Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

आडवाणी और जोशी तो सिर्फ खड़े थे, ये आदमी कुदाल लेकर बाबरी तोड़ रहा था

17.89 K
शेयर्स

अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराए जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी के सीनियर लीडर्स लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती पर केस चलाने का आदेश दिया है. 1992 में इन नेताओं की गतिविधियों की वजह से बना माहौल बाबरी मस्जिद के लिए घातक साबित हुआ. SC के आदेश के बाद से बाबरी और राम मंदिर पर ज्ञान बांटने की प्रक्रिया फिर तेज हो गई है, लेकिन इस बहस के बीच उस इंसान से मिलना रोचक है, जो बाबरी मस्जिद गिराने का दावा कर रहा है.

बीजेपी के एक मंच पर लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी
बीजेपी के एक मंच पर लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी

अयोध्या में कवरेज के दौरान दी लल्लनटॉप की मुलाकात हजारी लाल नाम के एक शख्स से हुई. ये जनाब 1992 से अयोध्या में रह रहे हैं. इन्होंने बातचीत की शुरुआत में ही बता दिया कि कारसेवा करते हुए इन्होंने बाबरी मस्जिद गिराने में सहयोग दिया था. हजारी के मुताबिक उस दिन लाठी, डंडों, कुदालों और बेल्चों के अलावा भी ढेर सारे हथियार इस्तेमाल किए गए थे और बाबरी गिरा दी गई. हजारी लाल में राम मंदिर बनाए जाने का उत्साह अब भी है.

दी लल्लनटॉप के साथ बातचीत के दौरान हजारी लाल
दी लल्लनटॉप के साथ बातचीत के दौरान हजारी लाल

‘रामलला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे’ के नारे लगाने वाले लोग एक और नारा भी लगाते हैं. वो नारा है, ‘अयोध्या तो बस झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है’. हजारी इस नारे से सहमत नजर आते हैं. वह कहते हैं कि राम के काम में वह एक बार योगदान दे चुके हैं और अगर जरूरत पड़ी, तो वह काशी और मथुरा में भी कृष्ण और शिव की सेवा करने जाएंगे. हजारी ये भी बताते हैं कि कैसे लोग इकट्ठे हुए थे और कैसे वो हथियार खुद साथ लाए थे.

सुप्रीम कोर्ट 6 दिसंबर, 1992 के जिस हादसे की वजह से आडवाणी, जोशी और उमा पर केस चलाना चाहती है, उस मामले में हजारी जैसे सैकड़ों लोग शामिल हैं. यकीनन आडवाणी और जोशी जैसे नेता तो बस दूर खड़े थे. असल काम हजारी लाल और उनके जैसे ढेर सारे लोगों ने किया.

सुनिए दी लल्लनटॉप के साथ हजारी लाल की बातचीत:


ये भी पढ़ें:

बाबरी ध्वंस के 10 सबसे बड़े चेहरे

वो तरीके जिनसे राम मंदिर-बाबरी मस्जिद का समाधान हो सकता है

बाबरी मस्जिद असल में बाबर ने बनवाई ही नहीं थी

बाबरी मामले की 490 साल की यात्रा, कब क्या हुआ था

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

गेम ऑफ थ्रोन्स लिखने वाले आर आर मार्टिन का जनम दिन है. मौका है, क्विज खेल लो.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

अगर जवाब है, तो आओ खेलो. आज ध्यानचंद की बरसी है.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

इन 10 सवालों के जवाब दीजिए और KBC 9 में जाने का मौका पाइए!

अगर ये क्विज जीत लिया तो केबीसी 9 में कोई हरा नहीं सकता

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.