये बात कही थी कि वो लड़का भी हंसने लगा. इसके बाद रामानंद ने लड़के को समझाया. साहित्य की हर रचना बहुत सब्र मांगती है. गुणवत्ता ही रचना की नियति तय करती है. साहित्यकार को सबसे पहले अपनी प्रतिभा का सम्मान और मूल्यांकन ख़ुद करना सीखना चाहिए तभी दूसरे भी सही तरह ऐसा करेंगे.

हिमांशु बाजपेयी
हिमांशु बाजपेयी

हिमांशु बाजपेयी. क़िस्सागोई का अगर कहीं जिस्म हो, तो हिमांशु उसकी शक्ल होंगे. बेसबब भटकन की सुतवां नाक, कहन का चौड़ा माथा, चौक यूनिवर्सिटी के पके-पक्के कान और कहानियों से इश्क़ की दो डोरदार आंखें.‘क़िस्सा क़िस्सा लखनउवा’ नाम की मशहूर क़िताब के लेखक हैं. और अब The Lallantop के लिए एक ख़ास सीरीज़ लेकर आए हैं. नाम है ‘क़िस्सागोई With Himanshu Bajpai’. इसमें दुनिया जहान के वो क़िस्से होंगे जो सबके हिस्से नहीं आए. हिमांशु की इस ख़ास सीरीज़ का ये था क़िस्सा नंबर सत्रह.


ये मज़ेदार क़िस्सा भी सुनते जाइए:

क़िस्सागोई: जब एक शुतुरमुर्ग ने उड़ने की बात कहकर सबका पोपट बनया और बैक टू पेवेलियन हो लिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.