Submit your post

Follow Us

सऊदी अरब में बन रहा है भविष्य का शहर, जहां न गाड़ियां होंगी और न सड़कें

दुबई. संयुक्त अरब अमीरात (UAE) का एक शहर. आपने इस शहर के बारे में बहुत कुछ सुना होगा, तस्वीरें और वीडियो देखे होंगे लेकिन इस शहर से 117 किलोमीटर दूर एक और शहर है. नाम है मसदार. इस शहर में गर्मी नहीं लगती है, गाड़ियां बिना ड्राइवर के चलती हैं, और सब कुछ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के जरिए संचालित होता है. चौंकिए मत, क्योंकि इससे भी एडवांस्ड शहर की प्लानिंग कर ली गई है. ये शहर एक दूसरे देश सऊदी अरब में बन रहा है. इस शहर को ‘द लाइन’ या नियोम सिटी कहा जा रहा है. लाल सागर के पास बसने जा रहा ये शहर अपनी हैरान कर देने वाली विशेषताओं के चलते चर्चा में है. चलिए आपको बताते हैं इस शहर के बारे में, और साथ ही सुनाते हैं मसदार की कहानी.

खूबियों से भरा मसदार शहर

खबर की शुरुआत मसदार शहर के जिक्र के साथ करते हैं ताकि जब हम ‘द लाइन’ के बारे में बताएं तो आप फर्क महसूस कर सकें. तो जैसा हम सभी जानते हैं कि इस इलाके में गर्मी काफी होती है. इसी को देखते हुए मसदार शहर में जो इमारतें बनाई गई हैं, वो इस तरह से बनाई हैं कि एक की परछाई दूसरे पर पड़ती रहे. इस शहर की इमारतें लो कार्बन सीमेंट और रिसाइकल्ड एल्युमिनियम से बनाई गई हैं. शहर बिल्कुल साफ ऊर्जा पर चलता है. साथ ही पानी की फ्यूम्स सड़क पर बरसती रहती हैं ताकि जब हवा सड़क पर चल रहे लोगों पर पड़े तो उन्हें वो गर्म ना लगे.

साल 2008 में इस शहर का प्लान तैयार किया गया था. पहले इस शहर को साल 2020 तक बनकर तैयार होना था लेकिन अब ये शहर 10 साल लेट है. यानी 2030 तक पूरी तरह ऑपरेशनल होने की बात कही जा रही है. हालांकि काफी कंपनियां यहां आ चुकी हैं. लोग यहां आकर रहने लगे हैं.

Masdar
मसदार शहर में ऐसे पॉड्स के जरिए एक जगह से दूसरी जगह जाते हैं. फोटो मसदार की ऑफिशियल साइट से साभार.

मसदार में बड़े-बड़े सोलर पैनल रेगिस्तान में लगे हैं ताकि शहर को बिजली मिल सके. बिजली के लिए कहीं कोयले या डीजल आदि बायोफ्यूल को इस्तेमाल नहीं किया जाता. शहर में ऐसी स्ट्रीटलाइट्स लगी हैं. जो सेंसर वाली हैं. रात होते ही अपने आप जल जाती हैं. दिन होते ही बंद हो जाती हैं. इनमें सौर छतरियां लगी हैं, जो लाइट जलने के लिए जरूरी पावर का इंतजाम करती हैं. शहर में ट्रांसपोर्ट के लिए पॉड्स दौड़ते हैं. छोटी-छोटी टैक्सीनुमा गाड़ियां. इनमें कोई ड्राइवर नहीं होता. एलेक्सा या सीरी की तरह आप बोल दीजिए कि फलां जगह जाना है, ये पॉड आपको वहां पहुंचा देगा.

साइंस फिक्शन मूवी का शहर ‘द लाइन’

170 किलोमीटर की एक सीधी रेखा में फैला शहर. नाम दिया गया है ‘द लाइन’. ये शहर सऊदी अरब में बनेगा. सऊदी अरब, संयुक्त अरब आमीरात का हिस्सा नहीं है बल्कि एक अलग देश है. यूएई के मसदार से इसकी दूरी करीब 2400 किलोमीटर है. तो नियोम है किसी साई-फाई फिल्म जैसा. एक ऐसा शहर, जहां हर सुविधा पांच मिनट की वॉक के भीतर मिलेगी. एक ऐसा शहर, जहां कोई सड़क नहीं होगी, कोई गाड़ी नहीं चलेगी, कोई हॉर्न नहीं बजेगा. यानी कोई प्रदूषण नहीं होगा. एक ऐसा शहर, जो पूरी तरह आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर काम करेगा. जो हजारों लोगों को रोजगार देगा और भविष्य की दुनिया के लिए नींव रखेगा.

सुनने में किसी साइंस फिक्शन मूवी जैसा लग रहा है ना. दावा है कि ये शहर तीन लेयर में बसा होगा. सबसे ऊपर होगी असली जमीन. पेड़ पौधों से भरी. पैदल चलने के लिए. प्रकृति के असली अहसास के लिए. दावा है कि यहां कोई वाहन नहीं होगा सिवाय साइकिल के. सबसे नीचे वाली लेयर में मेट्रो चलेंगी. अगर आपको लंबी दूरी की यात्रा करनी है तो नीचे जाएं मेट्रो पकड़ें और अपनी मंजिल तक पहुंचें. ये मेट्रो तेज से भी तेज होंगी क्योंकि ये सीधी लाइन में चलेंगी. दूसरी लेयर होगी पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए, जिसको सर्विस लेयर कहा जाएगा. इस लेयर में बसें होंगी, यात्रा के लिए अन्य सुविधाएं होंगी. यानी ऑफिस जाना है तो इस लेयर में आएं, पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम का इस्तेमाल करें.

Neom
इस तरह तीन लेयर में बसाया जाएगा शहर. फोटो- neom.com से साभार

इज़राइल और जॉर्डन के पास, लाल सागर के तट पर बसा ये नियोम इलाके का शहर, वाकई कमाल के कुदरती नजारों वाला है. यहां समंदर है, पहाड़ हैं, रेगिस्तान है और भरपूर गुंजाइश है. गुंजाइश है ऐसा शहर बनाने की जहां मुंबई की तरह चॉल ना हों, न्यूयॉर्क जैसे जाम ना लगते हों, बीजिंग जैसी दौड़ती जिंदगी ना हो, और टोक्यो जैसी आपाधापी ना हो.

कल्पना तो सुंदर है लेकिन शहर कैसे होगा ये तो साल 2030 तक पता चलेगा. इसके लिए सउदी सरकार पानी की तरह पैसा बहा रही है. विदेशी निवेश भी जमकर हो रहा है. लेकिन नतीजा क्या होगा अभी कहा नहीं जा सकता. तीन लेयर में शहर बनाना कितना बेहतर आइडिया है इस पर भी शायद आने वाले वक्त में अपनी तरह की बहस हो. नतीजा क्या होगा, नहीं पता लेकिन इतना जरूर तय है कि पृथ्वी पर सीमित संसाधन हैं और आबादी लगातार बढ़ रही है ऐसे में शहरों के वर्तमान स्वरूप को बदलने की जरूरत है.


वीडियो- कभी दुश्मन रहे सउदी अरब के मुहम्मद बिन सलमान और इज़रायल के नेतन्याहू में दोस्ती कैसे हुई?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

जानते हो ऋतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

जानते हो ऋतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे ऋतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

किसान दिवस पर किसानी से जुड़े इन सवालों पर अपनी जनरल नॉलेज चेक कर लें

किसान दिवस पर किसानी से जुड़े इन सवालों पर अपनी जनरल नॉलेज चेक कर लें

कितने नंबर आए, ये बताते हुए जाइएगा.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?