Submit your post

Follow Us

मुजफ्फरपुर रेप केस : कहानी उस महिला की, जिसकी मदद से ब्रजेश ने खड़ा किया NGO का साम्राज्य

मुजफ्फरपुर में 34 बच्चियों से रेप के मामले का मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर जेल में है. ब्रजेश के अलावा 9 और लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है. जांच के दौरान जब सीबीआई ने ब्रजेश ठाकुर और बिहार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंदेश्वर वर्मा के लिंक तलाश लिए, तो मंजू वर्मा ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. सरकार ने ब्रजेश ठाकुर को बतौर मान्यता प्राप्त पत्रकार हासिल हुई सारी सुविधाएं छीन लीं और उसके सभी एनजीओ के लाइसेंस कैंसल कर दिए. लेकिन ब्रजेश ने अपना जो साम्राज्य खड़ा किया था, उसमें ब्रजेश की मदद जिस महिला ने की थी, वो अब भी पुलिस और सीबीआई की निगाहों से गायब है. सीबीआई उस महिला की तलाश कर रही है और उसके लिए नेपाल तक में छापेमारी की जा रही है.

मधु का पुराना नाम शाइस्ता परवीन है.
मधु का पुराना नाम शाइस्ता परवीन है. (फोटो : Social Media)

उस महिला का नाम है शाइस्ता परवीन. मुजफ्फरपुर में उसे मधु के नाम से जाना जाता है. ये वही मधु है, जो बालिका सेवा एवं संकल्प समिति में ब्रजेश ठाकुर के बाद सबसे ज्यादा ताकवर थी. इस शाइस्ता परवीन के मधु बनने की कहानी दिलचस्प है. मुजफ्फरपुर में एक इलाका है चतुर्भुज स्थान. मुजफ्फरपुर के लोग इसे बदनाम गली के तौर पर जानते हैं. 1995 में मुजफ्फऱपुर की डीएम और अब झारखंड की मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने इस बस्ती में ‘ऑपरेशन उजाला’ चलाया और इस बदनाम बस्ती को उजाड़ दिया. इसके अलावा डीएम के आदेश पर कुछ को जेल भेज दिया गया. वहीं एक स्वयंसेवी संस्था अदिथि ने वहां से निकाली गई लड़कियों को चूड़ी और बिंदी बनाने का प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार से जोड़ दिया. यहीं  के लालटेन पट्टी इलाके की रहने वाली थी शाइस्ता परवीन.

लालटेन पट्टी के रहने वाले लोगों के मुताबिक मुजफ्फपुर के सिकंदरपुर इलाके के रहनेवाले विश्वनाथ सिंह को इस रेडलाइट एरिया की एक लड़की रोशन ने शादी कर ली थी. शाइस्ता परवीन उन्हीं की बेटी है. लेकिन विश्वनाथ सिंह की ये दूसरी शादी थी. इससे पहले भी विश्वनाथ सिंह ने इसी इलाके की एक लड़की से शादी की थी, जो मूलरूप से मधुबनी के झंझारपुर की रहने वाली थी. उससे एक बेटी थी, जिसका नाम हुसना है. हुसना के बेटे मनोज की शादी नेपाल में हुई है और मनोज नेपाल में ही रहता है. और इसी वजह से कहा जा रहा है कि शाइस्ता परवीन नेपाल में छिपी हुई हो सकती है.

शाइस्ता ऊर्फ मधु की शादी 1998 में चांद मुहम्मद से हुई थी. (फोटो : Social Media)

शाइस्ता की कहानी पर लौटते हैं. शाइस्ता ने 1998 में चांद मुहम्मद नाम के एक शख्स से निकाह किया था. शाइस्ता परवीन और चांद मुहम्मद की एक बेटी भी हुई. निकाह के बाद तीन साल तक तो शाइस्ता परवीन और चांद मुहम्मद की शादी चली, लेकिन चांद मुहम्मद की नशे की आदत की वजह से शाइस्ता परवीन ने 2001 में पति का घर छोड़ दिया और वापस लालटेन पट्टी में रहने लगी. इसी दौरान मुजफ्फरपुर में एक तेज तर्रार महिला एएसपी की पोस्टिंग हुई, जिनका नाम था दीपिका सुरी. दीपिका सुरी ने आते ही रेड लाइट एरिया लालटेन पट्टी में फंसी महिलाओं और बच्चियों को निकालने का काम शुरू किया. इसके लिए एएसपी ने एक ऑपरेशन चलाया, जिसे नाम दिया गया ऑपरेशन उजाला. पूरे देश में इस अभियान की चर्चा हुई. इस दौरान पुलिस ने अनवर मियां नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया था, जिसे इलाके में चल रहे देह व्यापार का सरगना माना गया था.

1995 में मुजफ्फपुर की डीएम राजबाला वर्मा ने ऑपरेशन उजाला चलाया था.
1995 में मुजफ्फपुर की डीएम राजबाला वर्मा ने ऑपरेशन उजाला चलाया था.

इस दौरान कई लड़कियों को रेड लाइट एरिया से बाहर निकाला गया और उनकी शिक्षा-दीक्षा की व्यवस्था की गई. इसके लिए पुलिस की ओर से मोहल्ला सुधार समिति का गठन किया गया, जिसमें 12 सदस्य थे. इन 12 सदस्यों में से एक नाम ब्रजेश ठाकुर और दूसरा नाम शाइस्ता प्रवीन का भी था. इसी दौरान शाइस्ता परवीन ने अपनी पहचान छिपाने के लिए नाम बदल लिया और अब वो मधु के नाम से जानी जाने लगी. मधु यानी कि शाइस्ता परवीन को लालटेन पट्टी और रेड लाइट इलाके की पूरी जानकारी थी. इसी की बदौलत ब्रजेश ठाकुर ने मधु के साथ मिलकर रेड लाइट एरिया में ही लड़कियों के पुनर्वास के लिए एनजीओ खोल दिया. मधु और ब्रजेश ने वहां की 50 महिलाओं को इकट्ठा किया और उनके नाम पर कौशल विकास और प्रशिक्षण देने के लिए सरकार से लाखों रुपये ऐंठ लिए. 2003 में जब एड्स को लेकर जागरूकता फैलाने की मुहिम शुरू हुई तो ब्रजेश की संस्था को एड्स कंट्रोल सोसाईटी की ओर से भी फंड मिल गया. जब फंड बढ़ना शुरू हो गया, तो ब्रजेश और मधु ने मिलकर एक नई संस्था खोली और उसे नाम दिया गया वामा शक्ति वाहिनी. इस संस्था की सर्वे सर्वा मधु थी और अब वो सीधे सरकार से अपनी संस्था के नाम पर फंड लेने लगी थी.

जिस सेवा संकल्प एवं विकास समिति की 34 बच्चियों से रेप का मामला सामने आया है, उसमें ब्रजेश के बाद मधु के नाम का ही सिक्का चलता था.
जिस सेवा संकल्प एवं विकास समिति की 34 बच्चियों से रेप का मामला सामने आया है, उसमें ब्रजेश के बाद मधु के नाम का ही सिक्का चलता था.

वहीं इस दौरान पूरे देश में एड्स नियंत्रण को लेकर एक माहौल बना हुआ था. मधु ने इसका फायदा उठाया और ब्रजेश के रसूख की मदद से मुजफ्फरपुर की एड्स कंट्रोल सोसाइटी पर कब्जा कर लिया. कहा जाता है कि मधु की वजह से ही रेड लाइट एरिया में एड्स नियंत्रण को लेकर कई बैठकें हुईं. उन सभी बैठकों में मधु मौजूद रहती थी और इलाके में चलने वाले हर प्रोजेक्ट पर मधु ने अपनी पकड़ मज़बूत कर ली थी. इसके बाद तो शहर में शुरू होने वाले हर ऐसे प्रोजेक्ट मधु के ही पास जाने लगे. वहीं एड्स कंट्रोल सोसाइटी के कुछ अधिकारी जब ट्रांसफर होकर समाज कल्याण विभाग में पहुंचे, तो समाज कल्याण विभाग के भी प्रोजेक्ट मधु के पास जाने शुरू हो गए. इस बीच एड्स कंट्रोल सोसाइटी का भी काम चलता रहा. 2016 में एड्स कंट्रोल सोसाइटी में जब एक नए अधिकारी ने मधु की बात नहीं मानी, तो उनका ट्रांसफर तक कर दिया गया. इतना ही नहीं, जब बिहार में शराबबंदी हो गई, तो उस अधिकारी की बार में बैठी हुई फोटो सोशल मीडिया पर वायरल कर दी गई. मधु और ब्रजेश मिलकर अपना साम्राज्य चलाते रहे, करोड़ों रुपये के वारे न्यारे करते रहे. ये खेल तब तक चलता रहा, जब तक ब्रजेश गिरफ्तार नहीं हो गया. ब्रजेश के गिरफ्तार होते ही मधु फरार हो गई और अब वो कहां है, इसकी जानकारी किसी को भी नहीं है.

कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाला था ब्रजेश!

पुलिस वैन में बैठे ब्रजेश ने कहा था कि वो 2019 में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहता था.
पुलिस वैन में बैठे ब्रजेश ने कहा था कि वो 2019 में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाला था.

8 अगस्त को ब्रजेश ठाकुर की पॉक्सो कोर्ट में पेशी थी. कोर्ट जाते वक्त पुलिस वैन में सवार ब्रजेश ठाकुर का सामना जब मीडिया से हुआ तो उसने दावा किया कि वो 2019 में मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ना चाहता था. मीडिया के सामने उसने दावा किया कि मधु सिर्फ उसकी एक संस्था में काम कर रही थी. वहीं ब्रजेश जब पेशी के लिए कोर्ट में ले जाया जा रहा था, तो इस दौरान वहां मौजूद भीड़ ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ नारेबाजी कर रही थी. इसी भीड़ से निकलकर एक लड़की ने ब्रजेश ठाकुर पर स्याही फेंक दी.

हालांकि ब्रजेश ठाकुर ने ये भी कहा था कि किसी भी लड़की ने उसका नाम नहीं लिया है. लेकिन जैसे-जैसे सीबीआई की जांच आगे बढ़ती जा रही है, ब्रजेश के कारनामों की फेहरिश्त और उससे जुड़े हुए रसूखदारों के नाम सामने आते जा रहे हैं.


ये भी पढ़ें:

मुजफ्फरपुर रेप केस में जिन मंत्री के पति का नाम आया है, वो हर घाट का पानी पिए हैं

मुजफ्फरपुर बालिका गृह : जहां बच्चियों से रेप के लिए इस्तेमाल की जाती थीं 67 किस्म की नशीली दवाएं

मुजफ्फरपुर : कौन हैं वो 10 लोग जिनकी वजह से हुआ था 34 बच्चियों से रेप

कौन है ब्रजेश ठाकुर, जिसके बालिका गृह में 34 बच्चियों से रेप हुआ है?

मुजफ्फरपुर ही नहीं, बिहार की इन 14 जगहों पर भी बच्चे-बच्चियों से हुआ है रेप!

34 बच्चियों से बार-बार रेप और एक बच्ची की हत्या, फिर भी ये मामला दबा हुआ क्यों है?

TISS के ऑडिट ने बताया था, मुजफ्फरपुर की बालिका गृह में बच्चियों का रेप होता था-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.