Submit your post

Follow Us

'अ स्टार इज़ बॉर्न': इसे देखकर किस हिंदी फिल्म की याद आती है?

'ऑस्कर वाली फ़िल्में' सीरीज़ [सीज़न-2] में चौथी फिल्म है ब्रैडली कूपर के डायरेक्शन में बनी A Star Is Born.

जैक हमेशा बात किया करता था कि कैसे म्यूजिक बुनियादी रूप से किसी भी octave/सप्तक के बीच के 12 notes/स्वर मात्र होता है. 12 स्वर और सप्तक दोहराए जाते हैं. ये एक ही कहानी है. जिसे बार बार सुनाया जाता है. कोई भी आर्टिस्ट, इस दुनिया को बस यही पेश कर सकता है कि वो इन 12 स्वरों को कैसे देखता है. बस.

– बॉबी, त्रासद अंत वाले सिंगर जैक का बड़ा सोतैला भाई.

ऐली (लेडी गागा) एक रेस्टोरेंट में वेट्रेस है. आकांक्षी सिंगर है. गाने लिखती भी है. म्यूजिक इंडस्ट्री में प्रवेश की कोशिशें की, पर कुछ नहीं हुआ. कहती है, “क्योंकि, म्यूजिक इंडस्ट्री के जितने भी लोगों के संपर्क में आई हूं उनमें से हरेक ने कहा कि मेरी नाक बहुत बड़ी है और मैं यहां सफल नहीं हो पाऊंगी.” एक मशहूर कंट्री सिंगर, राइटर और गिटारिस्ट जैक (ब्रैडली कूपर) एक ड्रैग बार में उसे गाते हुए सुनता है और अवाक रह जाता है. वो उसकी नाक के हाथ लगाकर कहता है कि तुम्हारी नाक बहुत सुंदर है. वो उसे कहता है कि वो बहुत अच्छा लिखती है. मोटिवेट करता है. अपने एक बड़े शो में, हज़ारों की भीड़ के सामने उसे स्टेज पर बुलवाकर गाना गवाता है. ऐली के लिए ये बड़ा ब्रेक साबित होता है. यूट्यूब पर वीडियो वायरल हो जाता है. जैक आगे भी सपोर्ट करता है. अब वो उभरती स्टार हो जाती है. लेकिन स्टारडम आने के साथ ही, म्यूजिक इंडस्ट्री का बाजार उसकी नाक ही नहीं, पूरे व्यक्तित्व की पैकेजिंग करना शुरू करता है. उसके म्यूजिक में संशोधन किया जाता है. जैक को कंट्री म्यूजिक से उसका पॉप की ओर बढ़ना ठीक नहीं लगता. कुछ वो पज़ेसिव भी होता है कि “क्यों मैं तुम्हारे लिए पर्याप्त नहीं हूं?”

a star is born oscar series - the lallantop

ख़ैर, वो ऐली को फैसले लेने की स्वतंत्रता देता है. दोनों में प्रेम होता है. शादी करते हैं. लेकिन आगे जीवन त्रासद, दुखदायी होता जाता है. ‘अ स्टार इज़ बॉर्न’ एक लड़की के स्टार बनने की कहानी से शुरू होती है, लेकिन पूरी होती है इसके द्वैत के साथ. वो है जैक. इधर से ऐली चढ़ रही होती है, उधर से वो उतर रहा होता है. उसे शराब की लत ने बर्बाद कर दिया है. वो सीन ह्रदय-विदारक है जब ऐमी के बेस्ट न्यू आर्टिस्ट का ग्रैमी अवॉर्ड जीतने की घोषणा होती है और वो स्टेज की ओर जाती है तो नशे में लगभग बेसुध जैक भी अबोध खुशी में उसके पीछे-पीछे जाता है. पहले स्टेज की सीढ़ियों पर बैठ जाता है. सब हंसते हैं. फिर ऐली स्पीच देने लगती है तो वो उसके पास चला जाता है. अचेतना में उससे बातें करने लगता है. ऐली की जिंदगी में खुशी का ये चरम पल है, लेकिन वहीं कष्ट का चरम भी, कि उस आदमी को इस हालत में संभालना पड़ रहा है जिसने उसे यहां तक पहुंचाया है. वो साहस के साथ मैनेज कर रही होती है कि जैक स्टेज पर ही पेशाब कर देता है. ये अवॉर्ड नाइट ऐमी के लिए बदहवासी की रात में तब्दील हो जाती है.

ये फिल्म alcoholism, शराब-ड्रग्स के नशे से जूझने के बारे में भी है. ऐसे सेलेब्रिटीज़ की लंबी सूची है जिनकी जान नशे या ओवरडोज़ की वजह से गई. इनमें जैक का रोल करने वाले ब्रैडली कूपर के समकालीन एक्टर हीथ लेजर (‘द डार्क नाइट’ में जोकर बने थे) और ऐमी का किरदार कर रही लेडी गागा की प्रतिस्पर्धी ऐमी वाइनहाउस के नाम भी हैं. लेकिन लत करने वाले की ट्रैजिक लाइफ से एंटरटेनमेंट ढूंढ़ने के बजाय अगर कारण पता करें कि वो ड्रग्स क्यों करता है, तो ज्यादा ठीक रहता है. जैक के अतीत के कुछ हिस्से हैं जो उसके भविष्य को आगे भी निर्देशित करते हैं.

अपने एक कंट्री म्यूजिक परफॉर्मेंस के दौरान जैक. (फोटोः वॉर्नर ब्रदर्स)
अपने एक कंट्री म्यूजिक परफॉर्मेंस के दौरान जैक. (फोटोः वॉर्नर ब्रदर्स)

पहला, जीवन में स्त्री का अभाव क्योंकि उसकी 18 साल की मां उसे जन्म देते हुए ही मर गईं. वो खालीपन कहीं न कहीं ऐमी भरती है. उसका भाई और मैनेजर बॉबी इसकी पुष्टि भी करता है. ऐमी को परफॉर्म करवाने के बाद जैक खूब शराब पी लेता है तो उसे बिस्तर पर सुलाकर होटल के कमरे से बाहर जाते हुए वो, वहां खड़ी ऐमी से कहता है – “ये इससे पहले किसी गर्ल को स्टेज पर नहीं लाया है. और ये बहुत ही लंबे समय बाद ऐसा हुआ है कि इसने ऐसा (अद्भुत) गिटार प्ले किया है.” जैक का सबसे अच्छा दोस्त नूडल्स (डेव चैपल) भी उसे कहता है – “तुमको यूट्यूब पर देखा. उस वीडियो में, उस लड़की के साथ. मुझे खुशी हुई यार. तुम, तुम लगे. तुम अच्छा कर रहे थे ब्रो. शायद वो लड़की तेरे लिए (नशे, दिमाग की उधेड़बुन से) बाहर निकलने का रास्ता है यार. इसमें डरने की कोई बात नहीं है. ये वैसा ही है जैसे तुम समंदर में तैर रहे हो, और एक दिन, तुम्हे एक किनारा/बंदरगाह मिलता है. तुम सोचते हो – मैं कुछ दिन के लिए यहां रुकता हूं. वो कुछ दिन फिर कुछ साल में तब्दील हो जाते हैं. और आप भूल ही जाते हो कि जा कहां रहे थे. और जब तक आपको अंदाजा होता है, आपको फर्क ही नहीं पड़ता कि आप कहां जा रहे थे. क्योंकि अब आप जहां हो आपको वही अच्छा लगने लगता है.”

दूसरा, टिनीटस. ये ऐसी बीमारी है जिससे जैक की सुनने की शक्ति खराब हो रही है. एक तीखी टोन उसे सुनाई देने लगती है. दूसरी सब आवाज ब्लॉक हो जाती है. इसका कोई इलाज नहीं. डॉक्टर ने कानों में लगाने के लिए हियरिंग एड दिया है जिससे आगे नुकसान रोका जा सकता है लेकिन वो परफॉर्मेंस को फील करना चाहता है इसलिए पहनता नहीं. जब वो छोटा था तब उसे ये बीमारी हुई होगी. उसके पिता के पास एक पुराना रिकॉर्ड प्लेयर विक्ट्रोला था. वो जैक के सिर से भी बड़ा था. बच्चा था तो अपना पूरा सिर उसके अंदर रख देता था. उसके पिता दिन भर ब्लूज़ गीत सुनते रहते थे और जैक को ये रोग हो गया.

तीसरा, शराब की लत जो उसे पिता से लगी. कम से कम, उसका भाई बॉबी और ऐमी दो-तीन मौकों पर उससे झगड़ते हुए यही कहते हैं कि तुम अपने बाप के बेस्ट ड्रिंकिंग बडी थे. जब जैक 13 साल का था तब उसके पिता गुजर गए. वे जिम्मेदार पिता नहीं थे. नशे में रहते थे. बच्चा मर भी रहा होता तो उनको होश नहीं रहता था. ये चीज बाप से जैक में भी आई.

वो दृश्य जहां जैक (ब्रैडली कूपर) बचपन से देखभाल कर रहे अपने बड़े भाई बॉबी (सैम एलियट) पर हाथ तक उठा देता है, उससे लड़ता है. उसकी आलोचना करके बॉबी उसका काम छोड़कर चला जाता है जिसके बाद जैक के हालात बुरे होते जाते हैं. (फोटोः वॉर्नर ब्रदर्स)
वो दृश्य जहां जैक (ब्रैडली कूपर) बचपन से देखभाल कर रहे अपने बड़े भाई बॉबी (सैम एलियट) पर हाथ तक उठा देता है, उससे लड़ता है. उसकी आलोचना करके बॉबी उसका काम छोड़कर चला जाता है जिसके बाद जैक के हालात बुरे होते जाते हैं. (फोटोः वॉर्नर ब्रदर्स)

चौथा, फांसी. छोटा था, तब पिता का एक बेल्ट लेकर छत पंखे से लटकने की कोशिश की. भला ऐसे क्या हालात और अवसाद रहा होगा कि उस 13 साल के बच्चे ने ऐसा किया. ख़ैर. मरा तो नहीं लेकिन पूरा पंखा भरभराकर नीचे गिर गया. जैक के माथे पर बड़ा कट लगा. ख़ून बहा. उसके पिता ने नोटिस भी नहीं किया. वो पंखा छह महीने तक ज्यों का ज्यों पड़ा रहा. विरासत के इस दुखद उपक्रम से भी जैक फिल्म के आखिर तक मुक्त नहीं हो पाता.

‘अ स्टार इज़ बॉर्न’ की कहानी नई नहीं है. इससे पहले इस नाम और कहानी वाली तीन फिल्में रिलीज हो चुकी हैं. सबसे पहले 1937 में ये फिल्म रिलीज हुई. उसके डायरेक्टर विलियम वैलमैन ने रॉबर्ट कार्सन के साथ मिलकर ये कहानी लिखी थी. इस कहानी पर और 1954 व 1976 में रिलीज हुई फिल्मों के स्क्रीनप्ले पर ये नई वाली फिल्म आधारित है. हिंदी फिल्म ‘आशिकी-2’ भी इसी कहानी पर बनी थी.

इस अवॉर्ड सीजन में ‘अ स्टार इज़ बॉर्न’ के खूब छाई रही तो कुछ वजहों से. पहला तो ये कि इसे ब्रैडली कूपर ने डायरेक्ट किया है. वे ‘सिल्वर लाइनिंग्स प्लेबुक’ (2012), ‘द हैंगओवर सीरीज’ (2009-13) और ‘अमेरिकन स्नाइपर’ (2014) जैसी फिल्मों के एक्टर हैं. चूंकि डायरेक्टर के तौर पर उनकी पहली फिल्म आई है तो उसे लेकर कौतुहल है. दूसरा ये कि मशहूर पॉप स्टार लेडी गागा ने बतौर लीड एक्टिंग में अपना डेब्यू किया है. आमतौर पर अपने ग्लैमरस, अल्ट्रा-फैशनेबल कपड़ों और विवादों के कारण चर्चा में रहीं गागा इस फिल्म में ग्लैमरहीन रूप में दिख रही हैं. तीसरा, फिल्म का ट्रीटमेंट. हालांकि फिल्म पर ये आरोप लग सकता है कि ब्रैडली ने खुद पर फ्रेम्स को जहां-जहां फोकस किया है, वहां वे डायरेक्टर की जिम्मेदारी में कम और अपने एक्टर अवतार को तुष्ट करने में ज्यादा समर्पित हैं. लेकिन फिल्म ठीक है. ट्रीटमेंट ताज़ा लगता है. जैसे फिल्म में जो स्टेज परफॉर्मेंस हैं उसमें जो हजारों की अलग-अलग भीड़ दिखती है वो असल लोग हैं और वो शूटिंग असली म्यूजिक कॉन्सर्ट के दौरान की गई है. कम बजट वाले स्टाइल में.

जैक और ऐली,
जैक और ऐली. पियानो. पीड़ादायक अंत से पहले के कुछ बेचैन प्रयास. (फोटोः वॉर्नर ब्रदर्स)

चौथा है फिल्म के साउंडट्रैक जो पसंद आने लायक हैं. खासकर “Shallow/सतह” जिसमें लड़का कहता है – “गर्ल, मुझे ये बताओ, क्या तुम इस मॉडर्न वर्ल्ड से खुश हो या तुमको इससे ज्यादा चाहिए. क्या कुछ और भी है जिसे तुम ढूंढ़ रही हो. मैं तो हार रहा हूं.” बदले में लड़की कहती है – “बॉय, मुझे ये बताओ. क्या तुम इस कमी को भरते-भरते थक नहीं गए हो. या तुमको इससे भी ज्यादा चाहिए. क्या ये सब इतना कठोरता से किया जाना, मुश्किल नहीं है.” साउंडट्रैक में दिलचस्पी इसलिए भी होती है क्योंकि अधिकतर लेडी गागा ने खुद लिखे और गाए हैं, अन्य लोगों के साथ मिलकर. कुछ ब्रैडली ने भी लिखे और गाए हैं. इससे ओवरऑल म्यूजिक को लेकर ऑथेंटिक फीलिंग आती है कि कहानी में जो दो सिंगर परफॉर्म करते दिखते हैं, उन्होंने असल में ही ये संगीत रचा है.

कला या तो कलाकार से पहले कुछ लेती है, या बाद में. लेकिन लेती जरूर है. जले बिना तो दीया भी रोशनी कैसे प्रकट करे. जैक और ऐमी के जीवन में जो अस्त-व्यस्तता है, जो पीड़ाएं और उदेश्य होकर भी जो निरुद्देश्यता है, ये इसी यंत्रणा के परिणाम है कि वे ऐसा म्यूजिक सृजित कर पाते हैं जो असर करता है. ऐसे गीत लिख पाते हैं जो बिना कष्ट के मन में फूट ही नहीं सकते. जब जैक को पहली बार ड्रैग बार में ऐली सुनती है और कुछ अपना मन दे बैठती है तब उस गीत के बोल होते हैं –

” शायद अब समय आ गया है कि
पुराने तरीकों को मर जाने दें
शायद अब समय आ गया है कि 
पुराने तरीकों को हम मर जाने दें
एक आदमी को बदलने में बहुत कुछ लगता है
इसकी कोशिश करने में भी, बहुत कुछ लगता है
कोई नहीं जानता मुर्दों के लिए
आगे क्या इंतजार करता है
कुछ लोग बस उन चीजों में यकीन कर लेते हैं
जो उन्होंने सुनी हैं, जो उन्होंने पढ़ी है
पर कोई नहीं जानता मुर्दों के लिए
आगे क्या इंतजार करता है. 

ऑस्कर 2019 में ‘अ स्टार इज़ बॉर्न’:
आठ नामांकन मिले.

बेस्ट पिक्चर – बिल गर्बर, ब्रैडली कूपर और लिनेट हॉवेल टेलर
बेस्टर एक्टर – ब्रैडली कूपर
बेस्ट एक्ट्रेस – लेडी गागा
बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर – सैम इलियट
एडेप्टेड स्क्रीनप्ले – एरिक रॉथ, ब्रैडली कूपर, विल फेटर्स
सिनेमैटोग्राफी – मैथ्यू लिबाटीक
साउंड मिक्सिंग – टॉम ओज़ानिच, डीन ए. जुपानचिच, जेसन रूडर, स्टीव ए. मॉरो
ऑरिजिनल सॉन्ग – लेडी गागा, मार्क रॉन्सन, एंथनी रोज़ोमांडो, एंड्रयू वायट – गीत “शैलो” (जीते)

सीरीज़ की अन्य फिल्मों के बारे में पढ़ें:
Green Book – ऑस्कर 2019 की सबसे मनोरंजक और पॉजिटिव कर देने वाली फिल्म
Roma – ये सिंपल सी आर्ट फिल्म क्यों 2018-19 के अवॉर्ड सीज़न में हर जगह जीतती चली गई?
The Favourite – क्या होता है जब एक रानी के 17 बच्चे मारे जाते हैं!
BlacKkKlansman – एक फिल्म को देखकर ब्लैक लोगों की लिंचिंग की गई फिर भी महान मानी जाती है!
Bohemian Rhapsody – उस रॉकस्टार की कहानी जो एड्स से मरा और लोग रात भर रोए
Black Panther – बच्चों के सुपरहीरो पर बनी ये फिल्म कट्टर आलोचकों को भी क्यों पसंद आई?
Vice – एक ख़ौफनाक पोलिटिकल फिल्म जो हर वोटर को देखनी चाहिए 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.