Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

88.81 K
शेयर्स

सावन का पवित्र महीना चल रहा है. वैसे तो सारे महीने पवित्र हैं लेकिन सावन भोलेनाथ के लिए रिजर्व है. दिल्ली से लेकर हरिद्वार तक के नेशनल हाईवे कांवड़ियों से भरे हुए हैं. फुल स्पीड में गाजा बाजा डीजे भजन डांस चल रहा है. हमारे व्हाट्सऐप से लेकर फेसबुक तक पर “सावन में न करें ये काम नहीं तो भोले रूठ जाएंगे” वाले मैसेज और पोस्ट आ रहे हैं. इन मैसेजेस में कुछ सच्चाई भी है लेकिन कई सारी चीजें टोटल झुट्ठी हैं. अगर भोले को पता चल गया कि लोगों ने उनके नाम से झूठ फैला रखा है तो क्रोधित हो जाएंगे. तांडव तो वो बहुत रेयर कंडीशन में करते हैं. लेकिन फिर भी छोटा मोटा श्राप तो दे ही सकते हैं. इसलिए इन मिथ्स को जान लें और इनसे बचने को तैयार रहें.

वीडियो नहीं देख पाए हैं तो पढ़ लें.

1. दूध का सेवन न करें:

shivling

हर साल सावन में ये मैसेज आता है कि सावन में दूध का सेवन नहीं करना चाहिए. वैज्ञानिकों के अनुसार इस महीने दूध में वात बढ़ जाता है. व्हाट्सऐप वैज्ञानिकों के मुताबक घास पर कीड़े मकोड़े बढ़ जाते हैं जिनको गौमाता घास के साथ खा जाती हैं. इसलिए दूध हानिकारक हो जाता है. कीड़े मकोड़ों वाला लॉजिक बचकाना है जो सच्ची में गाय चराने जाता है वो जानता होगा. घर में भी हरा चारा काटने के दौरान सिर्फ सावन में कीड़े आ जाते हों, ऐसा नहीं होता. घास के पास जाते ही कीड़े फुर्र से उड़ जाते हैं. साथ ही ये लॉजिक भी दिया जाता है कि इसी वजह से दूध शिव जी को चढ़ा दिया जाता है, खुद सेवन नहीं किया जाता. ये तो और गलत बात है. मतलब जिससे तुम्हारा नुकसान होने वाला है वो भोले को अर्पण कर दो. उनको बेवकूफ समझ रखा है क्या. वो विष पी लेते हैं तो मतलब ये नहीं कि जिस दूध में तुमको विष नजर आ रहा है वो उनको पिला दो. शर्म करो, वो भगवान हैं, उन्हें दूध की कमी नहीं है जो तुम्हारा कथित विषैला दूध पिएंगे.

2. बैंगन नहीं खाना+मांसाहार से बचना:

Image: dreamstime
Image: dreamstime

बैंगन के बारे में भी यही बात है कि इसमें सावन में कीड़े पड़ जाते हैं. सावन में मांस का सेवन वर्जित है इसलिए बैंगन नहीं खा सकते. मांस वाला लॉजिक तो सही नहीं है क्योंकि कीड़ों में मांस और हड्डी कुछ नहीं होता है. लेकिन कीड़े वाली सब्जी खाना बहुत यक्की मामला है, मांसाहारी लोग भी नहीं खाते हैं. यहां सब बेयर ग्रिल्स थोड़ी हैं. हां जीव हत्या वाला मामला सही है. लेकिन अगर भोलेनाथ जीव हत्या से नाराज होते हैं तो साल के 365 दिन नाराज होंगे. इसलिए अगर कीड़े वाला बैंगन नहीं खाना है या मांसाहार नहीं करना है तो पूरे साल नहीं करना है, उसके लिए सावन का इंतजार मत कीजिए.

3. बुरे विचारों से बचें:

पता नहीं इस लॉजिक का सिर्फ सावन से क्या संबंध है? बुरे विचारों से बचने के लिए किसी सावन भादों की जरूरत नहीं है. कहते हैं कि स्त्रियों के प्रति भी बुरे विचार मन में नहीं लाने चाहिए. नहीं तो पूजा में मन नहीं लगता. भोले अंतर्यामी हैं, वो सावन के अलावा बाकी महीनों में ऑफलाइन नहीं रहते हैं. अगर आप उनके सच्चे भक्त हैं तो हमेशा राडार पर रहेंगे और जैसे ही सावन बीता और आपने बुरे विचार मन में लाए, उसी दिन से भगवान भोलेनाथ रुष्ट हो जाएंगे. बुरे विचार यानी निगेटिव एनर्जी, इनसे पूरे साल बचकर रहना चाहिए, पूजा में लगे हों या नहीं, तभी करियर में पढ़ाई में या फैमिली में तरक्की होगी.

4. इन खास लोगों का भूलकर न करें अपमान:

ham-sath-sath-hai
Image: Postdekho

बूढ़े बुजुर्ग, गुरु, पति या पत्नी, मां बाप, भाई बहन और ऐसे तमाम लोगों का सावन में अपमान न करें नहीं तो भोले क्रोधित हो जाएंगे. सावन बीतने के बाद क्या शिव जी भूल जाएंगे कि आपने पूरे महीने उनको धोखे में रखा. सावन बीतते ही अपनी औकात में आ गए? भैये इनका क्या किसी का भी अपमान करने का किसी को कोई हक नहीं है. भले वो सावन में व्रत रहता हो या न रहता हो. सिर्फ सावन में ही नहीं, पूरे साल के लिए सोचकर रखिए कि किसी को दुख नहीं देना है. अपमानित नहीं करना है. भारत का सबसे बड़ा महाकाव्य रचने वाले वेद व्यास इसके बारे में क्या कहते हैं, वो याद कर लो तो सारी जिंदगी संवर जाएगी.

अष्टादश पुराणेषु व्यासस्य वचनद्वयम् |
परोपकारः पुण्याय पापाय परपीडनम् ||

अर्थात व्यास के 18 पुराणों में सिर्फ दो ही बातें लिखी हैं. दूसरों पर उपकार करना पुण्य है और किसी का दिल दुखाना सबसे बड़ा पाप है.

5. सुबह बिस्तर जल्दी छोड़ें:

कहते हैं कि सावन में यदि भगवान भोलेनाथ की कृपा प्राप्त करनी है तो सुबह जल्दी जागना होगा. सिर्फ सावन में जल्दी उठने से क्या होगा. ये वही लॉजिक है कि संडे को देर तक सो लो तो पूरे हफ्ते की थकान उतर जाती है. या दो दिन न खाओ उसके बाद दोनों दिन का एक ही दिन खा लो तो पेट दो दिन की भूख कवर कर लेगा. भैया अगर स्वस्थ रहना है, काम में तरक्की करनी है, शिव जी को प्रसन्न करना है तो सिर्फ एक महीने से कुछ नहीं होगा. सावन का महीना स्पेशल है लेकिन बाकी के महीने शिव सोते नहीं रहते हैं.

6. पति-पत्नी के लिए खास सूचना:

shiv parvati

पति पत्नी को सावन के महीने में एक दूसरे से दूर रहना है अर्थात ब्रह्मचर्य का पालन करना है. नहीं तो भोलेनाथ कुपित हो जाएंगे. ऐसा कहा जाता है कि इस महीने में संभोग करने से गर्भ धारण करने के ज्यादा चांसेज रहते हैं. और व्रत उपवास कर रही महिला कमजोर होती है इसलिए गर्भ उसके लिए खतरनाक हो सकता है. पहली बात तो ये कि सबसे ज्यादा गर्भ धारण फरवरी में होते हैं क्योंकि उसी महीने में वैलेंटाइन्स डे होता है. दूसरी बात सावन में अगर गर्भ धारण हो भी जाता है तो उसका बुरा असर नहीं पड़ने वाला. गर्भ की प्रोसेस 9 महीने की होती है, सावन के व्रत उपवास का असर 9 महीनों तक नहीं रहता.

7. शराब से दूर रहें:

सावन के महीने में शराब से दूर रहना चाहिए क्योंकि इससे शरीर का तापमान बढ़ता है. ठंढाई से नहीं बढ़ता तभी तो उसका नाम ठंढाई है. वैसे कुछ खाना या पीना पर्सनल मामला है, इस पर शिव जी ही रोक लगा सकते हैं. हम कुछ कहेंगे तो अभी ट्रोल कर लोगे. फिर भी बता रहे हैं कि कोई भी चीज जो आपके दिमाग पर कंट्रोल करे, वो खाना पीना ठीक नहीं है. अगर झेलने की ताकत है तो चाहे जो पियो, कच्ची या पक्की, खुशी में चाहे गम में, लेकिन एक ढक्कन में चढ़ जाती है तो क्या सावन क्या भादों, हाथ जोड़ लो, भगवान भोलेनाथ कल्याण करें.


ये भी पढ़ें:

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

जानिए जगन्नाथ पुरी के तीनों देवताओं के रथ एक दूसरे से कैसे-कैसे अलग हैं

सीक्रेट पन्नों में छुपा है पुरी के रथ बनने का फॉर्मूला, जो किसी के हाथ नहीं आता

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

परशुराम ने मां की हत्या क्यों की थी और क्षत्रियों को क्यों मारते थे, यहां जानो

द्रौपदी के स्वयंवर में दुर्योधन क्यों नहीं गए थे?

असली बाहुबली फिल्म वाला नहीं, ये है!

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

गेम ऑफ थ्रोन्स लिखने वाले आर आर मार्टिन का जनम दिन है. मौका है, क्विज खेल लो.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

अगर जवाब है, तो आओ खेलो. आज ध्यानचंद की बरसी है.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

इन 10 सवालों के जवाब दीजिए और KBC 9 में जाने का मौका पाइए!

अगर ये क्विज जीत लिया तो केबीसी 9 में कोई हरा नहीं सकता

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

लल्लन ख़ास

उस कवि की कविताएं जिसे 30 साल के लिए जेल में बंद कर दिया गया

कविता क्या है? एक खूबसूरत ग़लत झूठ, एक आक्षेपित सत्य.

गुजरात की इस रानी की कहानी जानते हैं, जिसने जौहर कर लिया

गुजरात के लोग उन्हें देवी की तरह पूजते हैं.

वो एक्ट्रेस, जिसके दो गाने घर-घर, गली-गली, ट्रक, टेम्पो, बस में खूब बजे लेकिन हमने भुला दिया

तीन साल की उम्र में कैमरा फेस किया और 18 साल की उम्र में मिस इंडिया बनीं.

गुजरात चुनाव: कहानी उस सीट की, जिसने सबसे बुरे वक्त में बीजेपी का साथ दिया

जब बीजेपी के पास कुछ नहीं था, तब ये सीट थी. मगर इस बार के चुनाव में यहां बीजेपी के पसीने छूट रहे हैं.

कभी सोचा है, बिना रंग का आसमान नीला क्यों दिखाई देता है?

ये बताने वाले सीवी रमन को भारत में साइंस के लिए एकमात्र नोबेल मिला हुआ है. आज के दिन दुनिया से विदा ली थी.

जानिए, उस ड्रामे की असलियत जिसके दम पर सालों से पब्लिक को 'मूर्ख' बना रही है कांग्रेस

गांधी परिवार को आगे रखने के लिए कांग्रेस ने बहुत नाटक किया है. इस ड्रामे का लोकतंत्र से कोई लेना-देना नहीं है.

गुजरात की वो झामफाड़ सीट जहां से जीतने वाले राज्यपाल, CM और PM बने

जानिए इस बार यहां से किसकी किस्मत चमकने वाली है.

बीजेपी गुजरात में जीते या हारे, नरेंद्र मोदी ये रिकॉर्ड ज़रूर बना लेंगे

जो मोरारजी के वक्त होते-होते रह गया, अब होगा.

उन नामों को तो जान लीजिए, जिनकी वजह से गुजरात में भसड़ मची है

बीजेपी और कांग्रेस की लिस्ट आने के बाद से हंगामा मचा हुआ है.

फ़ैज़ ने जो नज़्म लिखी थी वो अब भी ज़िन्दा है, गुड़िया होती तो न बचती!

एक कविता रोज़ में आज पढ़िये फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की वो नज़्म जो युवा क्रांतियों का नारा बन गयी.