Submit your post

Follow Us

ग़ज़ल को मां तक लाने वाले की मां चली गई

मां पर सबसे मकबूल शेर कहने वाले की मां चली गई. शायर मुनव्वर राना की मां आयशा ख़ातून ने लखनऊ के सहारा अस्पताल में आखिरी सांस ली. लंबे समय से उन्हें किडनी की बीमारी थी.

मुनव्वर राना को जो शोहरत, जो फरोग़, जो एहतेराम हासिल हुआ, उसके पीछे मां पर लिखे उनके शेर रहे. स्याह दौर जब भी आए, मां ही उनके लिए पाक़ीज़ा रौशनी का ख़जाना बनीं. जानने वाले जानते हैं कि मुनव्वर का ख़ुद पर भरोसा जल्दी नहीं चटकता. लेकिन कभी कोई खरोंच भी इस पर आई तो वे दौड़कर लखनऊ से रायबरेली पहुंच गए. ख़राब दौर में मुनव्वर हमेशा कहते रहे, मां के पास आया हूं. सब ठीक हो जाएगा.

आज मुनव्वर नि:शब्द हैं. हम भी. इस मौके पर हम सबको यही मुनासिब होगा कि मुनव्वर के मां पर लिखे अशआर फिर से याद किए जाएं.


1

अब देखिए कौन आए जनाज़े को उठाने
यूं तार तो मेरे सभी बेटों को मिलेगा


2

1


3

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बां बच्चे समझते हैं
सगी है या कि सौतेली है मां बच्चे समझते हैं


4

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ां की तरह
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी मां की तरह


5

सिसकियां उसकी न देखी गईं मुझसे ‘राना’
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते


6

2


7

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को
जब हादसात मां की दुआ से उलझ पड़े


8

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक मां है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती


9

3


10

जब तक रहा हूं धूप में चादर बना रहा
मैं अपनी मां का आखिरी ज़ेवर बना रहा


11

4


12

ऐ अंधेरे! देख ले मुंह तेरा काला हो गया
मां ने आंखें खोल दीं घर में उजाला हो गया


13

5


14

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊं
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊं


15

जब भी देखा मेरे किरदार पे धब्बा कोई
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई


16

यहीं रहूंगा कहीं उम्र भर न जाऊंगा
ज़मीन मां है इसे छोड़ कर न जाऊंगा


17

6


18

मेरा बचपन था मेरा घर था खिलौने थे मेरे
सर पे माँ बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था


19

7


20

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता


21

8

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?