Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

नोट बैन पर 'नमो' के सर्वे का नतीजा हमें पता है

335
शेयर्स

जब नोट बैन से हो रही दिक्कतों को ठीक-ठाक मीडिया कवरेज मिलने लगा, उसके ठीक बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस फैसले पर सर्वे शुरू किया है. वो ‘डिजिटल’ तौर-तरीकों के हिमायती हैं, इसलिए ये काम उन्होंने अपनी मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये शुरू किया है. 10 सवाल हैं, जवाबों के विकल्प हैं.

लेकिन हमें इस सर्वे का नतीजा पता है.

खुद प्रधानमंत्री ने मंगलवार को इस सर्वे का ऐलान किया. एंड्रॉयड, एप्पल और विडोंज स्टोर पर पहले से मौजूद ‘नरेंद्र मोदी’ ऐप पर आप इस सर्वे में हिस्सा ले सकते हैं. बाकी का पता नहीं, लेकिन इस सर्वे का नतीजा हम पहले से जानते हैं.

पहले ये जान लें कि ‘नरेंद्र मोदी’ नाम से दो ऐप हैं. एक सरकारी और एक नरेंद्र मोदी की अपनी. मोदी की पर्सनल ऐप का डेवलपर ‘नरेंद्र मोदी डॉट इन’ को बताया गया है और इसके ब्योरे में बीजेपी दफ्तर का पता है. ये सर्वे नरेंद्र मोदी की अपनी ऐप पर है. इसलिए इसे आप सरकारी सर्वे नहीं कह सकते. ये कह सकते हैं कि प्रधानमंत्री पर्सनल प्लेटफॉर्म पर ये सर्वे करा रहे हैं. वैसे रेटिंग और डाउनलोड दोनों में नरेंद्र मोदी की पर्सनल ऐप सरकारी से आगे है.

2

हां तो हम कह रहे थे कि हमें इस सर्वे का नतीजा पता है. वह होगा कि ज्यादातर लोग नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले से सहमत हैं. फिर बीजेपी प्रवक्ता और सरकार कई जगहों पर इसका जिक्र करेंगे. इसे सबूत की तरह पेश करेंगे. वाहवाही लूटेंगे.

क्योंकि इस सर्वे का रहस्य इसके सवालों की बुनावट में है. सवाल इतने चालाकी से बुने गए हैं कि उसका फीडबैक अंतत: नोटबंदी के पक्ष में ही आएगा. सब सवाल एक फॉरमैट में नहीं हैं. कुछ में ‘हां’ और ‘नहीं’ के ऑप्शन हैं और कुछ में ‘नहीं’ का ऑप्शन नहीं है. कुछ सवाल ऐसे हैं जिसमें ‘असहमति’ का ऑप्शन ही नहीं है.

22 नवंबर को प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘मैं करेंसी नोटों पर फैसले को लेकर लोगों की प्रतिक्रियाएं जानना चाहता हूं. नरेंद्र मोदी ऐप पर इस सर्वे में हिस्सा लीजिए.’

पहला पेच

हमें शक है कि प्रधानमंत्री एक्चुअली किसकी राय जानना चाहते हैं. भारत में सिर्फ 41 फीसदी लोगों के पास स्मार्टफोन हैं. नोट बैन से लोग खुश हैं या नाराज हैं, ये बहस का विषय हो सकता है. लेकिन कैश की उपलब्धता अचानक घट गई है, ये तो तथ्य है ही. और इससे सबसे ज्यादा गांवों में बसने वाला भारत प्रभावित हुआ है, जहां बैंकों और ATMs की संख्या कम है. 2015 के एक सर्वे के मुताबिक, ग्रामीण भारत में सिर्फ 9 फीसदी लोगों के पास मोबाइल टेक्नॉलजी है. वे लोग इस सर्वे में कैसे हिस्सा लेंगे.

दूसरा पेच

अब सवाल है कि इस फीसदी के भी कितने फीसदी लोग नरेंद्र मोदी का पर्सनल ऐप यूज करते होंगे. ये एक व्यक्तिगत ऐप है, सरकारी नहीं. इसलिए जिन्होंने ये ऐप डाउनलोड किया है, या करेंगे; उनमें नोटबंदी से प्रभावित ‘जेनुइन’ लोगों और नरेंद्र मोदी समर्थकों की हिस्सेदारी का अनुपात कितना होगा? अनुमान आसान है.

इसलिए पॉलिटिकल विरोधियों ने भी इस सर्वे की खामियां अंडरलाइन की हैं.

सवाल कैसे कैसे?

10 सवाल हैं, जिनमें पहला सवाल है- ‘क्या आपको लगता है कि भारत में काला धन है?’ इस सवाल को प्रधानमंत्री अपने पक्ष में क्यों इस्तेमाल करना चाहते हैं? कौन होगा जो इसका जवाब ‘ना’ में देगा. जो लोग नोटबंदी से प्रभावित हैं, वे भी ये तो मानते ही हैं कि देश में काला धन है.

सर्वेक्षणों का मकसद विचारों को ग्रहण करना होना चाहिए. लेकिन ऐसा लगता है कि ये सर्वे चालाकी से अपने वैचारिक आग्रह थोपती है. पहले सवाल से ही इसे ‘काला धन के अस्तित्व’ से जोड़कर करप्शन मिटाने की मुहिम बता दिया गया है. फिर आप ही कह लो सर जी, हमसे क्या पूछते हो.

1

एक और सवाल है, ‘क्या आपको लगता है कि भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ लड़ने और इस समस्या को दूर करने की जरूरत है?’ वो कौन भारतीय होंगे जो इस पर ‘नहीं’ पर क्लिक करेंगे. मानकर चलिए कि इस पर 99 फीसदी से ज्यादा ‘हां’ आएगी, उस 99 फीसदी के आंकड़े के आधार पर क्या निष्कर्ष निकाला जा सकता है? क्या ये कहा जा सकता है कि ये सभी लोग नोटबैन के पक्ष में हैं?

एक और सवाल पूछा गया है कि क्या आपको लगता है कि विमुद्रीकरण (demonetization) से रियल एस्टेट, उच्च शिक्षा और अस्पतालों तक आम आदमी की पहुंच होगी?

इस पर तीन ऑप्शन हैं: ‘पूरी तरह सहमत’, ‘आंशिक सहमत’ और ‘कह नहीं सकते.’ अगर आप इससे ‘असहमत’ हैं तो आपके लिए यहां ऑप्शन नहीं है.

किसी ने लिखा है कि ये सवाल उस तरह के हैं, जैसे किसी से पूछा जाए कि क्या तुमने अपनी बीवी को पीटना छोड़ दिया है. वह ‘हां’ कहे या ‘ना’, फंस जाएगा. लेकिन तीसरी बात कहने का ऑप्शन नहीं है.

ऐसा नहीं है कि सरकार को सर्वे नहीं कराना चाहिए. इस समय एक निष्पक्ष सर्वे की जरूरत है भी. लेकिन ये चालाक सर्वे आपको वही कहने देता है, जो आप प्रधानमंत्री सुनना चाहते हैं.

बहुत जल्द इस सर्वे के नतीजों की गूंज आपको न्यूज चैनलों पर सुनाई देगी. बीजेपी प्रवक्ताओं के मार्फत.

Shahid

हैदर में शाहिद कपूर कहते हैं…

शक पे है यकीन तो, यकीन पे है शक मुझे
किसका झूठ झूठ है, किसके सच में सच नहीं
है कि है नहीं, बस यही सवाल है
और सवाल का जवाब भी सवाल है..

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

देशों और उनकी राजधानी के ऊपर ये क्विज़ आसान तो है मगर थोड़ा ट्रिकी भी है!

सारे सुने हुए देश और शहर हैं मगर उत्तर देते वक्त माइंड कन्फ्यूज़ हो जाता है

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो डुगना लगान देना परेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

रजनीकांत के फैन हो तो साबित करो, ये क्विज खेल के

और आज तो मौका भी है, थलैवा नेता जो बन गए हैं.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

रानी पद्मावती के पति का पूरा नाम क्या था?

पद्मावती फिल्म के समर्थक हो या विरोधी, हिम्मत हो तभी ये क्विज़ खेलना.

आम आदमी पार्टी पर ये क्विज खेलो, खास फीलिंग आएगी

आज भौकाल है आम आदमी (पार्टी) का. इसके बारे में व्हाट्सऐप से अलग कुछ पता है तो ही क्विज खेलना.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.