Submit your post

Follow Us

नरेंद्र मोदी इस मुल्क के शहंशाह हैं भी, और नहीं भी

सोनिया गांधी ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं, शहंशाह नहीं’. लेकिन हमें लगता है कि वो हैं भी और नहीं भी. ‘शहंशाह’ शब्द की पूंछ पकड़ लीजिए और हमारे साथ चलिए.

इसे कांग्रेसी पढ़ें

‘शाह’ पर्शियन राजाओं को कहा जाता था. ईरान के मोहम्मद रजा पहलवी दुनिया के आखिरी शाह थे. 1979 में ईरानी रिवोल्यूशन हुई और उनकी कुर्सी उखाड़ फेंकी गई. इसके बाद शाहों का कल्चर लिटरल सेंस में चला गया. सिर्फ भाषा में यह शब्द रह गया. तो उस दौर में जो ‘शाहों का शाह’ होता था, उसे शहंशाह कहते थे. इस वक्त अपने देश में एक ही ताकतवर शाह है. और सब जानते हैं कि ‘शाह का शाह’ कोई और नहीं, नरेंद्र भाई मोदी ही हैं.

और वो नहीं होंगे तो कौन होगा. अंधेरी रातों में, सुनसान रातों पर निकलने वाले फिल्मी ‘शहंशाह’ भी उनके यहां एंकरिंग करते हैं. दुनिया जहान की ताकत उनके पास है. चचा का एक शेर छोटे से बदलाव के साथ बहुत डरते-डरते लिख रहा हूं.

बना है शाह का शहंशाह, फिरे है इतराता
वगरना मुल्क में ‘साहेब’ की आरजू क्या है

इसे भाजपाई पढ़ें

लेकिन इसमें एक पेच फंस गया है. पेच ये है कि मोदी शाह हैं तो ‘शहजादा’ कौन है? इतिहास के मुताबिक, ‘शहंशाह’ और ‘शाहों’ के लड़के ‘शहजादे’ कहलाते थे. वे लड़के जिनकी नसों में शाह का खून होता था. लेकिन नरेंद्र मोदी तो किसी और के लड़के को ‘शहजादा’ बताते हैं. यानी वह लड़का अगर शहजादा है तो मोदी शहंशाह हो नहीं सकते. जो शहंशाह रहा होगा, उसकी तो सन् इक्यानवे में हत्या कर दी गई.

इसे सब पढ़ें, सब बढ़ें

वैसे ये बातें, सारी बातें हैं. ये लोगों ने फैलाई हैं. भावार्थ पर जाएंगे तो ‘शहंशाह’ वहां हो नहीं सकता, जहां लोकतंत्र है. इसी लॉजिक से कोई ‘शहजादा’ भी नहीं हो सकता. पर पार्टियों के भीतर, ‘शहंशाह’ और ‘शहजादा’ बनने या बने रहने के लोकतंत्र-सुलभ तरीके जरूर खोजे जा सकते हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?