Submit your post

Follow Us

ब्लैक फ़ंगस किसको और कैसे होता है?

बात ब्लैक फ़ंगस नाम की बीमारी की. वैज्ञानिक भाषा में कहते हैं म्यूकरमाइकोसिस. ब्लैक फ़ंगस एक इन्फ़ेक्शन है, जो इन दिनों कोरोना से ठीक हुए मरीज़ों में दिखाई दे रहा है. ख़बरें हैं कि लोगों को इस इन्फ़ेक्शन की वजह से अपना जबड़ा और अपनी आँखें गँवानी पड़ रही है. कई केसों में तो मरीज़ों की मौत भी हो जा रही है. सब पर बात करेंगे.

ये म्यूकरमाइकोसिस किसको और कैसे होता है?

ब्लैक फ़ंगस बहुत रेयर रोग है. अभी तक ज़्यादा लोगों में देखने को नहीं मिला है. फिर भी राज्यों की संख्या अलग-अलग करके देखें तो महाराष्ट्र में ब्लैक फ़ंगस से अब तक 90 लोगों की मौत हो चुकी है. और क़रीब 1500 लोग मौजूदा समय में इससे संक्रमित हैं. ख़बरों के मुताबिक़ राजस्थान में भी 700 से ज़्यादा ब्लैक फ़ंगस के केस मिल चुके हैं. हरियाणा में भी ब्लैक फ़ंगस के 110 से ज़्यादा केस मिल चुके हैं. दिल्ली चलें तो यहां के कुछ अस्पतालों में भी ब्लैक फ़ंगस के केसों में बढ़ोतरी हुई है. एम्स में 20 केस, सर गंगाराम अस्पताल में 40 केस और मैक्स अस्पताल में ब्लैक फ़ंगस के 25 केस सामने आ चुके हैं. अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में अकेले ब्लैक फ़ंगस के 481 मरीज़ों का इलाज चल रहा है. यूपी की राजधानी लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज में अकेले ब्लैक फ़ंगस के तहत 50 लोग भर्ती हो चुके हैं. शहरों के एक अस्पताल से ही पूरे राज्य की हालत का अंदाज़ लगाया जा सकता है.

अब कोरोना केसों की तुलना में ब्लैक फ़ंगस मरीज़ों की संख्या कम तो है. लेकिन स्थिति गम्भीर है. कई मरीज़ों को दवा के साथ साथ सर्जरी का भी सहारा लेना पड़ रहा है और कई मरीज़ों की मौत भी हो जा रही है.

किन लोगों को हो रहा है ब्लैक फ़ंगस का इंफ़ेक्शन?

जानकारों की मानें तो जिन लोगों की इम्यूनिटी किसी वजह से बहुत कम है, उनमें ब्लैक फ़ंगस तेज़ी से अटैक कर रहा है. साथ ही डायबिटीज़ के मरीज़ों, कैंसर के मरीज़ों और ऑर्गन ट्रांसप्लांट करवाए लोगों, यानी जिन्होंने अपना अंग प्रत्यारोपण करवाया है, को ये ब्लैक फ़ंगस ज़्यादा संक्रमित कर रहा है. अब आप पूछेंगे कि इस सबका कोरोना से क्या रिश्ता है? इम्यूनिटी वाली बात पर वापिस चलिए. हाल फ़िलहाल के दिनों में देखा गया कि कोरोना के मरीज़ों को शुरुआत से ही स्टेरॉइड दिया जा रहा है. स्टेरॉइड मरीज़ों में इम्यूनिटी को बेहद कम कर देता है, साथ ही जो मरीज़ डायबिटीज़ से ग्रस्त हैं, उनका शुगर लेवल स्टेरॉइड के इस्तेमाल के बाद ख़तरनाक रूप से बढ़ जाता है. ऐसी परिस्थिति आने पर आप कोरोना से भले ठीक हो जाएँ, लेकिन दूसरे क़िस्म का इन्फ़ेक्शन होने का ख़तरा बढ़ जाता है. और वैसा ही एक इंफ़ेक्शन है ब्लैक फ़ंगस. कैसे पता चलेगा कि किसी को ब्लैक फ़ंगस का इंफ़ेक्शन हो गया है? कुछ लक्षण बताए गए हैं. नाक से काले द्रव का या ख़ून का बहना, आंखों के आसपास दर्द, दांत में दर्द और दांत का ढीला हो जाना, चेहरे के अलग अलग हिस्सों में और नाक के ठीक ऊपर दर्द होना, शरीर पर चकत्ते पड़ना, चमड़ी का सूखना, सीने में दर्द होना और सांस लेने में तकलीफ़ होना. लेकिन डॉक्टर ये भी कहते हैं कि ऐसे लक्षण और भी वजहों से हो सकते हैं. अब इस ब्लैक फ़ंगस को हल्के में लिया तो दिक़्क़त हो सकती है.

ब्लैक फ़ंगस के बढ़ते केसों को रोकने के लिए राज्य क्या कर रहे हैं?

तेलंगाना, राजस्थान और हरियाणा ने अपने यहां ब्लैक फ़ंगस को अलग रोग की तरह नोटिफ़ाई करके महामारी घोषित कर दिया है. ये तो 20 मई के पहले का घटनाक्रम था. 20 मई को केंद्र सरकार ने दूसरे राज्यों से भी यही करने को कहा. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने राज्यों को पत्र भेजा है. उन्होंने कहा है कि सभी राज्य और केंद्रशासित प्रदेश ब्लैक फंगस को महामारी रोग अधिनियम 1897 के तहत महामारी घोषित करें. हर पुष्ट और संभावित केसों की जानकारी भी केंद्र सरकार को उपलब्ध कराएँ. ये भी कहा गया है कि सभी सरकारी और निजी स्वास्थ्य सेवाओं और मेडिकल कॉलेजों को ब्लैक फंगस की जांच, डाइग्नोसिस, प्रबंधन के लिए ICMR और स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों का पालन करना होगा. महामारी घोषित होने पर क्या होगा? मोटामोटी बताएँ तो कोई रोग अगर महामारी अधिनियम के तहत महामारी घोषित होता है तो राज्य अपने यहां इस रोग के उपचार और रोकथाम के लिए बाध्यकारी नियम ला सकते हैं. अस्पताल में संदिग्ध मरीज़ों को अधिकारपूर्वक भर्ती कर सकते हैं और लोगों की रोग सम्बंधी जांच कर सकते हैं. इन नियमों को न मानना अपराध होगा. इसके अलावा ब्लैक फ़ंगस को कंट्रोल करने के लिए आज एम्स ने भी दिशानिर्देश जारी किए हैं. अपने दिशानिर्देश में एम्स ने बताया है कि लक्षण आने पर क्या करना है. उन्होंने कहा है कि

– जल्द से जल्द डॉक्टर के संपर्क में आएं. आंखों के स्पेशलिस्ट या मरीज़ का इलाज कर रहे डॉक्टर से फौरन सलाह लें.
– नियमित रूप से इसका उपचार करें. अपनी डायबटीज पर कंट्रोल करें. इसे हर हाल में नियंत्रण में रखें.
– रेग्युलर मेडिकेशन और डॉक्टरों की परामर्श के बाद ही कोई भी मेडिकल ट्रीटमेंट लें.
– स्टेरॉयड या एंटीबायोटिक्स या एंटिफंगल दवाओं के साथ किसी भी दवा को बिना डॉक्टर के रेकमेंडेशन के ना लें.

इसके अलावा कई डॉक्टर हमसे बातचीत में ये भी कहते हैं कि कोविड के इलाज में डॉक्टरों को स्टेरॉइड का इस्तेमाल शुरुआत में ही नहीं करना चाहिए, या कम से कम इस्तेमाल करना चाहिए. भले ही वो ICMR के कोरोना ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल में शामिल क्यों न हो. बात साफ़ है कि ब्लैक फ़ंगस के लक्षण आने के बाद ख़ुद से अपने रोग का इलाज न करें. लक्षण कई वजहों से हो सकते हैं. डॉक्टर से मिलें. और डॉक्टर का बताया इलाज ही करें.


विडियो- कोरोना में जो ब्लैक फंगस बीमारी आंखें निकलवा रही, उसमें मारक इंजेक्शन ढूंढे नहीं मिल रहा है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

'बर्लिन' की लोकप्रियता का आलम ये था कि पब्लिक डिमांड पर उन्हें मौत के बाद भी शो का हिस्सा बनाया गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.