Submit your post

Follow Us

दिल्ली दंगा: ताहिर हुसैन ने पुलिस को जो बयान दिया है, उसका मतलब क्या है?

फरवरी 2020. आखिरी हफ्ते में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में दंगा भड़क गया था. इस दंगे में कई लोगों की जान चली गई थी. कई जिंदगियां तबाह हो गई थीं. ताहिर हुसैन. आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद. उन्हें लेकर दिल्ली पुलिस ने बड़ा दावा किया है. पुलिस का कहना है कि ताहिर हुसैन ने यह मान लिया है कि दंगे में लोगों को भड़काने में उसका हाथ था. दिल्ली पुलिस ने पूछताछ के आधार पर ताहिर का कबूलनामा जारी किया है. दिल्ली पुलिस की स्पेशल जांच टीम- एसआईटी की ओर से ताहिर का कबूलनामा जारी किया गया है.

‘हिन्दुओं को सबक सिखाना चाहता था’

मीडिया में आए कबूलनामे के मुताबिक, ताहिर हुसैन ने पुलिस को बताया-

आम आदमी पार्टी से निगम पार्षद का चुनाव जीतने के बाद मैंने कौम की ओर ध्यान दिया. 2014 में बीजेपी के सरकार में आने के बाद मुसलमानों की भारत में अच्छी स्थिति नहीं थी. मैंने सोचा कि मैं राजनीति में आ चुका हूं. अपनी पोजिशन और पैसे का इस्तेमाल हिन्दुओं को सबक सिखाने के लिए कर सकता हूं.

‘सरकार हिलाकर रख देना चाहते थे’

पुलिस के अनुसार, पूछताछ में ताहिर हुसैन ने बताया-

सीएए कानून बनने के बाद अमरोहा का रहना वाला खालिद सैफी मेरे पास आया. मैं उसे पहले से जानता था. उसने बताया कि उसका एक जानकार उमर खालिद है, जो जेएनयू का स्टूडेंट है, वो अपनी कौम के लिए जान लेने और देने की बात करता है. खालिद सैफी ने उमर से मिलने का प्लान बनाया. प्लान के मुताबिक मैं और खालिद सैफी आठ जनवरी को शाहीन बाग में उमर खालिद से पीएफआई (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) के ऑफिस में मिले थे. पीएफआई हमें हिन्दुओं के खिलाफ जंग में फाइनेंशियली पूरी मदद करेगी. हमने प्लान बनाया कि हम दिल्ली में कुछ ऐसा करेंगे, जिससे ये सरकार हिल जाएगी. योजना में हम सबको मिलकर अपने टास्क पूरे करने थे. खालिद सैफी को लोगों को भड़काकर सड़कों पर उतारना था.

1 (2)
मीडिया में आया ताहिर हुसैन का कबूलनामा

‘चार फरवरी को हुई दंगे की तैयारी’

पुलिस के मुताबिक, ताहिर हुसैन ने पूछताछ में बताया-

मुझे खालिद सैफी ने कहा कि तुम्हारा मकान इलाके में सबसे ऊंचा है और छत भी काफी बड़ी है. समय आने पर इसका तरीके से इस्तेमाल करेंगे. मुझे यह भी टास्क दिया गया कि मैं जितनी ज्यादा से ज्यादा कांच की बोतलें, पेट्रोल, तेजाब और पत्थर इकट्ठे करा सकता हूं, धीरे-धीरे करता रहूं. ताकि जरूरत के समय काम आए.

साजिश के तहत खालिद सैफी ने अपने जानकारों की मदद से जगह-जगह भीड़ जुटाकर धरनों पर को-ऑर्डिनेट करना शुरू कर दिया. अपनी जानकार इशरत जहां के साथ मिलकर खुरेजी में धरना शुरू कराया. 4 फरवरी को अबुल फजल एन्क्लेव में दंगा-फसाद की तैयारियों को लेकर चर्चा हुई. तय हुआ कि आने वाले समय में धरना पर बैठे लोगों को सड़कों पर उतारकर चक्का जाम कराया जाएगा. पुलिस या कोई हिन्दू उस भीड़ को हटाएगा, मुस्लिम लोगों को धर्म के नाम पर भड़का देंगे और दंग शुरू करवाएं. खालिद सैफी ने बताया कि कुछ दिन बाद अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप भारत आ रहे हैं. हम दिल्ली में कुछ ऐसा करेंगे कि सरकार घुटनों पर आ जाए और सीएए कानून वापस लेने पर मजबूर हो जाए.

2

ट्रंप की यात्रा के दौरान तैयारी तेज की

पुलिस के मुताबिक, ताहिर हुसैन ने पूछताछ में बताया,

खालिद सैफी ने पूछा था कि तैयारी कैसी चल रही है. मैंने खालिद को बताया कि मैंने अपनी रोड पर आने-जाने वाले कबाड़ियों से शराब की बोतल, कोल्डड्रिंक की बोतलें खरीदकर अपने घर पर जमा करनी शुरू कर दी हैं. आसपास की गलियों से और कंस्ट्रक्शन साइट से पत्थर वगैरह सफाई कराने के बहाने उठवाकर अपने घर में जमा कर रहा हूं. अपनी चारों गाड़ियों में पेट्रोल-डीजल भरवा ले आऊंगा और जरूरत के समय उन बोतलों में पेट्रोल भरकर बम की तरह इस्तेमाल करेंगे. पत्थर मेरी छत पर से फैक्ट्री में काम करने वाले लड़कों की मदद से दंगों के समय फेंकवाएंगे और हिन्दुओं का काम तमाम कर देंगे.

17 फरवरी को उमर खालिद ने ट्रंप की यात्रा के दौरान सीएए के खिलाफ लोगों से सड़कों पर उतरने की अपील की थी. इसके बारे में मुझे खालिद सैफी ने बताया था और मुझसे भी अपनी तैयारियां तेज करने को कहा था. तेजाब का इंतजाम करने को कहा था.

3 (2)
3 (2)

पुलिस के मुताबिक, ताहिर हुसैन ने बताया-

24 फरवरी को योजना के मुताबिक, हमने कई लोगों को बुलाया और उन्हें बताया कि कैसे पत्थर, पेट्रोल बम और एसिड बोतल फेंकना है. मैंने अपने परिवार को दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया. 24 फरवरी, 2020 को दोपहर करीब 1.30 बजे हमने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया.मैंने जान-बूझकर अपने घर के बाहर और छत पर लगे सीसीटीवी के तार कटवा दिये थे, ताकि सबूत न रहे.

ताहिर के वकील का क्या कहना है?

अब तक ऊपर आपने जो कुछ पढ़ा, वो पुलिस का दावा है. दिल्ली पुलिस कह रही है कि ताहिर हुसैन ने पूछताछ में ये बातें बताई हैं. वहीं ताहिर के वकील का कहना है कि ताहिर ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया. बीबीसी से बातचीत में ताहिर हुसैन के वकील जावेद अली ने कहा-

पुलिस अपने हिसाब से सही तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रही है. ताहिर हुसैन ने दिल्ली दंगों के संबंध में ऐसी कोई बात स्वीकार नहीं की है. वास्तविकता तो ये है कि वो ख़ुद एक पीड़ित हैं और उन्हें ग़लत तरीक़े से पेश किया जा रहा है.

उन्होंने आगे कहा,

कोई व्यक्ति ऐसे समय में जबकि उसे दोषी क़रार नहीं दिया गया है, अगर वो पुलिस के सामने इस तरह का कोई भी कन्फ़ेशन करता भी है, तो वह मान्य नहीं है. इंडियन एविडेंस एक्ट के तहत यह स्पष्ट किया गया है कि इस तरह के बयान किसी को भी दोषी साबित नहीं करते.

क्रमिनल लॉयर मनमोहन सिंह का कहना है कि पुलिस के सामने किए गए कन्फ़ेशन का कानूनी रूप से कोई खास महत्व नहीं है. पुलिस कस्टडी में लिया गया बयान अदालत में मान्य नहीं है. इस तरह के बयान के बाद साइन करने की भी जरूरत नहीं होती.

उन्होंने कहा,

सीआरपीसी (भारतीय दंड सहिंता) 161 के तहत ताहिर हुसैन का बयान पुलिस ने दर्ज किया है. इसका साक्ष्य के तौर पर कोई महत्व नहीं है. सुप्रीम कोर्ट अपने फैसले में भी इस बात का जिक्र कई बार कर चुका है. सीआरपीसी 164 के तहत मजिस्ट्रेट के सामने दिया गया बयान ही मान्य है.

वहीं सवाल ये भी उठ रहे हैं कि पुलिस को दिया ताहिर का बयान मीडिया में कैसे पहुंच गया.

दिल्ली पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक, ताहिर हुसैन आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी है. अंकित का शव 26 फरवरी को उत्तर-पूर्वी दिल्ली के चांद बाग इलाके में मिला था. ताहिर दिल्‍ली में हुए दंगों के 10 मुख्य आरोपियों में शामिल है, जो खालिद सैफी के साथ जेल में है.


सुशांत की सर्च हिस्ट्री से पता चला कि सुसाइड से पहले वो किस बात से ज्यादा परेशान थे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.