Submit your post

Follow Us

पिछली बार जब शिवसेना और कांग्रेस साथ आए थे, तब क्या हुआ था?

11 नवंबर, 2019. महाराष्ट्र में सरकार बनने की स्थिति करीब-करीब साफ हो गई है. ये लगभग तय है कि शिवसेना और एनसीपी मिलकर सरकार बनाएगी और कांग्रेस इस सरकार को बाहर से समर्थन देगी. सीधा सा मतलब ये है कि जो शिवसेना कांग्रेस की धुर विरोधी रही बीजेपी की लंबे समय से पार्टनर रही है, वही शिवसेना अब कांग्रेस से बाहर से समर्थन लेकर सरकार बनाएगी.

सियासत के जानकारों को तो ये बात आसानी से हजम हो जाएगी, लेकिन बहुत से लोग हैं, जिन्हें ये बात हज़म नहीं हो रही है. और जिनके लिए ये पचाना मुश्किल हो रहा है कि कांग्रेस और शिवसेना साथ आ रही हैं, ये खबर उनके लिए ही है.

19 जून, 1966 को बनी शिवसेना ने अपना पहला चुनाव साल 1971 में लड़ा था. उस वक्त तक कांग्रेस दो हिस्सों में बंट गई थी. इंदिरा गांधी ने ओल्डगार्ड्स से किनारा कर लिया था और नई पार्टी बना ली थी. शिवसेना ने इंदिरा गांधी की विरोधी मोरारजी देसाई वाली कांग्रेस यानी कि कांग्रेस (O) के साथ गठबंधन किया. बाल ठाकरे ने पांच सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे. ये सीटें थीं रत्नागिरी, बॉम्बे सेंट्रल साउथ, बॉम्बे सेंट्रल, धुले और पुणे. इनमें से एक भी सीट पर शिवसेना के उम्मीदवार को जीत नहीं मिली और तीन सीटों पर तो जमानत ही जब्त हो गई. इंदिरा गांधी सत्ता में आ गईं. और फिर लगा आपातकाल. 25 जून, 1975. इमरजेंसी लागू करने का दिन. देश के इतिहास का सबसे काला दिन. और शिवसेना के मुखिया बाल ठाकरे ने इस इमरजेंसी का खुलेआम समर्थन कर दिया. 31 अगस्त, 1975 को उन्होंने मार्मिक अखबार में आर्टिकल लिखकर कहा कि इंदिरा गांधी ने इमरजेंसी इसलिए लगाई, क्योंकि देश में फैली अस्थिरता से निबटने के लिए इकलौता उपाय यही था.

बाल ठाकरे ने इमरजेंसी का सपोर्ट किया था.
बाल ठाकरे ने इमरजेंसी का सपोर्ट किया था.

1977 में जब लोकसभा के चुनाव हुए तो बाल ठाकरे ने कांग्रेस का समर्थन कर दिया और अपने उम्मीदवार नहीं उतारे. इतना ही नहीं, बाल ठाकरे ने मैदान में उतरकर इंदिरा गांधी के पक्ष में चुनाव प्रचार भी किया. बाद के दिनों में शिवसेना को इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ा. 1978 के महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में बाल ठाकरे ने महाराष्ट्र में 35 सीटों पर उम्मीदवार उतारे, लेकिन शिवसेना का एक भी उम्मीदवार जीत दर्ज नहीं कर पाया. इस हार से शिवसेना मुखिया बाल ठाकरे इतने परेशान हुए कि उन्होंने शिवसेना चीफ के अपने पद से इस्तीफे की पेशकश कर दी. हालांकि बाद में उन्होंने अपना इस्तीफा वापस ले लिया और कहा कि वो शिवसैनिकों के दबाव में ऐसा कर रहे हैं.

साल 1979 में बीएमसी के चुनाव थे. शिवसेना ने इंडियन मुस्लिम लीग के नेता गुलाम मोहम्मद बनतवाला के साथ समझौता किया. दोनों लोगों ने एक साथ एक रैली को संबोधित भी किया, लेकिन उनका गठजोड़ आगे के चुनावों में कायम नहीं रह पाया. शिवसेना एक बार फिर से कांग्रेस के पाले में खड़ी दिखी. 1980 में बाल ठाकरे ने महाराष्ट्र के कांग्रेस के नेता रहे एआर अंतुले से अपनी दोस्ती की वजह से चुनाव में कांग्रेस का समर्थन कर दिया और एक बार फिर से शिवसेना चुनाव से दूर रही.

बाल ठाकरे और एआर अंतुले की दोस्ती की वजह से शिवसेना ने 1980 का चुनाव नहीं लड़ा था.
बाल ठाकरे और एआर अंतुले की दोस्ती की वजह से शिवसेना ने 1980 का चुनाव नहीं लड़ा था.

इसके बाद 12 अप्रैल, 1982 को बाल ठाकरे ने मार्मिक में एक और लेख लिखा और इस लेख के जरिए इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस का समर्थन कर दिया. बाल ठाकरे ने मुंबई के मिलों में हुई हड़ताल को तोड़ने के लिए कांग्रेस के समर्थन का ऐलान किया था. और ये आखिरी बार था, जब शिवसेना ने कांग्रेस का समर्थन किया था. जब कांग्रेस नेता बाबा साहेब भोसले ने एआर अंतुले की जगह ले ली, तो बाल ठाकरे ने कांग्रेस से किनारा कर लिया. साल 1984 में इंदिरा गांधी की मौत के बाद जब लोकसभा के चुनाव हुए, तो शिवसेना के नेता मनोहर जोशी के साथ ही एक और शिवसेना नेता ने बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा. हालांकि मनोहर जोशी हार गए, लेकिन बीजेपी-शिवसेना गठबंधन की नींव का पहला पत्थर रखा जा चुका था.

Supriya Sule
सुप्रिया सुले जब 2006 में राज्यसभा के लिए पर्चा दाखिल कर रही थीं तो शिवसेना ने अपना उम्मीदवार उतारने से इन्कार कर दिया था.

बाकी दो-तीन और बातें हैं. एनसीपी नेता शरद पवार की बेटी का नाम है सुप्रिया सुले. साल 2006 में जब शरद पवार ने राज्यसभा के जरिए अपनी बेटी सुप्रिया सुले की सियासी शुरुआत की, बाल ठाकरे ने राज्यसभा के लिए अपना प्रत्याशी नहीं उतारा. बाल ठाकरे ने कहा था-

”वो मेरी बेटी की तरह है. जब मैंने सुना कि वो राजनीति में आने जा रही है, मैंने पवार को बुलाया और कहा कि सुप्रिया के खिलाफ कोई कैंडिडेट नहीं खड़ा होगा.”

शरद पवार के साथ बाल ठाकरे. उनके रिश्ते राजनैतिक से ज्यादा पारिवारिक हैं.
शरद पवार के साथ बाल ठाकरे. उनके रिश्ते राजनैतिक से ज्यादा पारिवारिक हैं.

इसके अलावा बाल ठाकरे ने बीजेपी से गठबंधन के बाद एक और मौके पर कांग्रेस का साथ दिया. हालांकि ये समर्थन पार्टी का कम और व्यक्तिगत ज्यादा था. ये बात तब की है, जब कांग्रेस सांसद सुनील दत्त के बेटे संजय दत्त टाडा में फंसे थे. और उस वक्त बाल ठाकरे ने बीजेपी की पार्टी लाइन से अलग जाकर संजय दत्त का बचाव किया था.

Sanjay Dutt With Bal Thackeray
सुनील दत्त अपने बेटे संजय दत्त को लेकर बाल ठाकरे के पास पहुंचे थे.

अब एक बार फिर से शिवसेना के सामने 1984 से पहले की स्थिति है. शिवसेना फिर से कांग्रेस और एनसीपी का समर्थन करने जा रही है, लेकिन इसपर आखिरी मुहर लगनी अब भी बाकी है.


महाराष्ट्र की लातूर रूरल और कादेगांव विधानसभा सीट पर नोटा दूसरे नंबर पर रहा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.