Submit your post

Follow Us

'क्यों नहीं लिखूं वेश्याओं पर'

5
शेयर्स

‘जो चीज जैसी है, उसे वैसी ही पेश क्यों न किया जाए. टाट को रेशम क्यों कहा जाए.’

इन दो आसान लाइनों में ही सआदत हसन मंटो ने अपनी पूरी आइडियोलॉजी समझा दी. ये बात मंटो एक कॉलेज के क्लास रूम में लेक्चर देते हुए कह रहे हैं. और ये सीन है नंदिता दास की शॉर्ट फिल्म ‘बोल के लब आज़ाद हैं तेरे’ का. मुंबई में हुए इंडिया टुडे कॉन्क्लेव-2017 में ये फिल्म दिखाई गई. नंदिता दास एक्ट्रेस भी हैं और डायरेक्टर भी. वही ‘फायर’, ‘अर्थ’ वाली नंदिता दास. और जो ‘फिराक़’ फिल्म आई थी 2008  में, इसको डायरेक्ट किया था.

मंटो भारत-पाकिस्तान विभाजन से आहत, समाज के दोगलेपन से बौराए हुए, औरतों से होने वाले दोयम दर्जे के बर्ताव से ग्लानि और गुस्से में डूबे हुए वो दास्तानगो थे. जिनकी कलम से निकले हर एक हर्फ ने स्याह पड़ चुकी सच्चाइयों को बेरहमी से बेपरदा किया है. मंटो पर अश्लीलता फैलाने के बारहा आरोप लगते रहे. उनकी कहानी ‘बू’, ‘खोल दो’ समेत 6 कहानियों पर कोर्ट में मुकदमा चला था. लेकिन हर बार अदालत ने उन्हें बरी करती गई. काले चरित्र वाले सफेदपोश मंटो की कलम से ऑफेंडेड होते रहे. लेकिन तरक्कीपसंद और खुले दिल-दिमाग के लोगों ने मंटो को हमेशा सिर-आंखों पर चढ़ाए रखा.

नंदिता दास की इस शॉर्ट फिल्म में मंटो लोगों की पर्दानशीन खामियों के धागे खोलते नजर आ रहे हैं. वो कहते हैं,

‘क्यों न लिखूं वेश्याओं के बारे में, क्यों वो हमारे माश्शरे (समाज) का हिस्सा नहीं हैं? उनके यहां मर्द नमाज या दुरुह पढ़ने तो नहीं जाते हैं, उन्हें वहां जाने की पूरी इजाजत है लेकिन हमें उनके बारे में लिखने की नहीं. क्यों नहीं?’

अब हम इस फिल्म के बारे में ज्यादा नहीं लिख रहे. हां, फिल्म की आखिरी लाइन है न. वैसे तो मंटो के व्यक्तित्व को बताने में कई किताबें और सिनेमा खर्च किए जा सकते हैं. लेकिन उस एक आखिरी लाइन ने मंटो की ताउम्र बेचैनी के आलम को समेट लिया है.

अब यहां देखो, ‘बोल के लब आज़ाद हैं तेरे’:


ये भी पढ़ें:

दोनों सरहदों के बीच पड़ा था मंटो का ‘टोबाटेक सिंह’

जाने क्यों वो मंटो का नाम सुनकर जाते-जाते रुक गई

‘आग पर चलते हुए मंटो पहली बार खुद को ढूंढ़ पाया था’

जब चला मंटो पर अश्लीलता का मुकदमा, ज़ुबानी इस्मत चुगताई

लड़की ने कहा, आज मैं भी एक मुसलमान मारूंगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

इस क्विज़ में परफेक्ट हो गए, तो कभी चालान नहीं कटेगा

बस 15 सवाल हैं मित्रों!