Submit your post

Follow Us

'लड़कों को भरे शरीर वाली लड़कियां अच्छी लगती हैं, थोड़ा वजन बढ़ा लो'

हर संडे जब भी कॉलम लिखने बैठती हूं, औरतों के बारे में सोचती हूं, तो सबसे पहले मां की याद आती है. हर दोपहर पापा का टिफिन तैयार होकर जाता. गरमागरम. हर दोपहर दादाजी और हम बच्चे लंच करने बैठते. मां किचन से गरम-गरम फुल्के निकालकर लातीं. दादाजी का नियम था, प्लेट में रोटी गरम-गरम आए. जब पिछली रोटी का आखिरी निवाला मुंह में जाए, तभी अगली रोटी आंच से उठाकर प्लेट में रखी जाए. जब दादाजी (और घर के बाकी लोग) खा चुकते, तब मां के खाने का नंबर आता.

pp ka column

कभी-कभी ऐसा दिन भी आता कि कोई अचानक घर पर टपक पड़ता या फिर घर के बाकी लोग ही ज्यादा खा लेते. खाना कम पड़ जाता. कभी दाल, कभी सब्जी. तो जो भी बचता, मां उसे खा लेती. पिछली रात के बचे हुए खाने के साथ. इसमें कोई बेचारगी नहीं रहती कि बचा-खुचा खाने को मिल रहा है. ये एक आदत सी थी. एक माना हुआ सच सा था कि मां को आखिर में ही खाना है.

मैं परिवारों के बीच ज्यादा नहीं रही हूं, पर शायद हर जॉइंट फैमिली में ऐसा ही होता होगा. कम से कम अपने रिश्तेदारों के बारे में तो कह ही सकती हूं कि बहुएं सबको खिलाकर खाने बैठती हैं. अपनी जानकारी में मैंने ऐसा कोई घर नहीं देखा, जहां मां की पसंद का खाना बनता हो. असल में मालूम ही नहीं होता कि मां की पसंद है क्या. क्योंकि, हर बार मम्मी बच्चों से ही आकर पूछती हैं, ‘क्या खाओगे’. जो बच्चे कहते हैं, वही बन जाता है. कभी सब्जियां न हों, तो परवल और लौकी भी बन जाते हैं. लेकिन, कभी यूं नहीं होता कि मां कहे, आज ‘मुझे’ राजमा खाने का मन है, राजमा बनाती हूं. या फिर पुरुष पत्नी से, या बच्चे मां से पूछें, ‘आज क्या खाने का मन है?’

nutrition4

हमारे घरों में खाना और उससे मिलने वाले पोषण का केंद्र कभी औरतें नहीं होतीं. दूध, मेवे और फल अगर घर में आते हैं, तो इसलिए कि बच्चे खाएंगे. अगर आपके घर में ऐसा होता है, तो आपको बधाई.

लेकिन यहां बात सिर्फ परिवार के स्ट्रक्चर के अंदर औरत के स्थान की नहीं है. बात ये है कि औरतें अपनी हेल्थ के बारे में कितना और किस तरह सोचती हैं. जब सोचती हैं तो इसके मायने क्या होते हैं. क्या स्वस्थ रहना एक समाज के तौर पर हमारा और हमारी औरतों का लक्ष्य है?

नहीं.

nutrition5

बीते दिनों अपने डॉक्टर से हुई एक रेगुलर सी मीटिंग में उसने मुझसे पूछा, ‘तुम्हारा वज़न तो नहीं बढ़ा है?’ मैंने कहा ‘हां, 2 किलो बढ़ गया है’. डॉक्टर का झट से जवाब आया, ‘वजन मत बढ़ने दो. ये लड़कियों की सेल्फ-एस्टीम के लिए बड़ा खराब होता है.’

सेल्फ एस्टीम. यानी खुद पर भरोसा. लड़कियों का वजन बढ़ने पर खुद पर भरोसा, खुद पर कॉन्फिडेंस क्यों टूटता है? इसलिए कि वो ‘अस्वस्थ’ हो जाएंगी? नहीं. बल्कि इसलिए कि वो भद्दी दिखेंगी.

मोटी लड़कियों को लेकर एक अजीब सी अस्वीकार्यता है लोगों के मन में. वजन ज्यादा होगा, तो अच्छी नहीं दिखोगी. वजन ज्यादा होगा, तो शादी नहीं होगी. वजन ज्यादा होगा, तो लोग हंसेंगे. कभी किसी को ये कहते नहीं सुना कि वजन ज्यादा होगा, तो हॉर्मोन्स पर फर्क पड़ेगा. पीरियड के साइकिल पर फर्क पड़ेगा, जिससे दिमाग पर असर पड़ेगा. वजन ज्यादा होगा, तो स्ट्रेस बढ़ेगा. शुगर बढ़ सकती है. ब्लड प्रेशर या दिल की तकलीफ हो सकती है. प्रेग्नेंसी में दिक्कतें आ सकती हैं. पीरियड या प्रेग्नेंसी के समय पाइल्स का खतरा हो सकता है.

और जो चुनिंदा लड़कियां फिटनेस को लेकर जागरूक रहती हैं, उनसे बार-बार पूछा जाता है, ‘तुम तो मोटी नहीं लगती, फिर जिम क्यों जाती हो?’ या फिर, ‘तुम्हें एक्सरसाइज की क्या जरूरत है?’ ‘तुम इतनी ओवरवेट तो नहीं लगतीं?’

nutrition1

पॉपुलर कल्चर (पढ़ें बॉलीवुड या मॉडलिंग) में अक्सर लड़कियों की फिटनेस को उनके दुबले होने से जोड़ा जाता है. जिम में घुसती हूं, तो चारों तरफ वॉलपेपर में एक्ट्रेसेस की तस्वीरें दिखती हैं. हेल्थ मैगज़ीनों के कवर पर एक्ट्रेसेस की तस्वीरें दिखती हैं. लड़कियों को बताया जाता है कि फलां एक्ट्रेस ने किस तरह एक महीने में या एक साल में इतने किलो घटा लिए. और देखो, अब वो कितनी सुंदर लगती हैं. ‘सुंदरता’ और ‘सेक्स अपील’ की इस दुनिया में कभी औरतों को इस बारे में नहीं बताया जाता कि वजन घटाने (या बढ़ाने) के टारगेट में उनकी सेहत में कितना सुधार हो गया. वजन घटाना एक कॉस्मेटिक की तरह है. इस्तेमाल करो और सुंदर हो जाओ.

nutrition2

कमाल की बात ये है कि जो लड़कियां अंडरवेट हैं, उनसे लोग कम ही पूछते हैं कि वजन बढ़ाने के बारे में क्या सोचा है. बल्कि हर दूसरी लड़की ये जरूर कह जाती हैं कि तुम्हारी पतली कमर देखकर जलन होती है. और अगर वजन बढ़ाने की सलाह मिलती भी है, तो ये कहकर कि इतनी दुबली लड़कियां मर्दों को अच्छी नहीं लगतीं. मर्दों को थोड़ा भरे शरीर वाली लड़कियां अच्छी लगती हैं. इस पूरी बातचीत में सेहत घास चरने चली जाती है. और मैं बात कर रही हूं पढ़ी-लिखी, औसत कमाई वाले घरों से आने वाली लड़कियों की.

हम एक अमीर देश नहीं हैं. लाखों बच्चे कुपोषण का शिकार हैं, लेकिन सिर्फ बच्चे ही नहीं, उनकी मांएं भी कुपोषण का शिकार हैं. और इसीलिए बच्चे कमजोर पैदा होते हैं. ये बात है उस तबके की, जो पौष्टिक खाना अफोर्ड नहीं कर सकते. लेकिन जिस तबके के लोग घर में सुकून से दो वक़्त का खाना खा भी रहे हैं, वहां भी सारे पोषण का केंद्र या तो पुरुष हैं, या बच्चे. और अगर पिछड़ी मानसिकता वाले घरों की बात करें, तो बच्चों में भी महज लड़के.

nutrition

ऐसे में हमारे कल्चर में शामिल व्रतों की परंपरा औरतों की सेहत में और चार-चांद लगा देती है. उन औरतों की, जिनके कमजोर कंधों पर सदियों की बेतुकी परम्पराओं को ढोने की जिम्मेदारी है.

थोड़ा दिमाग लगाकर सोचिए. आपके इस शरीर को, जो हर महीने खून बहाता है, जो बच्चे पैदा करने के पहले 9 महीने उन्हें पोषण देता है, जो मीनोपॉज के बाद कमजोर होने लगता है, उसे ‘परम्पराओं’ और ‘सुंदरता’ की जरूरत है, या पोषण की.


ये भी पढ़ें:

हर रात रोते हैं तो आप प्यार में नहीं, परेशान हैं

रेप करने के पहले वो औरत को पॉर्न क्यों दिखाते हैं?

‘इंटरव्यू के लिए जा रही हो, बिकिनी वैक्स करा लो, सेलेक्शन पक्का है’

अपने बच्चों को शादी नहीं, डिवोर्स के लिए तैयार करिए

ससुर के सामने बहू पेट फुलाए, मैक्सी पहने घूमे, अच्छा लगता है क्या?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.