Submit your post

Follow Us

लता मंगेशकर इस पाकिस्तानी के लिए दुखी हैं, जानेंगे तो आप भी हो जाएंगे

सितार के जादूगर उस्ताद रईस ख़ान साहब का शनिवार को कराची में निधन हो गया. उन्हें याद कर रहे हैं उनकी 8 अनूठी बातों और परफॉर्मेंस में.

मौजूदा राजनीतिक हालातों में पाकिस्तान हमारा बहुत बड़ा शत्रु है, दानव है. ऐसा प्रतीत तो करवाया ही जाता है. इस नफरत में हम अलग ही स्पेस पर खड़े हैं. लेकिन फिर मैंने लता मंगेशकर का ट्वीट देखा. जिसमें उन्होंने एक पाकिस्तानी सितार वादक की मौत पर दुख जताया और बहुत आत्मीयता से ट्रिब्यूट लिखा. ये चौंकाने वाली बात थी कि एक पाकिस्तानी से लता बाई को घृणा क्यों नहीं? उत्सुकता हुई. पढ़ा.

उन्होंने लिखा था, “सितार के जादूगर उस्ताद रईस खान साहब आज हमारे बीच नहीं रहे. ये खबर सुनकर मुझे बहुत दुख हुआ. उनको भावपूर्ण श्रद्धांजलि.”

lataej

इसके बाद जैसे-जैसे आप हिंदुस्तानी क्लासिकल म्यूजिक के बड़े नाम रईस खां साहब के बारे में जानना शुरू करते हैं और उनके म्यूजिक को सुनना शुरू करते हैं, उन्हें देखना शुरू करते हैं, उतनी ही तत्परता से आप पाते हैं कि वे किसी शत्रु देश के तो लगते ही नहीं. वे तो दोनों मुल्कों का सांझा विरसा है. उन पर हमारा भी उतना ही अधिकार है.

कैसे कह दें कि ये सितार हमारा नहीं है, हमारी रूह छूता नहीं!

इतना ही नहीं, वे वैसे भी भारत से गहरा ताल्लुक रखते हैं.

वे 1939 को इंदौर में पैदा हुए थे. मेवात घराने से ताल्लुक रखते थे. उनका घराना भारत के चंद सबसे पुराने म्यूजिक घरानों में बताया जाता है जो लगातार तीस पीढ़ियों से आज भी सक्रिय है. इस पीढ़ी के लोग 15वीं सदी में मुग़ल दरबार में गाते थे.

रईस के वालिद उस्ताद मोहम्मद खान साहब रूद्रवीणा बजाते थे और सितारवादक थे. रईस ढाई साल के थे तब वालिद को सुबह रियाज करते देखते थे. पिता उन्हें भी सामने बैठा लेते थे. उससे उनका शौक बढ़ता गया. फिर वालिद ने नारियल के खोल से बना एक छोटा सा सितार बनाकर उन्हें दिया. वहां से उन्होंने बजाना शुरू किया. बताया जाता है कि रईस खान ने अपना पहला प्रोग्रैम पांच की उम्र में बड़े दर्शकों के सामने किया.

रईस ख़ान साहब पुरानी तस्वीरों में दिलीप कुमार और ग़ुलाम अली के साथ.
रईस ख़ान साहब पुरानी तस्वीरों में दिलीप कुमार और ग़ुलाम अली के साथ.

वे महान सितारवादकों में तो थे ही, गाते भी बहुत अच्छा थे. वोकलिस्ट के तौर पर उन्होंने बहुत बार परफॉर्म किया. इसके अलावा भी लाइफ के दूसरे शौकों में भी उनकी बराबरी का शायद ही कोई याद आए.

मसलन, वे बैडमिंटन खेलते थे. तीन साल चैंपियन रहे. स्विमिंग करते थे. तीन साल इसमें भी चैंपियन रहे. अपने मामा और जाने-माने उस्ताद विलायत खां साहब के साथ वे बड़े लोगों से शर्त लगाकर बिलियर्ड्स खेलते थे 60 के दशक में, दोनों मिलकर शर्त में 2000-3000 हजार रुपये जीतकर निकल जाते थे. रईस खां साहब ने एक बार ये भी बताया कि वे फॉर्मूला वन रेसिंग में तीन प्राइज़ जीते थे. इसके अलावा 266 घंटे विमान चलाने के अनुभव के साथ उनके पास प्राइवेट फ्लाइंग लाइसेंस भी था.

उनके बारे में ये जानकर बहुत आश्यर्य होगा कि वे टीवी एक्टर सीज़ेन खान के पिता हैं. सीज़ेन को आपने एकता कपूर के टीवी सीरियल ‘कसौटी जिंदगी में’ श्वेता तिवारी के साथ लीड रोल में देखा था. उसमें उनके रोल का नाम अनुराग बासु था और बाद में वे इसी नाम से ज्यादा चर्चित हो गए.

सीज़ेन ख़ान टीवी शो कसौटी.. में श्वेता तिवारी के साथ.
सीज़ेन ख़ान टीवी शो कसौटी.. में श्वेता तिवारी के साथ.

अनुराग की मां तसनीम खान इंटीरियर डिजाइनर हैं. 80 के दशक में रईस खान ने पाकिस्तानी सिंगर बिलकीस ख़ानम से शादी कर ली थी और पाकिस्तान सैटल हो गए थे. रईस ख़ान के सीज़ेन समेत चार बेटे हैं. उनके जाने के बाद बेटे फरहान खान उनकी विरासत संभाल सकते हैं जो ख़ुद भी सितार वादक हैं और अपने पिता के साथ लंबे समय तक परफॉर्म करते रहे हैं.

रईस खां साहब का हमारे साथ शायद सबसे बड़ा संबंध ये भी है कि वे 35 से 40 साल तक हिंदी फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े थे. उन्होंने बहुत सारी फिल्मों में सितार प्ले किया था. जैसे फिल्म ‘पत्थर के सनम’ में. उन्होंने मदन मोहन, शंकर जयकिशन, सी. रामचंद्र, जयदेव, ओ. पी. नैय्यर, लक्ष्मीकांत प्यारेलाल जैसे धुरंधर कंपोजर्स के साथ काम किया था.

भारत वे हमेशा परफॉर्म करने आते रहे. उनकी मां का इंतकाल भी इंडिया में ही हुआ. हमारे सांझे विरसे के एक अध्याय उस्ताद रईस खां साहब खुद भी शनिवार को कराची में गुज़र गए. एक इंसान के तौर पर कई छवियां हो सकती हैं. लेकिन जो छवियां हमारे सबसे काम की हैं वो यहां प्रस्तुत हैं. उनकी बोली वो बातें जो हमें जिंदगी के सबक दे सकती हैं और उनके परफॉर्मेंस जो हमें आनंद देंगे.

#1.
“सीखना सारी जिंदगी है, आखिरी सांस तक है, कब्र तक है. किससे सीख सकते हैं? अगर आपके पास एक ज़ेहन है, कुछ अच्छाई है तो कोशिश कीजिए हरेक आदमी से अच्छाई ले लें. और अपने तईं उसको करें, अपने तरीके से करें.”

#2.
“हम. बहुत मशहूर हैं. बड़े फनकार हैं. फिर ये सोचते हैं कि दुनिया से क्या ले जाएंगे? हम तो एक अख़बार से काटी हुई तस्वीर हैं, काग़ज़ चुनने वाले कल उसको उठा ले जाएंगे, ये औकात है हमारी, और कुछ नहीं.”

#3.
“जिसको देखो वो यही सवाल पूछता है कि आपका फेवरेट राग कौन सा है और कौन सा पसंद नहीं है? आज आपको बड़े मज़े की बात बताऊं कि मुझे कुछ राग पसंद ही नहीं हैं. मुझे गलत राग बिलकुल नहीं पसंद. जिसका न सर है, न पैर. ऐसे रागों को मैं मानता भी नहीं और बजाता भी नहीं और सुनता भी नहीं.”

#4.
“फिल्म म्यूजिक में उस्तादी ये है कि उसे सीधा सीधा रखा जाए. जहां जरूरत है वहां जगह कही जाए, उसमें उस्तादी की जरूरत नहीं है. लेकिन इल्मी म्यूजिक में फिर उस्तादी दिखाना पड़ती है.”

#5.
“फिल्म इंडस्ट्री में लता मंगेशकर जी, आशा भोसले जी, मदाम नूरजहां इनको कंपैयर कर सकते हैं कहीं दुनिया में? है ही नहीं. एक चांद, तो दूसरा सूरज तो तीसरा सितारा. इन लोगों का तो ये दर्जा है.”

#6.
“इज्जत और शोहरत, ये दो अलग चीजें हैं. ये दोनों चीजें किसको नसीब हुई हैं? नाम लूं? उस्ताद विलायत खां, पंडित रविशंकर, पंडित भीमसेन जोशी, हरिप्रसाद चौरसिया, जसराज.”

#7.
“बुज़ुर्गों का एक कहना है कि एक साधे सौ सधें और सौ साधे सब जाय. कसम ख़ुदा रसूल की खाके कह सकता हूं कि मैंने बारह, चौदह, पंद्रह साल तक एक यमन ही बजाई. और मेरा दावा है, चैलेंज है – रोज़ अगर कोई बात न मिले यमन में रईस खान के, तो जो सज़ा चोर की हो वो मुझे दे देना.”

#8.
“कोई एक जुमला लेकर आया था जो मुझे पसंद आ गया और वो मेरे अंदर आ गया. कि दूसरों को सुलझाओ मत और ख़ुद को उलझाओ मत.”

और पढ़ेंः
गोविंदा के 48 गाने: ख़ून में घुलकर बहने वाली ऐसी भरपूर ख़ुशी दूजी नहीं
लोगों के कंपोजर सलिल चौधरी के 20 गाने: भीतर उतरेंगे
रेशमा के 12 गाने जो जीते जी सुन लेने चाहिए!
सनी देओल के 40 चीर देने और उठा-उठा के पटकने वाले डायलॉग!
गीता दत्त के 20 बेस्ट गाने, वो वाला भी जिसे लता ने उनके सम्मान में गाया था
गानों के मामले में इनसे बड़ा सुपरस्टार कोई न हुआ कभी
धर्मेंद्र के 22 बेस्ट गाने: जिनके जैसा हैंडसम, चुंबकीय हीरो फिर नहीं हुआ
बाहुबली-2 में लोग कमियां देखने को तैयार नहीं लेकिन अब उन्हें देखनी होंगी
सलमान की वो फिल्म जो ‘बजरंगी भाईजान’ को भी पीछे छोड़ सकती है
‘न्यूटन’ की पहली एक्सक्लूसिव फुटेजः ये ब्लैक कॉमेडी इस साल की हाइलाइट है
फ्रैंक अंडरवुड की बोली 36 बातेंः इन्हें जान लिया तो ट्रंप-मोदी सब समझ आ जाएंगे
6 विवादित फिल्में जिनमें धाकड़ औरतें देख घबरा गया सेंसर बोर्ड

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.