Submit your post

Follow Us

पुलिस जुनैद की हत्या के आरोपियों को छोड़ रही है?

जुनैद आपको याद होगा. 16 साल का वो लड़का, जिसकी ईद से चार दिन पहले 22 जून को बल्लभगढ़ में ट्रेन में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी. इस केस में अब तक एक मुख्य आरोपी समेत कुल छ: आरोपी अरेस्ट हो चुके थे, लेकिन 27 जुलाई को फरीदाबाद के अडिशनल सेशंस जज वाय.एस. राठौर ने इनमें से एक आरोपी चंद्र प्रकाश को अर्जी मिलने के बाद जमानत दे दी.

इस बात का खुलासा तब हुआ, जब जुनैद के पिता जलालुद्दीन, उनके भाई हाशिम और हादसे के दिन उनके साथ रहे शाकिर ने एक फेसबुक वीडियो के जरिए लोगों से मदद मांगी. वीडियो में जुनैद के पिता कह रहे हैं,

‘मेरे जो तीन बच्चे ट्रेन में काटे गए थे, एक तो मर गया था और दूसरा जिंदगी-मौत के बीच झूल रहा है, उनके एक कातिल को सरकार ने, प्रशासन ने बेल दे दी है. अभी पूरा केस सॉल्व भी नहीं हुआ है, पता नहीं कैसे बेल दे दी. हम मिले थे डीएसपी से. डीएसपी ने कहा कि चारों की बेल होगी. हमने पूछा कि ऐसे कैसे कर दिया, तो उन्होंने कहा कि तफ्तीश में निकाले हैं ये नाम. पुलिस ने बेल के बारे में हमें कोई खबर नहीं दी, न हमारे वकील को बताया.’

यहां क्लिक करके सुनिए जुनैद के पिता की दलील

जुनैद के पिता और भाई के इस वीडियो को अब तक तीन लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं और जिस पोस्ट के साथ ये वीडियो डाला गया, उसे 15 हजार से ज्यादा लोग शेयर कर चुके हैं. किसी भी केस में किसी भी आरोपी को बेल देने या न देने का अधिकार जज का होता है, लेकिन चंद्र प्रकाश को बेल मिलना इसलिए अजीब लग रहा है, क्योंकि अब तक इस केस में चार्जशीट दायर नहीं हुई है.

चंद्र प्रकाश ने जुनैद की हत्या में क्या किया था

हमले में चंद्र प्रकाश की भूमिका के बारे में जुनैद का भाई हाशिम बताता है, ‘जब चाकू चल रहे थे, तब वो पकड़ने में था. उसने जुनैद भाई को पकड़ रखा था. उसने ही लिटाया था, फिर सारे लात मार रहे थे.’ हाशिम हादसे के दिन जुनैद के साथ था.

junaid1

लखनऊ हाईकोर्ट के एक सीनियर एडवोकेट ने दी लल्लनटॉप के साथ बातचीत में बताया, ‘बेल देने का अधिकार सीधे जज का होता है. अगर आरोपी पर कोई गैर-जमानती धारा नहीं लगी है और कोर्ट को जरूरी लगता है, तो वो किसी भी आरोपी को बेल दे सकता है. लेकिन हत्या जैसे संगीन मामलों में जब तक पुलिस चार्जशीट दायर न कर दे, तब तक अधिकांश मामलों में कोर्ट बेल नहीं देती है. हालांकि, ऐसा कोई लिखित नियम नहीं है.’

जुनैद के मामले की गंभीरता इस बात से समझी जा सकती है कि जिस चंद्र प्रकाश को बेल मिली है, उस पर IPC की 147, 149, 298, 323, 324, 341, 114, 307 और 302 जैसी धाराएं थीं. ये विधि-विरुद्ध जमाव, मारपीट, धारदार हथियार से हमला, हत्या के प्रयास और हत्या जैसे संगीन अपराधों की धाराएं हैं.

चंद्र प्रकाश की बेल की एप्लिकेशन
चंद्र प्रकाश की बेल की एप्लिकेशन

चंद्र प्रकाश की तरफ से बेल की एप्लिकेशन में कहा गया

दोनों पक्षों की दलीलें सुनी जा चुकी हैं और पुलिस ने जांच के दौरान जरूरी चीजें इकट्ठा कर ली हैं
केस करने वाले पक्ष ने गलत तरह से फंसाने के लिए गलत आरोप लगाए हैं
याचिकाकर्ता का मुख्य आरोपी के अपराध करने के मकसद से कोई लेना-देना नहीं था
पुलिस ने भी चंद्र प्रकाश से IPC की धारा 34 ड्रॉप कर दी है
याचिकाकर्ता के खिलाफ इकलौता आरोप धार्मिक भावनाएं भड़काने और मामूली मारपीट का है, जैसा पुलिस के जवाब में लिखा है
पुलिस ने आरोपी पर धारा 298, 323, 341, 324 और 145 रेलवे ऐक्ट के जो आरोप लगाए हैं, वो बेलेबल हैं
आरोपी 28 जून से हिरासत में है और अब उसकी कोई जरूरत नहीं है, इसलिए उसे बेल मिलनी चाहिए

चंद्र प्रकाश की बेल की एप्लिकेशन और आखिरी पन्ने पर बेल की इजाजत
चंद्र प्रकाश की बेल की एप्लिकेशन और आखिरी पन्ने पर बेल की इजाजत

पब्लिक प्रॉसिक्यूटर की तरफ से कहा गया कि आरोपी ने गंभीर अपराध किए हैं, जिन्हें देखते हुए उसे बेल नहीं दी जानी चाहिए. इसके बाद एक लाख रुपए के बॉन्ड पर चंद्र प्रकाश को बेल मिल गई. बेल के साथ-साथ कोर्ट ने कुछ शर्तें भी लगाईं, मसलन बिना इजाजत देश से बाहर न जाना और किसी को न डराना.

केस की जांच कर रहे DCP के अलग-अलग बयान

जुनैद के पिता जलालुद्दीन के मुताबिक चंद्र प्रकाश की बेल की खबर मिलने पर जब उन्होंने मामले की जांच कर रहे GRP डीसीपी महेंद्र सिंह से बात की, तो डीसीपी ने कहा कि मुख्य आरोपी नरेश को छोड़कर बाकी आरोपियों को भी जमानत दिलाई जाएगी. दी लल्लनटॉप ने जब डीसीपी महेंद्र सिंह से उनका पक्ष जानने की कोशिश की, तो न तो उन्होंने फोन उठाया और न मेसेज का जवाब दिया.

चंद्र प्रकाश को बेल मिलने के बाद जुनैद के घर में इकट्ठा लोग
चंद्र प्रकाश को बेल मिलने के बाद जुनैद के घर में इकट्ठा लोग

हालांकि, एक अखबार में छपे वर्जन के मुताबिक डीसीपी ने कहा कि किसी भी आरोपी का नाम जांच में बाहर नहीं निकाला गया है, चंद्रप्रकाश को अदालत से जमानत मिली है.

जलालुद्दीन ने ये भी कहा, ‘पुलिस कुछ सपोर्ट नहीं कर रही है. पुलिस केस को बिल्कुल खत्म कर चुकी है. उन्होंने दोबारा FIR दर्ज की है. हमारी FIR को तो मान ही नहीं रहे हैं. पुलिस के बात करने का तरीका बदल गया है. ढंग से बात नहीं कर रहे हैं.’

कैसे पकड़े गए थे पांचों आरोपी

जुनैद हत्याकांड में पुलिस ने 28 जून को चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था. इससे पहले भी एक आरोपी गिरफ्तार किया गया था. 28 जून को पकड़े गए चार लोगों में एक आरोपी 50 साल का है, जो दिल्ली एमसीडी में इंस्पेक्टर है. बाकी तीन आरोपियों में से दो की उम्र 20-20 साल है और एक 30 साल का है. ये तीनों हरियाणा के पलवल के पास के रहने वाले हैं और प्राइवेट नौकरियों में हैं. इन्हें धारा 307, 302, 341, 289 के तहत अरेस्ट किया गया था. शुरुआती रिपोर्ट्स के मुताबिक आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया था.

सीसीटीवी फुटेज, जिसके आधार पर संदिग्धों की पहचान हुई
सीसीटीवी फुटेज, जिसके आधार पर संदिग्धों की पहचान हुई

और मुख्य आरोपी को पकड़ने में पुलिस को बेलने पड़े थे पापड़

इसके 10 दिनों बाद 8 जुलाई को पुलिस ने मुख्य आरोपी नरेश को महाराष्ट्र के धुले से अरेस्ट कर लिया था, जो फरारी काट रहा था. फरीदाबाद पुलिस के मुताबिक नरेश ने अपना जुर्म कबूल कर लिया था. उसने बताया कि जुनैद से झगड़ा उस 50 साल के शख्स ने शुरू किया था, लेकिन बाद में गुस्से में उसने जुनैद की जान ले ली. GRP एसपी कमलदीप गोयल के मुताबिक नरेश हत्या करके अपने गांव गया, जहां उसने खून से सने कपड़े और चाकू छिपाया. वहां से वो मथुरा और फिर महाराष्ट्र भाग गया.

पुलिस हिरासत में मुख्य आरोपी नरेश
पुलिस हिरासत में मुख्य आरोपी नरेश

नरेश और बाकी पांचों आरोपियों की पहले से आपस में कोई जान-पहचान नहीं थी. उसे पकड़ने के लिए पुलिस को गाजियाबाद से असावती तक सारे रेलवे स्टेशनों पर चालू मोबाइल फोन का डंप निकालना पड़ा था. पुलिस के मुताबिक नरेश नेशनल कृषि म्यूजियम में गार्ड की नौकरी करता था और 22 जून को दिल्ली से ही चाकू लेकर ट्रेन में चढ़ा था. कपड़े और चाकू छिपाने की बात उसने खुद पुलिस के सामने कबूल की थी.


ये भी पढ़ें:

जुनैद की लाश का बताया जा रहा ये वीडियो कहां से आया है!

योगी आदित्यनाथ फैन पेज पर शेयर की गई इस नग्न महिला की तस्वीर का सच क्या है

टोपी लगाकर ‘मस्जिद में नमाज पढ़ते’ राजनाथ सिंह की इस तस्वीर का सच

पब्लिक के बीच गाय का पेशाब पीने वाली योगी की इस तस्वीर का सच हैरान करने वाला है

निकाह के बाद बुर्का न पहनने पर हिंदू लड़की को ज़िंदा जलाने का सच

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.