Submit your post

Follow Us

वो फ़िल्म, जिसमें अनिल कपूर ने मूंछें नहीं रखी थी

अनिल कपूर को उनकी मूंछों के लिए जाना जाता है. मेरा मतलब है, कोई उन्हें बिना मूंछों के इमेजिन नहीं कर सकता. लेकिन क्या आपको पता है उन्होंने एक फ़िल्म के लिए अपनी मूंछें उड़वा ली थीं? इस फ़िल्म का नाम है ‘लम्हे’. लम्हे 1991 में रिलीज़ हुई थी, ये वो साल है जब मैं पैदा हुई थी. इस फ़िल्म की दो बातें ख़ास हैं:

1. बिना मूंछों के अनिल कपूर

2. गाना- ‘मोरनी बागा मा’, जिसमें श्रीदेवी राजस्थान के रेगिस्तान में नाच रही थीं.

मैं वो हूं जो अनिल कपूर की फ़िल्मों के गाने सुनकर बड़ी हुई है. ऐसे में उन्हें बिना मूंछों के देखना, मेरे लिए थोड़ा डिस्टर्बिंग था. दरअसल कुछ लोगों के लिए इस फ़िल्म का कॉन्टेंट ‘परेशान’ करने वाला था. ‘लम्हे’ यश चोपड़ा ने डायरेक्ट की थी, वही जिनकी आखिरी फ़िल्म थी ‘जब तक है जान (2012)’. यश चोपड़ा को उनकी रोमेंटिक फ़िल्मों के लिए जाना जाता है. उन्होंने सामाजिक मुद्दों पर भी फ़िल्में बनाईं जो कमर्शियली हिट भी रहीं. लेकिन ऐसी फ़िल्में बड़े पैमाने पर भुला दी गई हैं. चोपड़ा की पहली फ़िल्म थी ‘धूल के फूल(1959)’, ये एक हिंदू लड़के की कहानी थी, जिसे एक मुस्लिम आदमी ने पाला था.

फ़िलहाल बात फ़िल्म ‘लम्हे’ की जिसमें अनिल कपूर की मूछें गायब थीं.

mos-anil-1_122417014856
‘लम्हे’ फ़िल्म में श्रीदेवी और अनिल कपूर

1991 में ‘लम्हे’ फ़िल्म काफ़ी हलचल लेकर आई. वो लोग, जिन्होंने ये फ़िल्म नहीं देखी, उनको बता दूं कि ये मूवी वीरेंद्र प्रताप सिंह के एक कैरेक्टर के बारे में है. वो राजस्थान का एक रॉयल आदमी है और उसे पल्लवी नाम की अपने से बड़ी उम्र की महिला से प्यार हो जाता है. पल्लवी का किरदार श्रीदेवी ने निभाया था. हालांकि पल्लवी को किसी और से प्यार होता है, जिससे वो शादी भी कर लेती है. जल्द ही उसका पति मर जाता है. पति की मौत के कुछ वक़्त बाद ही पल्लवी की भी डिलीवरी के समय मौत हो जाती है. उसकी बच्ची वीरेंद्र को सौंप दी जाती है, जिसे पल्लवी अपना दोस्त मानती थी.

दिक्कत तब शुरू होती है जब वीरेंद्र को एहसास होता है कि पल्लवी की बेटी पूजा, बिलकुल अपनी मां की तरह दिखती है. और जिस वक़्त वीरेन्द्र को ये अहसास होता है, पूजा उम्र में वीरेंद्र की आधी होती है. पूजा वीरेन्द्र की निगरानी में ही बड़ी भी होती है. इस दौरान पूजा को वीरेन्द्र पर क्रश हो जाता है.

चीज़ें तब बिगड़ने लगती हैं, जब अपने कल से अंजान पूजा, वीरेंद्र से अपनी मांग भरने के लिए कहती है. तब वीरेंद्र उसे सारी कहानी सुना देता है. पूजा उसकी बात ये कहते हुए काटती है कि उसकी मां और वीरेंद्र के बीच तो असल में कोई रिश्ता था ही नहीं. अगर वो पूजा से शादी करेगा तो इसमें कुछ गलत नहीं होगा. साथ ही वो उससे पूछती है कि क्यों एक वयस्क महिला को अपना पति चुनने का हक़ नहीं दिया जा रहा?

यही वो वजह थी, जिसके कारण भारतीय दर्शक चौंक गए थे.

एक ही आदमी मां और बेटी दोनों के प्यार में पड़ जाता है? कैसा ठरकी है?

वीरेंद्र के मन में जो संघर्ष चलता है, वो शायद इसी मानसिकता की वजह से चल रहा होता है. कभी-कभार समाज हमें गलत समझे, उससे पहले हम खुद को गलत समझ लेते हैं. आखिर में हीरो और हीरोइन, वीरेंद्र और पूजा, अनिल कपूर और श्रीदेवी एक तो हो जाते हैं लेकिन ये फ़िल्म कुछ परेशान कर देने वाले सवाल छोड़ जाती है.

milind
मिलिंद सोमन और उनकी गर्लफ्रेंड अंकिता कोनवर

‘लम्हे’ फ़िल्म समाज को आइना दिखाती है. वो समाज जहां अपनी बेटी की उम्र की लड़की से शादी करना कोई आम बात नहीं है. लेकिन हर बार ऐसा ज़ोर-ज़बरदस्ती से नहीं होता. आज, लम्हे के 27 साल बाद भी 52 साल के मिलिंद सोमन का 26 साल की लड़की अंकिता कोनवर से रिलेशनशिप लोगों से पच नहीं रहा, तो हम कैसे उस वक़्त के लोगों से इस फ़िल्म को समझ पाने की अपेक्षा रख सकते हैं?

लड़की इनीमून पर जाए, या शादियों के बीसियों फंक्शन हों, वो लाल चूड़ा ज़रूर पहनती है. इस लाल चूड़े के पीछे बॉलीवुड का बड़ा हाथ है. फ़िल्में सामाजिक बदलाव लाने में अहम भूमिका निभाती हैं. इसका हालिया उदारहण है 2016 में आई फ़िल्म ‘दंगल’. इस फ़िल्म की वजह से वाराणसी के एक अखाड़े ने अपनी 450 साल पुरानी परंपरा को तोड़ा और लड़कियों को अखाड़े में आने की अनुमति दे दी.


ये आर्टिकल टीना दास ने ‘ऑड नारी’ के लिए लिखा है, इसे रुचिका ने ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए हिंदी में ट्रांसलेट किया है.


ये भी पढ़ें:

धोनी को टीम से बाहर जाने के लिए कहने वाले क्या ये सब नहीं देखते?

सलमान भाई की पिछली 10 फिल्मों ने कितनी कमाई की थी, जान लो

इस फिल्म में आलोक नाथ को गरियाते देखोगे, तो फूंक सरक जाएगी

सेक्स वर्कर्स और DDLJ को समर्पित है शॉर्ट फ़िल्म मराठा मंदिर सिनेमा

गोविंदा के 48 गाने: ख़ून में घुलकर बहने वाली ऐसी भरपूर ख़ुशी दूजी नहीं


वीडियो देखें:

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.