Submit your post

Follow Us

एक किताबी कीड़े के जीवन में निर्मल वर्मा

यह जीवन में निर्मल वर्मा के साहित्य के आगमन से बहुत पूर्व की बात है. जीवन इस संसार की कई पुस्तकों को पढ़ चुका था, लेकिन निर्मल वर्मा के साहित्य-संसार से अब तक अपरिचित था. जीवन अपनी जड़ों से निर्वासित था. जीवन वृक्ष से छूटे हरे की तरह था— एक रोजमर्रा के भटकाव में क्षण-क्षण रौंदा जाता हुआ, वह अपना रंग खो रहा था. वह सूखी लकड़ी के रंग का हो गया था, या कहें वह लकड़ी हो गया था.

पुस्तकों में पुनर्वास दूसरों के बहाने उन छूट चुकीं स्थानीयताओं में पुनर्वास था जिनके विषय में जीवन प्राय: सोचता रहता था और जहां अब लौट सकना संभव नहीं था. नई स्थानीयताओं में बस कर वह अपने वास्तविक पड़ोस को खो रहा था.

इस तरह पुनर्वास में पड़ोस होते हुए भी अनुपस्थित था. वहां आवाजाही नहीं थी. सुख-दु:ख थे, लेकिन उनकी पूछताछ नहीं थी. वहां सब रोग अकेलेपन से शुरू होते थे और जीवन को उसके हिस्से की व्यथा देकर उसके अकेलेपन से विदा हो जाते थे. व्यथा का आकार चाहे आकाश हो जाए पड़ोस को उसके संदर्भ में दृश्य में नहीं आना था तो नहीं आना था.

जीवन पुस्तकों में रहने लगा था. आस-पास का शोर और आत्महीनताएं और अन्याय और अविवेक उसे कुछ भी अनुभव नहीं होता था. वह पुनर्वास की प्रत्यक्ष के साथ कोई संगति स्थापित नहीं कर पा रहा था. यह भी कह सकते हैं कि इसमें उसकी कोई रुचि नहीं थी. वह एक सुघड़ स्मृतिलोक में स्वप्नवत रहता था. हालांकि इसके समानांतर जो मूल यथार्थ था, वह बहुत हिंसक और भयावह था.

पुनर्वास में अपने अध्यवसाय से जीवन जो स्मृतिलोक रच रहा था उसमें उन छूट चुकीं स्थानीयताओं की कल्पना थी जहां एक ही रोज में कई-कई सूर्योदय और सूर्यास्त थे.

जीवन गर्म दुपहरों को अपने तलवों के नीचे अनुभव करता था और यह गर्म एहसास उसके कपड़ों से नमक की तरह लिपटा रहता था. उसके सिर पर सतत एक बोझ होता था और आगे हत्या की आशंकाएं. यह भयावह के समानांतर एक और भयावह था.

इस समानांतरता में सतत जीते हुए जीवन एक रोज निर्मल वर्मा के गद्य से परिचित हुआ…

जीवन इस गद्य-संसार में उतरा तो उतरता ही चला गया. कुछ तैरा और फिर डूब गया. उसने पाया कि वह छूट चुकी स्थानीयताओं को पा चुका है. उसका अनुभव अपेक्षा से कुछ अधिक और अनिर्वचनीय पा लेने के भयभीत जैसा था. इस आस्वाद के बाद जीवन बहुत वक्त तक चुपचाप रहा.

एक लंबे मौन के बाद जीवन ने पाया कि वह पृथ्वी पर उदासी का अर्थ पा चुका है. एकांत का भी अर्थ और एक स्थानीयता में सार्वभौमिक विस्तार पा चुका है.

जीवन ने पाया कि वह उदासी को जानता है. उसने पाया कि अपरिचित भी आत्मीय हैं. वह निर्मल वर्मा को पढ़ चुका था… और इसके बाद वह लगातार नई-नई स्थानीयताओं में स्थानांतरित होता रहा. इन नई स्थानीयताओं से पहले छूट चुकीं स्थानीयताओं को वह दूसरों के बहाने पुस्तकों में पाता था और मूल यथार्थ से कट कर एक सुघड़ स्मृतिलोक में स्वप्नवत रहता था.

लेकिन अब जीवन बदल चुका था. अब वह संसार को स्मृतिलोक-सा बनाना चाहता था. इसके लिए जो अवयव चाहिए, उन्हें इस संसार से ही पाना चाहता था. वह अब पुस्तकों में कम और संसार में ज्यादा रहने लगा था. यह दृष्टि निर्मल वर्मा के गद्य-संसार से गुजरने के बाद आई थी.

अब जीवन अपने एक प्रतिरूप को पुस्तकों में विस्थापित कर प्रकट और मूल यथार्थ से जूझ रहा था. दिन गुजर रहे थे और निर्मल वर्मा उसकी पाठकीय दिनचर्या की परिधि से छूट चुके थे. इस छूटने से मिल पाना वैसे ही गैर-मुमकिन था जैसे छूट चुकी स्थानीयताओं से मिल पाना. हालांकि पुनर्वास अब कम कष्टदायी था और पड़ोस कम असहनीय.

लेकिन जीवन का प्रतिरूप जीवन के मार्गदर्शन के बगैर आश्रयवंचित था. जीवन ने इस प्रतिरूप के कुछ और प्रतिरूप बनाए और उन्हें निर्मल वर्मा के उपन्यासों — ‘वे दिन’, ‘एक चिथड़ा सुख’, ‘लाल टीन की छत’, ‘रात का रिपोर्टर’, ‘अंतिम अरण्य’ — में अलग-अलग रख कर छोड़ दिया और इस संसार को पढ़ने लगा, यह सोच कर कि निर्मल वर्मा के इन उपन्यासों को वह कभी पहाड़ों पर पढ़ेगा.

यह एक सुंदर कल्पना थी कि पहाड़ इस जीवन में इस संसार से बाहर नहीं होंगे. वे आगामी उम्रों में यकीनन कहीं न कहीं होंगे. वे एक रोज इस संसार में ही संभव होंगे… लेकिन जीवन हर उस जगह से बहुत दूर कर दिया गया जो उसकी अतीव कल्पना में बहुत पवित्रता और विस्तार में थी. वह ‘विस्थापन’ की बहुत गर्म सुबहों में बहुत जल्दी उठ कर निर्मल वर्मा के उपन्यासों को पढ़ता और रात तक एकाकी और उदास रहता था.

वे प्रेम में ‘नहीं होने’ के दिन थे…

आखिर में कहें तो यह जीवन एक रोजमर्रा में निर्मल वर्मा का बहुत ऋणी है. वह असंख्य अर्थों में वंचित रहता अगर वह निर्मल वर्मा के गद्य के समीप न गया होता. संभवत: जीवितों के संसार में बहुतों के ऐसे विचार होंगे, लेकिन यह जीवन यह तथ्य उजागर करता है कि निर्मल वर्मा उसे सबसे बढ़ कर प्रिय हैं.

इस जीवन की कभी निर्मल वर्मा से मुलाकातें नहीं रहीं. कभी कोई संवाद नहीं रहा. उसने कभी उन्हें सशरीर नहीं देखा. वह बस उस गद्य से परिचित है, जहां वह एक ‘बुकमार्क’ बन कर वर्षों से रह रहा है.


ये स्टोरी ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए अविनाश ने की थी.


वीडियो देखें:

खबरें भी पढ़ें:

जी रहा हूं उम्मीद है कि काफी अर्सा और जिऊंगा, ज़िंदगी काफी दिलचस्प लगती है

वो नेता जो खुद चुनाव नहीं लड़ सकता, लेकिन उसके लिए बीजेपी-कांग्रेस के बीच तलवारें खिचीं हैं

भगवान बुद्ध की मूर्ति तोड़ते मुस्लिमों की इस तस्वीर की हकीकत क्या है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.