Submit your post

Follow Us

'कल्पना जी, भिखारी ठाकुर को गाना आसान है, भिखारी होना नहीं'

भोजपुरी पट्टी में पिछले कुछ दिनों से हंगामा मचा हुआ है. बवाल है भोजपुरी गायिका कल्पना पटवारी को लेकर. हाल ही में एक अखबार ने कल्पना से बात करके एक खबर छापी. इसमें दावा किया गया था कि कल्पना ने भिखारी ठाकुर पर जो शोध किया, उससे भिखारी ठाकुर को वापस मेनस्ट्रीम का हिस्सा बनाने की मुहिम में मदद मिली. बवाल इसके बाद शुरू हुआ. लोग पूछने लगे कि कल्पना ने भिखारी ठाकुर पर क्या शोध किया है? कहां से शोध किया है? भोजपुरिया समाज के लिए भिखारी ठाकुर बड़ा संवेदनशील मुद्दा हैं. लोग उनके लिए भावुक हो जाते हैं. भिखारी ठाकुर को भोजपुरी भाषा का सबसे बड़ा कवि समझ लीजिए. भोजपुरिया समाज जिन बातों पर सबसे ज्यादा गर्व करता है, उनमें भिखारी ठाकुर के लोकगीत भी शामिल हैं. दूसरी तरफ हैं कल्पना पटवारी. वो अपने गाए अश्लील भोजपुरी गानों के लिए जानी जाती हैं. अपने अब तक के करियर में उन्होंने भिखारी ठाकुर के चार-पांच गीत भी गाए हैं. मगर इसके अलावा उनका ज्यादातर गीत-संगीत बेहद अश्लील और उथला माना जाता है. सेक्स और सस्ती बातों से भरा हुआ. उनके गाए गाने लोग परिवार के सामने नहीं सुन सकते, इस टाइप की छवि है उनकी. लोग नाराज हैं कि कल्पना ने ऐसे गाने गाए, लेकिन दावा वो भिखारी ठाकुर पर शोध करने का करती हैं. भिखारी ठाकुर के गीतों को नई जान देने का दावा करती हैं.

atul kumar raiइसी सिलसिले में भोजपुरिया बेल्ट के कुछ लोगों ने अपना लेख लल्लनटॉप को भेजा. इस पूरे मुद्दे पर अपनी बात रखने की उनकी ये कोशिश है. इन्हीं में से एक हैं अतुल कुमार राय. बलिया निवासी हैं, काशी के वासी हैं. वहीं काशी हिंदू विश्वविद्यालय के फैकल्टी ऑफ परफार्मिंग आर्ट्स से एम.म्यूजिकोलॉजी की पढ़ाई कर रहे हैं. साहित्य में रखते हैं और एक ब्लॉग चलाते हैं. जल्द उपन्यास लाने वाले हैं.

 


आदरणीया कल्पना जी,

सादर प्रणाम..

उम्मीद है डीह बाबा,काली माई की किरपा से आप जहां भी होंगी सकुशल होंगी.

मैम, मैनें अभी आपका एक वीडियो देखा. कोई कार्यक्रम था. पता चला आप मेरे जनपद में आई थीं. देखा आपको लोग स्टेज पर तंग कर रहे थे. आपके ऊपर फूल फेंक रहें थे. आपसे वो सब गाने की फरमाइश कर रहे थे, जिसके लिए आप दुनिया भर में विख्यात हैं.

मैनें देखा आप दर्शकों को भिखारी ठाकुर जी के गीत सुनाना चाह रही थीं. लेकिन वो आवारा दर्शक “गमछा बिछाकर दिल लेने की टेक्नीक”बताने वाला आपका सुमधुर गीत सुनना चाहते थे.

आप चंपारण सत्याग्रह और गंगा स्नान गाकर भोजपुरी को आठवीं अनुसूची में तुरन्त शामिल करवाना चाहती थीं. लेकिन लोग..“मिसिर जी तू त बाड़s बड़ी ठंडा” सुनकर गर्म होना चाहते थे.

सच कहूं तो भारी दुःख हुआ. अपने घर में अपने ही उम्र के लड़कों से एक इतनी बड़ी महिला कलाकार का ये अपमान मुझ जैसे एक संगीत के छात्र से भला कैसे बर्दाश्त होगा?

मैं राजनाथ सिंह जी की कसम खाकर इसकी कड़ी निंदा करता हूं.

सच कहूं तो आपके साथ हुई अभद्रता से मन आज बड़े रोष से भर गया है. लेकिन मैम, आपने कभी सोचा कि समस्त भोजपुरीया बेल्ट में ये हालात कैसे पैदा हो गए? और इस हालात का कौन जिम्मेदार है ?

kalpana 1
कल्पना पटवारी ने भिखारी ठाकुर पर शोध करने का दावा किया है, जिसे लेकर भोजपुरी समाज का एक बड़ा तबका नाराज है.

मैं आपको बताता हूं – आप जहां खड़ी होकर गा रही थीं न, उसी के ठीक दस कदम पीछे बलिया जनपद का राजकीय कन्या इंटर कालेज है. आपको पांच मिनट के लिए उस कॉलेज में आज से नौ साल पहले लेकर चलता हूं.

आप बस कल्पना कर लीजिए कि ये सन 2007 का अप्रैल है. और एक लड़की है, जिसका नाम पूजा है. पूजा उस कन्या इंटर कालेज में ग्यारहवीं की छात्रा है और वो भरी दोपहरी में कॉलेज से पढ़कर हकासी-पियासी अपने घर जा रही है. जैसे ही पूजा कालेज से निकलर दस कदम आगे बढ़ती है, आगे वाले चौराहे पर कुछ आवारा लौंडे उसको घूरने लगते हैं और आप ही की आवाज में एक गाना-

”होठ प लाली
कान में बाली
गाल दुनु गुलगुल्ला
देखs चढ़ल जवानी रसगुल्ला.”

उस पूजा की चढ़ी जवानी को समर्पित करके पूछते हैं,

“काहो रसगुल्ला… काम ना होई” ?

मैम, मैं आपको पूछता हूं, कभी दो मिनट के लिए दिल पर हाथ रखकर पूजा के दिल का हाल सोचिएगा, कैसा लगता होगा पूजा को ?

अच्छा, पूजा की छोड़िए. आप जहां खड़ी थीं, उसी के ठीक बगल में बलिया रेलवे स्टेशन है, जहां कैसेट की तमाम दुकानें हैं और बलिया के कोने-कोने में जाने के लिए बस-टैम्पो स्टैंड है. जिले भर के लोग यहां बाजार करने आते हैं. जरा दो मिनट सोच लीजिए कि आप ही की उम्र की एक भद्र महिला दो पुरुषों के साथ जीप में कहीं जाने के लिए बैठी है. तब तक जीप वाले ने बजा दिया है –

“बीचे फील्ड में विकेट हेला के
हमके बॉलिंग करवलस
हम त रोके नाहीं पईनी बलमुआ
छक्का मार गइल..”

kalana 2
कल्पना के गाए गीत हमेशा से द्वीअर्थी रहे हैं.

मैम, दिल पर हाथ रखकर बताइएगा. क्या तब भी आपको इतना ही गुस्सा आएगा ? क्या तब भी आप ऑटो वाले या बस वाले पर इतना ही गुस्साएंगी ? आपको तो पांच मिनट में बड़ा कष्ट हुआ. आपने कभी सोचा कि पूरे भोजपुरीया बेल्ट में दसों सालों तक आपके गानों ने महिलाओं और लड़कियों को कितना कष्ट दिया है ? रास्ते में, बाज़ार में, सड़क पर, शादी और ब्याह में उनको कितना बेइज्जत किया है ?

आप तो शायद अंग्रेजी में ये कहेंगी कि “आय एम फ्रॉम आसाम, आई डोंट नो भोजपुरी”

मैम, सच कहूं तो जब आप जब ऐसा कहती हैं कि मुझे भोजपुरी नहीं आती तो आपके इस छद्म बनावटीपन और भोलेपन पर तरस आता है.

क्या इतना डूबकर गहराई से गाने वाली एक गायिका इतनी मासूम हैं कि उसे पता नहीं कि फील्ड में विकेट डालकर छक्का मारने का मतलब क्या होता है और वो कमबख्त कौन सा दिल है, जो गमछा बिछाकर दिया जाता है?

अरे ! मैम आप जैसे सभी लोगों को इतनी ही चिंता भोजपुरी की होती तो ये नौबत नहीं आती. आज तो पवन, निरहुआ, खेसारी, मनोज तिवारी से लेकर रवि किशन सबको भोजपुरी के स्वभिमान की बड़ी चिंता है. लेकिन मैं पूछता हूं कि इंटरव्यू के बाद अश्लील आइटम सॉन्ग को गाते और उस पर नाचते समय ये चिंता कहां चली जाती है?

सच कहूं तो आप लोगों का ड्रामा देखकर भोजपुरी नाम का कोई जीता-जागता आदमी होता तो अब तक मूस मारने वाली दवाई खाकर मर गया होता. इतना ही कहूंगा कि दर्शकों को भिखारी के नाम पर उल्लू बनाकर, भोजपुरी के स्वाभिमान और सत्याग्रह का रोना बन्द करिए.

Kalpana
भिखारी ठाकुर पर शोध करने वाले और कर चुके कई रिसर्चर और प्रफेसर भी कल्पना के शोध के दावे से नाराज हैं.

भिखारी को आप अच्छा गा रहीं हैं. मुझे भी कुछ गाने आपके ठीक लगते हैं. आपकी गायकी लाजवाब है. लेकिन दिल से कहूं तो भिखारी के कई गानों में भिखारी कहीं नहीं दिखाई देते. कल्पना हावी हो जाती हैं. क्योंकि ट्यून और लिरिक्स सुनकर भिखारी को गाना आसान है, भिखारी होना नहीं.

आपसे पूछता हूं. आपने भिखारी को गाया है लेकिन क्या इतना सीखा है कि एक कलाकार का काम समाज का मनोरंजन करना और शोहरत बनाकर पुरस्कार लेना भर नहीं होता है. इसके अलावा भी उसकी कोई नैतिक जिम्मेदारी है. आपको पता है भिखारी के गीत, उनके नाटक, उनके संवाद, समाज में फैली विद्रूपता और आह से उपजे थे. न की आपकी तरह नकल करने से.

आप जानती हैं? उस नाऊ भिखारी ने विधपा विलाप नाटक तब लिखा, जब उस क्षेत्र की परम्परा के अनुसार एक विधवा के सिर के बाल काटकर रोते हुए वो घर लौटा था. और फिर ऐसा गीत रचा कि वो नाटक आज भी देखते समय हर दर्शक एक विधवा का दर्द महसूस करने लगता है.

आपके पॉपुलर गीत सुनकर लड़कियां आज भी सर झुका लेती हैं. आपको पता है उस अनपढ़ भिखारी ने बेटी-बेचवा तब लिखा, जब समाज में लड़कियां पैसों के लिए बेच दी जाती थीं. और उस नाटक का इतना गहरा असर हुआ कि लड़कियों ने अपने घर वालों से विद्रोह कर दिया.

kalpana 4
कल्पना अब भिखारी ठाकुर के लिखे गीतों को सुर दे रही हैं.

मैं आपसे पूछता हूं. आप बताइए कोई ऐसा गीत है आपका, जिसने समाज को बदलने का कार्य किया हो ? अरे ! साफ कहिए न कि आप भिखारी के नाम पर अपनी टिपिकल इमेज को बदलना चाहती हैं. अच्छा है. बदलिए. इस कदम का स्वागत रहेगा. बदलना ही चाहिए. लेकिन मैम अब बड़ी देर हो चुकी है. लोग आपको चुम्मा देने वाले गीत से जानते हैं. सत्याग्रह से नहीं. न ही इस जन्म में आपको भिखारी के नाम से जानेंगे.

जो होना था वो हो गया. सौ मर्डर करके सहस्रकुंडीय महायज्ञ कराने से पाप कम नहीं हो जाते मैम. आप महामंडलेश्वर भले बन जाइये. लोग देखते ही कहेंगे,

“बक्क ई तो सरवा बड़का हिस्ट्रीशीटर है. आज साधु बन गया.”

मेरी बात सोचिएगा. और पूछिएगा आप ही के साथ एनडीटीवी से लेकर रियलिटी शोज में जज की कुर्सी शेयर करने वाली पद्मश्री मालिनी अवस्थी जी से कि आप तो ददरी मेला में जाती हैं जहां लाखों लंठ जुटते हैं. क्या बलिया वालों ने आपके साथ अभद्रता की है? कभी पदम्श्री शारदा सिन्हा जी मिलेंगी तो उनसे भी जरूर पूछिएगा कि उनके साथ बलिया वालों ने कब इस तरह का व्यवहार किया है ?

बस. बुरा लगे तो माफी. अपने जिले के उन आवारा लड़कों की तरफ से भी माफी. जिनको आप जैसे सैकड़ों गायक-गायिकाओं ने भिखारी और महेंद्र मिसिर के गीत सुनने से आज तक वंचित रखा है.

आपकी कुशलता की कामना के साथ.

एक भोजपुरीया.


भिखारी ठाकुर विवाद: भोजपुरी गायिका कल्पना के नाम एक खुला खत


ये भी पढ़ेंः

हैपी न्यू इयर स्पेशल: 5 भोजपुरी झमाझम

भोजपुरी गानों के बारे में एक ही सोच रखने वालों ये गाना सुन लो

अश्लील, फूहड़ और गन्दा सिनेमा मतलब भोजपुरी सिनेमा

Video: दिल्ली के इस लड़के को सानिया मिर्जा ने कैसे सुपरस्टार बना दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

'बर्लिन' की लोकप्रियता का आलम ये था कि पब्लिक डिमांड पर उन्हें मौत के बाद भी शो का हिस्सा बनाया गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.