Submit your post

Follow Us

'इमोशनल अत्याचार' गाने के धमाकेदार डांस की पीछे की कहानी

एक फिल्म आ रही है ‘दूरदर्शन’. इसकी लीड स्टारकास्ट में हैं ऐक्ट्रेस माही गिल, ऐक्टर मनु ऋषि चड्ढा और कॉस्टयूम डिज़ाइनर प्लस ऐक्ट्रेस डॉली अहलूवालिया. ये स्टार्स अपनी फिल्म का प्रमोशन करने ‘दी लल्लनटॉप’ के स्टूडियो आए. उनसे हुई गप्पबाजी में जो ख़ास चीजें मालूम चलीं, वही हम आपको यहां बता रहे हैं.

# कॉलेज बंक करके किस हिरोइन की फिल्में देखने जाती थी माही?
माही के ही लफ़्जों में-

मैं श्रीदेवी जी की क्रेज़ी वाली फैन होती थी. स्कूल, कॉलेज बंक करके फिल्में देखने जाती थी. कॉलेज में 12 बजे से पहले निकल नहीं सकते थे, तो हम लोग अंदर ही नहीं घुसते थे. मूवीज़ और थियेटर देखने का इतना शौक था हमें. मुझे श्रीदेवी जी की फिल्में बहुत पसंद थी. खासकर लम्हे, मिस्टर इंडिया, चांदनी, चालबाज़. मैं उनकी फिल्में देख-देखकर बड़ी हुई हूं.

# जब अपने थियेटर गुरु अरविंद गौड़ का कहा टालने के लिए मनु ऋषि ने लगाया जुगाड़

मनु ने अपने थियेटर के दिनों का एक किस्सा सुनाया. मनु बताते हैं-

मुझे अस्मिता थियेटर ग्रुप जॉइन किए अभी ज़्यादा समय नहीं हुआ था. हम लोगों की प्रैक्टिस के लिए दिल्ली की शंकर मार्किट में एक छत हुआ करती थी. वहां हम सभी प्रैक्टिस करते थे. हम 50 ऐक्टर्स थे. तो अरविंद गौड़ ने10-10 के ग्रुप्स में हमें बांट दिया. इस तरह हर ग्रुप को बारी-बारी से उस छत की सफाई करनी होती थी. ऐसे मेरी भी बारी आई, तो उन्होंने मुझे सफाई करने को कहा. मैं ठहरा दिल्ली का पंजाबी लौंडा. सफाई करनी नहीं थी. साथ में मैंने बाकी के लड़कों को भी बिगाड़ने का काम किया. मैंने दिल्ली में अपनी दुकान से दो लड़कों को बुलवाया लिया. कहा, छत की सफाई करो और गमलों में पानी डालो. इतने में पीछे से अरविंद जी आ गए. उन्होंने देखा तो मुझसे पूछा कि ये क्या कर रहे हो. मैंने बोला, सफाई करवा रहे हैं. उन्होंने कहा, ये तो तुम्हें करना चाहिए. मैंने सोचा हमसे तो घर में कोई करवाता नहीं है. मुझे तीन साल लगे ये बात समझने में कि ख़ुद से सफाई करने की क्या अहमियत है. 

# फूलन देवी से जुड़ा वो किस्सा,जो डॉली आहलूवालिया से सबसे छुपाकर रखा

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की कुछ फिल्में हैं जिनसे हमारे देश की पहचान है. उनमें से एक हैं शेखर कपूर की ‘बैंडिट क्वीन’. इस फिल्म की कॉस्टयूम डिज़ाइनर थीं- डॉली आहलूवालिया. ये बतौर कॉस्टयूम डिज़ाइनर डॉली की पहली हिंदी फिल्म थी. इसी से जुड़ा एक किस्सा डॉली ने यूं बताया-

हम धौलपुर के किले पर शूटिंग कर रहे थे. वहां एक परिवार रहता था. उनका एक बेटा था, प्रिंस नाम था उसका. मैं एक दिन उससे मिली, व्यहार बढ़ाने के लिए. मैंने उससे फूलन देवी के बारे में कुछ बातें जाननी चाहीं जैसे वो आज कल कहां हैं, कैसी हैं? उसने कहा, मैं आपको उनसे मिलवा देता हूं. मुझे मेरे कानों पर विश्वास ही नहीं हुआ. फूलन देवी उन दिनों ग्वालियर जेल में थीं. बातों-बातों में मुझे ये भी पता चला कि उन्हें चांदी के गहने और साड़ियां बहुत पसंद हैं. मैंने मार्किट से उनके लिए दो चांदी के कड़े खरीदे और उनसे मिलने गईं. जेल के एक कोने में वो बैठी थीं. मैं उन्हें देखकर सन्न रह गई. मैंने उन्हें कड़े भेंट किए और कुछ बातें की. उस मुलाकात के बारे में मैं कभी किसी को नहीं बताया. मैं उनकी हालत देख सहम गई और सोचने लगी कि अगर ऐसा होता है तो मुझे इस दुनिया में नहीं रहना. मगर मैंने खुद को संभाला और इस फिल्म पर और मन लगाकर काम किया.

# इरफान की फिल्म ‘ये साली जिंदगी’ और अभय की ‘ओये लकी लकी ओये’ के डायलॉग्स मनु ऋषि चड्ढा ने कैसे लिखे

बातों बातों में! कभी खुद से तो कभी किसी साथ से. ये हम नहीं मनु ऋषि कहते हैं. मनु बताते हैं कि वो फिल्मों के लिए जब वो कोई संवाद लिखते हैं, तो लंबा लिख देते हैं. उसके बाद डायरेक्टर अपने हिसाब से जो उसमें से लेना चाहता है, ले लेता है. मनु ने बताया कि फिल्म ‘ओये लकी…’ में जब परेश रावल का किरदार अपने बेटे लकी को गिना रहा होता है कि वो उसके लिए क्या कुछ करता है, तो ये सोचकर मनु को अपना बचपन याद गया. क्योंकि उनके पापा भी उन्हें ऐसे ही डांटते थे. ये याद करके उन्होंने परेश की बातों के जवाब में लकी का डायलॉग लिखा. उसी मुताबिक, जैसा जवाब वो कभी अपने पापा के तानों पर देना चाहते थे. ये डायलॉग था-

ठीक है बादाम ले आए हो…विडियो गेम लाए हो?’

ऐसा इसलिए कि बचपन में मनु को अपने लिए विडियो गेम चाहिए थी. मगर कभी मिली नहीं.

# अनुराग कश्यप ने ‘देव डी’ की पारो को डांस करते-करते साइन कर लिया था

अनुराग कश्यप की फिल्म ‘देव डी’ को कल्ट का टैग हासिल है. उसमें पारो बनी थीं माही गिल. ये उनकी पहली हिंदी फिल्म थी. माही ने बताया कि वो चंदा बनना चाहती थीं, पारो नहीं. माही ने और क्या बताया, पढ़िए-

 मैं जब मुंबई आई, तो काम नहीं मिल रहा था. रेस्टोरेंट्स और क्लब में दोस्तों के साथ पार्टीज़ में जाती थी. सोचती थी, क्या पता किसी की नज़र मुझपर पड़ जाए. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. मेरे एक अच्छे दोस्त हैं- देवेन्द्र भट्टाचार्य. वो ऐक्टर हैं. उनकी बेटी का पहला जन्मदिन था. मैं उनकी पार्टी में गई. मैं डांस कर रही थी. वैसे ही जैसे मैं अमूमन करती हूं. वहां अनुराग ने मुझे देख लिया और उसके बाद ही उन्होंने मुझे ‘देव डी’ ऑफर की. फिल्म के ‘इमोशनल अत्याचार’ गाने में मैं जो डांस कर रही हूं, वो वही डांस है जो मैं उस दिन पार्टी में कर रही थी. अनुराग ने मुझे कहा था कि उन्हें अपनी फिल्म के लिए एकदम वही डांस चाहिए. 

ये तो हमारे इंटरव्यू के चंद किस्से हैं. इसके अलावा और भी खूब सारी मज़ेदार बातें हुईं. वो सब जानने के लिए इंतज़ार कीजिए इंटरव्यू के विडियो का.

जाते-जाते
‘दूरदर्शन’ 28 फरवरी को रिलीज़ होने जा रही है. ये एक कॉमेडी-ड्रामा फिल्म है. कहानी है परिवार की बूढ़ी हो चुकी एक मां पर, जो बहुत सालों से बेहोश थी. मगर एक दिन अचानक वो जाग जाती है. उनका परिवार 90 के दशक को दोहराने की कोशिश करता है. क्योंकि बूढ़ी औरत की यादें दूरदर्शन वाले दिनों में ही अटकी हुई हैं, जबकि ज़माना बदल चुका है. यहीं से शुरू होती है परिवार में अफरातफरी.


 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.