Submit your post

Follow Us

लोग मैदान में शौच करके, कील फेंककर चले जाते थे, ताकि ये लड़की खेल न पाए

जिन टॉपिक पर हमारा मुल्क सबसे ज़्यादा दोगली बातें करता है, उनमें से एक है खेल. क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल या कबड्डी नहीं. खेल. हर कोई इंडिया को हर जगह जीतते देखना चाहता है, पर अपने बच्चे को कोई खेलने नहीं देना चाहता. ओलंपिक में मेडल सबको चाहिए, लेकिन बच्चा कहीं से खेलकर आ रहा है, तो घर में कूट देंगे. वो कहावत है न, ‘भगत सिंह हर कोई चाहता है, पर अपने नहीं, पड़ोसी के घर में’. खेल की हालत उससे भी खराब है. अपना घर छोड़िए, लोग पड़ोसी के घर में तक खिलाड़ी पैदा नहीं होने देना चाहते.

आप सोच रहे होंगे कि टीम इंडिया अंडर-19 में तगड़ा खेल रही है, हॉकी में भी बीच-बीच में खुशखबरी आ जाती है, कबड्डी को प्रो हो ही गई है. तो हम ये अचानक कहां का राग अलापने लगे. तो हुज़ूर जवाब हैं

शमा परवीन. बिहार के एक मुस्लिम परिवार से आने वाली कबड्डी खिलाड़ी, जो ईरान में तिरंगा फहराकर आई हैं.

शमा परवीन
शमा परवीन

कोई कितने ताने और विरोध झेलने के बाद भी अपना सपना पूरा कर सकता है, इसकी मिसाल हैं शमा. वो बिहार की राजधानी पटना के एक दूर-दराज़ गांव की रहने वाली हैं. परिवार में जैसा माहौल था, उसकी वजह से शमा का हाफ पैंट और जींस वगैरह पहनना बहुत मुश्किल था. ऊपर से कटे बालों के साथ कबड्डी खेलना… शिव शिव शिव. आलोचना करना छोड़िए, लोग मज़ाक उड़ाते थे.

शमा की दादी अक्सर कहती थीं कि वो खानदान का नाम डुबो रही है. एक अंकल ने तो जींस पहनकर उनके घर आने से ही रोक दिया था. परिवार भी आर्थिक रूप से कमज़ोर था, लेकिन भला हो मम्मी फरीदा और पापा इलियास का, जो हर कदम पर शमा के साथ खड़े रहे.

गांववाले मैदान में टट्टी कर जाते थे

शमा बताती हैं कि गांववालों को उनका कबड्डी खेलना इतना खलता था कि जिस मैदान में वो खेलती थीं, वहां लोग टट्टी करके चले जाते थे. ग्राउंट में टूटा हुआ कांच और कीलें वगैरह फेंक देते थे. शमा जिसके घर कपड़े बदलती थीं, आसपास के लोग उस पर भी दबाव डालते थे कि वो शमा को न खेलने दे. कबड्डी के लिए कोई फिक्स मैदान तो था नहीं. ऐसे में शमा को 10-15 ग्राउंड बदलने पड़े.

शमा परवीन
शमा परवीन (दाएं)

पर मम्मी-पापा की वजह से टिकी रहीं शमा

शमा बताती हैं कि उन्हें पेरेंट्स से बहुत मज़बूत सपोर्ट मिला. लोग उनके बारे में तरह-तरह की उल्टी-सीधी बातें किया करते थे, लेकिन वो नहीं झुके. ये शमा के पापा की ही कोशिश थी कि और भी कई मुस्लिम लड़कियों को हौसला मिला कि वो भी खेल सकती हैं. हालांकि, इनमें से कुछ ऐसी भी थीं, जिन्हें सोसायटी का रिऐक्शन की वजह से वापस जाना पड़ा. फिर भी, शमा के साथ इतनी लड़कियां थीं कि वो प्रैक्टिस कर सकें.

कबड्डी खेलते हुए शमा
कबड्डी खेलते हुए शमा

और फिर आया खुशी का मौका

साल 2017. जगह ईरान. इवेंट एशियन महिला कबड्डी 2017. शमा ने इस प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता. जीत के बाद जब वो वापस गांव पहुंची, जो अब तक जो लोग उन्हें हिकारत की निगाह से देखते थे, आज वो दिल खोलकर उनका इस्तकबाल कर रहे थे. शमा बताती हैं कि उन्हें तो अपनी आंखों पर भरोसा ही नहीं हो रहा था कि ये वही लोग हैं. बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने जब खुद शमा को बधाई दी, तो ये उनके लिए बड़ा मौका था.

शमा को बधाई देते बिहार के सीएम नीतीश कुमार
शमा को बधाई देते बिहार के सीएम नीतीश कुमार

पर ईरान तक का रास्ता बना कैसे था

शमा पहली बार अपने गांव से 2007 में आरा गई थीं खेलने के लिए. तब उन्हें इनाम में 100 रुपए मिले थे. यही उनकी सबसे बड़ी प्रेरणा बना. फिर उन्होंने 39वीं से 41वीं जूनियर नेशनल कबड्डी चैंपियनशिप और 60वीं से 64वीं सीनियर नेशनल चैंपियनशिप में शानदार परफॉर्म किया. इसी प्रदर्शन के बूते उनका ईरान तक का रास्ता बना और आज वो देश की न जाने कितनी लड़कियों के लिए प्रेरणा हैं.


ये भी पढ़ें:

टीम इंडिया जितने रन बनाकर जीती, उसमें 85% तो अकेले पृथ्वी शॉ ने बनाए हैं

ये वीडियो बताता है कि पीवी सिन्धु देश की सबसे बेहतरीन बैडमिन्टन प्लेयर हैं

ये वीडियो देखकर मान लेना चाहिए कि धोनी देवता हो चुके हैं

मिलिए उस लड़के से, जिसने 27 दिनों में 1000 से ज्यादा रन मार दिए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.