Submit your post

Follow Us

तालिबान के लिए क्यों अहम है कंधार जहां से भारत ने अपने नागरिकों को निकाला

24 दिसंबर, 1999.

ये तारीख़ सुनकर कुछ याद आया? ये वही तारीख़ है, जिस रोज़ काठमांडू से नई दिल्ली आ रही इंडियन एयरलाइन्स की फ़्लाइट IC 814 को हाइज़ैक कर लिया गया था. हाइज़ैकर्स ने कहां लैंड कराया वो विमान? वो प्लेन भारत, पाकिस्तान और UAE से होता हुआ लैंड हुआ था कंधार में.

कहां पड़ता है कंधार? ये अफ़गानिस्तान के दक्षिणी हिस्से में बसा है. जिस समय की ये घटना है, तब अफ़गानिस्तान में तालिबान की सरकार थी. भारत सरकार उसे मान्यता नहीं देती थी. मगर प्लेन हाइज़ैकिंग के चलते भारत सरकार को उसी तालिबानी हुकूमत की मदद लेनी पड़ी. तालिबान ने अपहरणकर्ताओं और भारत सरकार के बीच मध्यस्थता कराई. कहते हैं कि इसी मध्यस्थता के चलते हाइज़ैकर्स ने 36 आतंकियों को रिहा करने की अपनी डिमांड छोड़ दी थी. इसके बदले वो तीन आतंकियों की रिहाई पर सेटल हुए. भारत सरकार को हाइज़ैकर्स की मांगों के आगे झुकना पड़ा. भारत ने जिन तीन आतंकियों को छोड़ा, उनके नाम थेओमर शेख. मौलाना मसूद अजहर. और, मुश्ताक़ अहमद ज़रगार. 

कौन हैं ये आतंकी? 

ओमर शेख ने आगे चलकर 9/11 हमले के एक हाइज़ैकर की फ़ाइनैंसिंग की. उसी ने अमेरिकी पत्रकार डैनियल पर्ल की हत्या भी कराई. मौलाना मसूद अजहर ने आतंकी संगठनजैशमुहम्मदबनाया. इसी संगठन ने 2001 में भारतीय संसद पर और 2016 में पठानकोट स्थित एयरफ़ोर्स बेस पर हमला करवाया था. तीसरा आतंकी, मुश्ताक़ अहमद ज़रगार आतंकी संगठनअलउमर मुजाहिदीनका कमांडर है. इसी संगठन ने मई 2019 में अनंतनाग में CRPF पर हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली थी. 

Untitled Design (1)
कंधार प्लेन हाइजैक में फंसे यात्रियों को छुड़ाने के लिए सरकार को तीन आतंकियों को रिहा करना पड़ा (तस्वीर: Getty)

ये हाइज़ैकिंग प्रकरण भारत के सबसे विवश पलों में से एक है. इसी के चलते कंधार का नाम भी हमारे जेहन में एक कड़वी याद बनकर जम गया. अब इसी कंधार से भारत के साथ जुड़ी एक बड़ी ख़बर आई है. भारत सरकार को यहां स्थित अपने वाणिज्यिक दूतावास को खाली पड़ाना है. इंडियन एयरफ़ोर्स के एक विशेष विमान को वहां भेजकर भारत को वहां से अपने लोगों को वापस लाना पड़ा है. क्या है ये पूरा मामला? कंधार से तालिबान का क्या है ख़ास रिश्ता?

इसी रिश्ते के प्रसंग से शुरुआत करते हैं. अफ़गानिस्तान में कुल 34 प्रांत हैं. इन्हीं में से एक है, कंधार. ये प्रांत 17 ज़िलों में बंटा है. इनमें से एक ज़िला है, ख़ाकरेज़. यहांचाहहिम्मतीनाम का एक गांव है. दशकों पहले की बात है. इस गांव में एक मौलवी रहते थे. नाम था, ग़ुलाम नबी अख़ूंद. वो गांव के बच्चों को क़ुरान पढ़ाते. बदले में ग्रामीण जो थोड़ीबहुत मदद देते, उसी से घर चलता. 

ओमर की कहानी 

ठीकठीक तो नहीं पता. मगर 1959 से 1962 के बीच का कोई साल रहा होगा, जब मौलवी अख़ूंद के यहां एक बेटा पैदा हुआ. उसका नाम रखा गयाओमर. ओमर छोटा सा था, जब उसके अब्बू गुज़र गए. मां ने दूसरी शादी कर ली. ओमर के नए पिता भी मज़हबी तालीम से जुड़े थे. एक तो घर का माहौल. ऊपर से मजहबी तालीम. अपनी जवानी में दाखिल होने से पहले ही ओमर का दिमाग़ी रुझान धर्म की तरफ़ मुड़ चुका था. 

Untitled Design (2)
1994 का साल ख़त्म होते-होते तालिबान समूचे कंधार पर हुकूमत करने लगा. (तस्वीर: एएफ़पी)

टीनऐज़र ओमर गांव के मदरसे से निकलकर आगे की तालीम के लिए कंधार शहर पहुंचा. यहां उसकी दीनी तालीम के ही दौरान एक बड़ी घटना हुई. ये बात है 1979 की. इस बरस सोवियत संघ ने अफ़गानिस्तान पर हमला कर दिया. सोवियत से लड़ने के लिए अफ़गानिस्तान में मुजाहिदीनों की एक फ़ौज खड़ी हो गई. इस फ़ौज में कई अलगअलग समूह थे. इन्हीं में से एक ग्रुप कंधार शहर के उन धार्मिक छात्रों का भी था, जिन्हें लोगतालिबबुलाते थे. 

ओमर ने भी सोवियत के खिलाफ़ चल रही जंग में शिरक़त की. वो युद्ध में तीन बार जख़्मी हुआ. वो सबसे ज़्यादा घायल हुआ तीसरी बार. ये घटना है, कंधार की पश्चिमी दिशा में बसे एक गांव संगीसर की. यहां सोवियत सैनिकों और मुजाहिदीनों की लड़ाई चल रही थी. सोवियत सैनिकों ने ओमर और उसके साथियों पर ग्रेनेड्स फेंके. इनमें से एक ग्रेनेड से निकले छर्रे ओमर के चेहरे पर लगे और उसकी दाहिनी आंख बाहर आ गई. 

सोवियत की वापसी 

1989 में सोवियत की वापसी के साथ इस युद्ध का एक पन्ना ख़त्म हो गया. कई मुजाहिदीनी जंग के मैदान पर बने रहे और कई सामान्य जीवन में लौट आए. ओमर भी उसी संगीसर लौट आया, जहां उसने अपनी एक आंख खोई थी. अब वो यहां एक छोटी सी मस्जिद का इमाम बन गया. 

Untitled Design (3)
1994 में तालिबान का गठन हुआ (तस्वीर: एएफ़पी)

ओमर की ये इमाम वाली ज़िंदगी बहुत जल्द ख़त्म होने वाली थी. इसकी वजह थी, अफ़गानिस्तान के हालात. सोवियत जा चुका था. मगर उससे लड़ने के लिए खड़े हुए मुजाहिदीन लड़ाकों ने हथियार नहीं रखे थे. वो अब अफ़गानिस्तान के अलगअलग हिस्सों में वर्चस्व बनाने के लिए लड़ रहे थे. कंधार का भी यही हाल था. यहां भी सोवियत से युद्ध लड़ चुके कई कमांडर्स अपना इलाका बनाकर बैठ गए थे. इनके लोग आम नागरिकों पर भी जुल्म करते. 

इस अराजकता में सोवियत की लड़ाई लड़ चुके तालिब गुट को भी अपने लिए मौका दिखा. उन्होंने तय किया कि वो कंधार में हावी हो चुके गिरोहों से लड़ेंगे. इस तालिब ग्रुप को अपने लीडर की तलाश थी. इन्हें एक ऐसा शख्स चाहिए था, जिसका कोई राजनैतिक लिंक ना हो. ये तलाश ख़त्म हुई, ओमर के नाम पर. ओमर के नेतृत्व में इस संगठन ने अपना नाम रखातालिबान. अब तो आप समझ ही गए होंगे कि हम किस ओमर की बात कर रहे हैं. जी, हम तालिबान के पहले लीडर मुल्ला मुहम्मद ओमर की बात कर रहे हैं. 

तालिबान का जन्म 

तालिबान का गठन हुआ, 1994 के पतझड़ में. गठन के तकरीबन साथहीसाथ हुई एक स्थानीय घटना ने इस ग्रुप को अपनी पहचान बनाने का बड़ा मौका भी दे दिया. हुआ ये कि संगीसर शहर के पास एक महिला की किडनैपिंग हुई. उसके साथ कई बार रेप किया गया. इस अपराध के पीछे हाथ था एक स्थानीय वॉरलॉर्ड का. ओमर और उसके ग्रुप ने आरोपी को पकड़ा, उसकी हत्या की और उसकी लाश को एक टैंक से लटका दिया. 

इस क्रूर घटना ने तालिबानी लड़ाकों को अगलबगल के इलाकों में पहचान दिला दी. इसके बाद इस संगठन ने बड़े स्तर पर भर्ती शुरू की. इनके निशाने पर थे, दीनी तालीम ले रहे छात्र. ओमर इन छात्रों से कहता कि इस्लाम ख़तरे में है. लोग शैतानियत के साथ खड़े हो गए हैं. सरे बाज़ार लोगों की इज्ज़त उतारी जा रही है. जब इस्लाम ही ख़तरे में हो, तो केवल पढ़ाई करने से कुछ फ़ायदा नहीं होगा. इस्लाम के मुताबिक समाज बनाने के लिए इस्लाम के ही छात्रों को आगे आना होगा. 

ऐसे ही प्रॉपेगैंडा भाषणों के सहारे ओमर ने कई छात्रों का ब्रेनवॉश करके उन्हें तालिबान के साथ जोड़ लिया. ओमर को लड़ने के लिए लड़ाके मिल गए थे. अब उसे ज़रूरत थी हथियारों की. ये हथियार कहां से आए? कंधार प्रांत की सीमा पर बसा एक शहर है, स्पिन बुलदाक. सितंबर 1994 में मुल्ला ओमर के नेतृत्व में करीब 200 तालिबानी लड़ाकों ने स्पिन बुलदाक पर कब्ज़ा कर लिया. 

ये जीत तालिबान के लिए जीवनरेखा साबित हुई. कैसे? स्पिन बुलदाक शहर के पास कुछ पहाड़ी गुफ़ाएं हैं. इन गुफ़ाओं के भीतर सोवियत के जमाने का एक बड़ा हथियार डिपो था. तालिबान ने यहां रखे हथियार लूट लिए. इन लूटे हुए हथियारों की मदद से तालिबान ने कंधार पर हमला किया. 1994 का साल ख़त्म होतेहोते तालिबान समूचे कंधार पर हुकूमत करने लगा. इसी कंधार में उसनेअमीर उलमोमिनीनकी पदवी धारण की. अमीर उलमोमिनीन का मतलब होता है, इस्लाम में आस्था रखने वालों का लीडर. 

कंधार की जीत 

कंधार में मिली इस बड़ी जीत ने तालिबान के लिए आगे के रास्ते खोल दिए. वो पड़ोसी देश पाकिस्तान की भी नज़र में आया. पाकिस्तानी सेना और ISI अफ़गानिस्तान में अपने हित सुनिश्चित करने का ज़रिया खोज रही थी. उसे तालिबान में पोटेंशियल दिखा. पाकिस्तान को लगा कि अगर वो तालिबान की मदद करके उसे जिता दे, तो अफ़गानिस्तान में एक फ्रेंडली गवर्नमेंट आ जाएगी. तालिबान सत्ता में आकर पाकिस्तानी हितों का ध्यान रखेगा. साथ ही, भारतविरोधी उसके अजेंडे को भी सपोर्ट करेगा. 

Untitled Design (4)
अपने स्वार्थ के लिए ISI ने तालिबान की मदद की (तस्वीर: एएफ़पी)

इसी मंशा से पाकिस्तानी आर्मी और ISI ने तालिबान को मदद देनी शुरू की. उसे पैसा दिया. हथियार दिए. और इसी मदद के सहारे सितंबर 1996 में तालिबान ने काबुल को भी जीत लिया. वो अफ़गानिस्तान का शासक बन गया. राजधानी काबुल सांकेतिक तौर पर भले ही इस हुकूमत की सर्वोच्च गद्दी हो. लेकिन असलियत में तालिबान का गढ़ था, कंधार. यहीं तालिबान और उसके लीडर मुल्ला ओमर का जन्म हुआ. यहीं पर तालिबान को पहचान मिली. यहीं पर तालिबानी शासन को वैधता मिली. इसी कंधार ने उसके लिए अफ़गानिस्तान फ़तह के रास्ते खोले. यही वजह है कि काबुल जीतने के बाद भी ओमर कंधार में ही रहता था. यही शहर तालिबानी सत्ता का केंद्र था.

कंधार से आ रही हालिया ख़बरें

आप जानते हैं कि अमेरिकी सेना अफ़गानिस्तान से विदा हो रही है. इसी के मद्देनज़र 1 मई, 2021 से तालिबान ने अफ़गानिस्तान को दोबारा जीतने का अभियान तेज़ किया. दो महीने के भीतर तालिबान ने यहां सैकड़ों ज़िले जीत लिए हैं. 

बीते दिनों इस लड़ाई के कंधार शहर पहुंचने की ख़बर आई. कंधार शहर, कंधार प्रांत की राजधानी है. तालिबान बीते कई हफ़्तों से ये प्रांत जीतने की कोशिश कर रहा है. उसने पहले कंधार प्रांत के बाहरी इलाके जीते. फिर ज़िलों और शहरों को जीतते हुए कंधार शहर की ओर बढ़ने लगा. 9 मई की देर रात उसे कंधार शहर के भीतर पहुंचने में कामयाबी भी मिल गई. 

कंधार में खुले वॉर फ्रंट से भारत से जुड़ी एक ख़बर भी आई. पता चला कि भारत ने कंधार स्थित अपना कॉन्सुलेट खाली करवा दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंधार स्थित भारतीय वाणिज्यिक दूतावास में डिप्लोमैट्स और बाकी कर्मी मिलाकर भारत के कुल 50 लोग थे. 10 जुलाई को भारत ने इन्हें कंधार से निकाल लिया. इसके लिए भारतीय वायुसेना का एक विशेष विमान वहां भेजा गया था. 

Untitled Design (5)
अफ़गानिस्तान के सुरक्षा हालात पर भारत लगातार नज़र रख रहा है (तस्वीर: भारतीय दूतावास, अफ़ग़ानिस्तान)

इस बारे में जानकारी देते हुए 11 जुलाई को भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी किया. इसमें लिखा था

अफ़गानिस्तान के सुरक्षा हालात पर भारत लगातार नज़र रख रहा है. वहां तैनात हमारे लोगों की सुरक्षा सबसे ज़रूरी है. हमने कंधार स्थित भारतीय कॉन्सुलेट को बंद नहीं किया है. मगर कंधार शहर के पास चल रही ज़ोरदार लड़ाई को देखते हुए हम फिलहाल वहां तैनात अपने लोगों को वापस ले आए हैं. ये एक तात्कालिक कदम है. हमारे कॉन्सुलेट में अभी लोकल स्टाफ़ तैनात हैं. उनके माध्यम से कॉन्सुलेट अभी काम कर रहा है. हम काबुल स्थित अपने दूतावास के माध्यम से वीज़ा डिलिवरी और बाकी सेवाएं जारी रखने की व्यवस्था कर रहे हैं. 

अफ़गानिस्तान के मौजूदा हालात को देखते हुए काबुल स्थित भारतीय दूतावास ने पिछले हफ़्ते ही एक अडवाइज़री जारी की थी. इसमें अफ़गानिस्तान की सुरक्षा स्थिति को ख़तरनाक बताया गया था. कहा गया था कि आतंकवादी लगातार हमले कर रहे हैं. आम आबादी को भी निशाना बना रहे हैं. ऐसे में अगर बेहद अर्जेंट ना हो, तो भारत के लोग अफ़गानिस्तान जाने से बचें. इंडियन ऐम्बैसी ने ये भी कहा था कि अफ़गानिस्तान में भारतीय नागरिकों को किडनैप किए जाने की भी गंभीर आशंका है. 

अमेरिका का लौटना 

अमेरिका की अफ़गानिस्तान से वापसी की प्रक्रिया 90 पर्सेंट तक पूरी हो चुकी है. अगस्त 2021 ख़त्म होतेहोते ये प्रक्रिया भी पूरी हो जाएगी. तब केवल 600 के करीब सैनिक काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास की सुरक्षा के लिए अफ़गानिस्तान में रह जाएंगे. अमेरिका की वापसी के समानांतर ही तालिबानी बढ़त भी जारी है. तालिबान का दावा है कि उसने देश के 85 फीसदी से ज़्यादा हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया है. आशंका है कि आने वाले दिनों में समूचा अफ़गानिस्तान एकबार फिर तालिबान के पास चला जाएगा. ऐसे में वहां किसी के सुरक्षित रहने की कोई गारंटी नहीं. तालिबान दावा करता है कि वो विदेशी दूतावासों को निशाना नहीं बनाएगा. लेकिन तालिबान का भरोसा नहीं किया जा सकता. उसपर यकीन करके जानमाल का रिस्क नहीं लिया जा सकता है. 

एक शांत, अमनपसंद, और लोकतांत्रिक अफ़गानिस्तान में सबका हित था. भारत ने भी इस हित में हाथ खोलकर निवेश किया. अफ़गानिस्तान के पुनर्निर्माण में मदद देते हुए भारत ने 3 बिलियन डॉलर से ज़्यादा की रकम इन्वेस्ट की. मगर उसी अफ़गानिस्तान से अपने स्टाफ़ को हमें वापस लाना पड़ा. ये बहुत निराश करने वाली स्थिति है. 


वीडियो देखें – कोरोना के वैरिएंट्स से कई देशों की हालत खराब, फिर से लग रहे हैं लॉकडाउन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?