Submit your post

Follow Us

PM मोदी ने जिन 7 नेताओं का अपने भाषण में जिक्र किया, उनसे जुड़ी खास बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए साल के ठीक पहले देश के नाम संबोधन में कुछ नेताओं के नाम लिए. लालबहादुर शास्त्री, जयप्रकाश नारायण, राममनोहर लोहिया, के. कामराज, पंडित दीन दयाल उपाध्याय और महात्मा गांधी. हम आपको इन नेताओं से जुड़े कुछ अलग किस्से सुनाते हैं:

के. कामराज वो आदमी थे, जिन्होंने लालबहादुर शास्त्री और इंदिरा गांधी को प्रधानमंत्री बनवाया. देखिए ये वीडियो:

राममनोहर लोहिया ने कांग्रेस के खिलाफ बड़ा मोर्चा खड़ा किया था. लोहिया ने एक बार नेहरू को समझाया था कि 25 हजार रुपए में कितने आने होते हैं. ये उन्हें क्यों करना पड़ा था, देखिए ये वीडियो:

लोहिया की राजनीति से जुड़े 3 किस्सों का एक और वीडियो:

जयप्रकाश नारायण यानी जेपी का जिक्र हो, तो इमर्जेंसी की याद बरबस आती है:

इस साल पंडित दीनदयाल उपाध्याय का 100वां जन्मदिन मनाया गया. कई राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि उनका कद BJP के लिए वैसा ही है जैसा कि कांग्रेस के लिए गांधी का. यहां क्लिक करके पढ़िए उनके 6 किस्से.

भीमराव अंबेडकर का नाम लेते ही उन्हें ज्यादातर केवल संविधान के लिखे जाने से जोड़कर देखा जाता है. जबकि वो उस वक्त सही मायनों में महिलाओं के अधिकारों के लिए काम कर रहे थे, इस बारे में आप यहां क्लिक करके पढ़ सकते हैं – अंबेडकर: उस ज़माने की लड़कियों के रियल पोस्टरबॉय.

प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी के चंपारण आंदोलन का जिक्र किया. इसका किस्सा यहां क्लिक करके पढ़िए.


ये भी पढ़िए:

31 दिसंबर के भाषण में PM मोदी ने पेश किया माइक्रो बजट

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.