Submit your post

Follow Us

लॉकडाउन- 4 में राज्यों की गाइडलाइंस आ गई हैं, जानिए बसें चलाने पर क्या फैसला लिया गया

लॉकडाउन का चौथा चरण चल रहा है. इसके बारे में पहले केंद्र सरकार ने नियम-कानून जारी किए. इसके बाद राज्यों ने भी अपनी जरूरतों के हिसाब से दिशा-निर्देश बता दिए. इसमें ट्रांसपोर्ट के चलने को लेकर लोगों में उत्सुकता थी. लोग इंतजार कर रहे थे कि बसें चलेंगी या नहीं. और चलेंगी, तो क्या एक राज्य से दूसरे राज्य जाएंगी? यहां पर इसी के बारे में बताएंगे.

पहले जान लेते हैं केंद्र ने क्या कहा था

केंद्र सरकार ने अपने दिशा-निर्देशों में तीन बातें कही थीं-

1. इंटर स्टेट ट्रांसपोर्ट यानी एक राज्य से दूसरे राज्य के बीच गाड़ी/बसें चलना. इस बारे में राज्य या केंद्रशासित प्रदेश आपसी सहमति से यात्री गाड़ियां और बसें चला सकते हैं. यानी दो राज्य सहमत हों, तो उनकी बसें एक-दूसरे के राज्य में आ-जा सकती हैं.

2. इंट्रा स्टेट ट्रांसपोर्ट यानी राज्यों के अंदर गाड़ियां और बसें चलना. यानी एक जिले से दूसरे जिले में बसों का जाना. शहर के अंदर बसें चलना. यह फैसला भी राज्यों पर छोड़ा गया है.

3. गाड़ियों और बसों में लोगों के सफर के लिए नियम पहले बताए जा चुके हैं. यानी सोशल डिस्टेंसिंग रखनी होगी. मास्क पहनना होगा. बस में कुल क्षमता से कम ही यात्री बैठ सकते हैं. जैसे 50 सीटर बस में अधिक से अधिक 20 से 25 यात्री ही बैठ सकते हैं.

सरकारी बसें और ट्रांसपोर्ट चलाने को लेकर केंद्र सरकार की ओर से जारी निर्देश.
सरकारी बसें और ट्रांसपोर्ट चलाने को लेकर केंद्र सरकार की ओर से जारी निर्देश.

राज्यों को ध्यान रखना होगा कि कंटेनमेंट में ट्रांसपोर्ट में किसी तरह की गतिविधि की अनुमति नहीं है. कंटेनमेंट मतलब ऐसे इलाके, जहां पर कोरोना मरीज हैं या कोरोना के मामले हैं. साथ ही सुबह 7 से शाम 7 बजे के बीच ही बसें चलाई जा सकती हैं.

अब जान लीजिए, राज्यों ने क्या फैसले किए

दिल्ली- केजरीवाल सरकार ने बसें चलाने की परमिशन दे दी है. लेकिन बसों में एक बार में 20 से ज्यादा लोग नहीं बैठ सकते हैं. साथ ही यात्रियों की तापमान भी जांचा जाएगा. अभी नोएडा, गुड़गांव और फरीदाबाद जैसे दूसरे राज्यों के शहरों के लिए बसें नहीं चलेंगी. इस बारे में कहा गया है कि यूपी और हरियाणा सरकारों से बात की जाएगी.

पंजाब- यहां पर भी राज्य के अंदर बसें चलाने को हरी झंडी मिल गई है. 20 मई से बसें सड़क पर दौड़ने लगेंगी. बसों के अंदर एक बार में कुल क्षमता के आधे यात्री ही बैठ सकते हैं. यानी बस में 40 सीट हैं तो 20 लोग ही बैठ सकेंगे. दूसरे राज्यों में बसें भेजने या वहां की बसों को अपने यहां देने पर फैसला 31 मई के बाद होगा.

जिन राज्यों में भी बसें शुरू हुई है वहां पर अभी कुल क्षमता के आधे यात्री ही एक बार में सफर कर सकते हैं. तस्वीर में मजदूरों को लेकर जाती एक बस. (Photo: PTI)
जिन राज्यों में भी बसें शुरू हुई है वहां पर अभी कुल क्षमता के आधे यात्री ही एक बार में सफर कर सकते हैं. तस्वीर में मजदूरों को लेकर जाती एक बस. (Photo: AP)

राजस्थान- राज्य के अंदर बसें चलाने की परमिशन जारी हो गई है. लेकिन अभी बसें उन्हीं रास्तों पर चलेंगी, जिनके लिए गृह विभाग अनुमति देगा. रेड जोन और कंटेनमेंट वाले इलाकों में बसें नहीं चलेंगी. ऑरेंज और ग्रीन जोन में एक जिले से दूसरे जिले के लिए बस चल सकती है. ग्रीन जोन में आने वाले शहरों के अंदर भी बसें चल सकेंगी. दूसरे राज्यों को लेकर अभी फैसला नहीं हुआ है.

उत्तर प्रदेश- यहां पर अभी तक दूसरे राज्यों के लिए बसें चलाने की परमिशन जारी नहीं हुई है. न ही दूसरे राज्यों से बसें आने की अनुमति है. राज्य के अंदर एक जिले से दूसरे जिले के लिए बसें चलाई जाएंगी. लेकिन कब, कैसे, इस पर अलग से आदेश जारी होगा.

बिहार- राज्य सरकार ने अभी बसें चलाने की परमिशन नहीं दी है. यानी न तो राज्य के अंदर बसें चलेंगी और न ही राज्य से बाहर कोई बस जाएगी या आएगी.

केरल में बस को काम में लेने से पहले साफ करता एक व्यक्ति. यहां पर भी बसें चलाने का आदेश जारी हो गया है. (Photo: AP)
केरल में बस को काम में लेने से पहले साफ करता एक व्यक्ति. यहां पर भी बसें चलाने का आदेश जारी हो गया है. (Photo: AP)

मध्य प्रदेश- अगले एक सप्ताह तक बसें नहीं चलेंगी. न राज्य के अंदर और न बाहर. एक सप्ताह बाद बसें चलाने को लेकर फैसला किया जाएगा.

हरियाणा- रोडवेज बसें शुरू कर दी गई हैं. 19 मई से बसें चलना शुरू भी हो गईं. दूसरे राज्यों के लिए बसें चलाने को भी मंजूरी. दूसरे राज्यों से बसें आ भी सकती हैं. इसके लिए बाकी राज्यों से बात भी की जाएगी. हर बस में 30 सवारियां बैठेंगी.

हिमाचल प्रदेश- बसें नहीं चलेंगी. आने वाले समय में कोरोना के मामलों को देखते हुए फैसला लिया जाएगा.

केंद्र ने बसें चलाने का फैसला राज्यों पर ही छोड़ा था. यह तस्वीर केरल की है. (Photo: AP)
केंद्र ने बसें चलाने का फैसला राज्यों पर ही छोड़ा था. यह तस्वीर केरल की है. (Photo: AP)

गुजरात- राज्य के अंदर बसें चलाने की परमिशन है. राज्य के बाहर अभी बसें न तो जाएंगी और न आएंगी. कंटेनमेंट इलाकों को छोड़कर शहर के अंदर में बसें चल सकेंगी.

झारखंड- राज्य के अंदर बसें चलाने की अनुमति दे दी गई. लेकिन अभी राज्य के बाहर बसें नहीं जाएंगी.

चंडीगढ़- केवल नॉन एसी बसें चलेंगी. पंजाब-हरियाणा की सहमति मिलने पर वहां के लिए भी बसें जाएंगी.

इनके अलावा बंगाल, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु ने भी बसें चलाने की अनुमति दे दी है. अभी बसें राज्य के अंदर ही चलेंगी. महाराष्ट्र ने अभी बसें चलाने को मंजूरी नहीं दी है.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video: लॉकडाउन 4.0 में ऑफिस तो खुल गए हैं, पर दफ्तर जाने के क्या नियम हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.