Submit your post

Follow Us

पाकिस्तानी आंटी ठीक कहती हैं, ये सारे मिल के हमको पागल बना रहे हैं

आज कल मुझे एक शौक चढ़ा हुआ है. वेब सीरीज देखने का. और वो भी देसी नहीं, विदेसी वाली. इसी क्रम में आजकल ‘हाउस ऑफ़ कार्ड्स’ देख रहा हूं. इस वेब सीरीज की कहानी अमेरिका की राजनीति के इर्द-गिर्द घूमती है. वहां की प्रेसिडेंसी, सिनेट (संसद), सिनेटर्स, उनकी फंक्शनिंग वगैरह-वगैरह. कुल मिलाकर एक शानदार पॉलिटिकल ड्रामा सीरीज है ये.

House_of_Cards_main_characters

इस सीरीज को देखते हुए मैंने कुछ ऐसी चीज़ें नोट की, जो कहीं न कहीं मेरे ज़हन में अटक कर रह गई हैं. जैसा कि मैंने पहले बताया ये पूरी तरह से राजनीति पर बेस्ड सीरीज है. तो इसमें भी वो सब बातें हैं, जो पॉलिटिक्स का – गंभीर, निर्दयी पॉलिटिक्स का – का हिस्सा होती हैं. धोखेबाजी, क्रूरता, मैनीपुलेशन वगैरह-वगैरह. लेकिन मेरी नज़र में जो खटक रहा है, वो कुछ और ही है.

वहां के चुने हुए जनप्रतिनिधि संसद में जब भी किसी बिल को पास कराने या उसका विरोध करने का मन बनाते हैं, तो उन्हें सबसे पहले ये सवाल सताता है कि उनके वोटर्स क्या कहेंगे. चाहे कोई जनता की रोज़मर्रा की ज़िंदगी से जुड़ा बिल हो, या इंटरनेशनल मामलों का. टैक्स रिफॉर्म हो, जॉब्स से रिलेटेड कोई विधेयक हो या आर्म्स एक्ट से जुड़ी कोई बात.

उन्हें इस बात का हमेशा डर रहता है कि जनता क्या सोचेगी? यहां तक कि प्रेसिडेंट तक इस खौफ़ से आज़ाद नहीं. मैं ये सब देखता हूं. अखबारों में इन मुल्कों की जनता की पॉलिटिकल अवेयरनेस के बारे में पढ़ता हूं. फिर अपने देश का हाल सोच लेता हूं. भयंकर चिढ़ होने लगती है मुझे.

टैक्स रिफॉर्म के खिलाफ़ प्रोटेस्ट करती अमेरिकी जनता.
टैक्स रिफॉर्म के खिलाफ़ प्रोटेस्ट करती अमेरिकी जनता.

इन मुल्कों में जनता अपने तमाम अधिकार जानती है. उसे पता है कि गवर्नमेंट उसके लिए काम करने के लिए ही अपॉइंट की गई है. उसकी नौकर है. उसको जवाबदेह है. हमारे यहां बरसों से सत्ता को माई-बाप मानने की परिपाटी जारी है. चरणों में लहालोट होते रहना ही हमारा परम कर्तव्य है. हमारे लिए नेताजी माने भगवान. अब वो जो मर्ज़ी करे.

प्रतीकात्मक इमेज.
प्रतीकात्मक इमेज

आज तक भारत में किसी आर्थिक बिल पर ओपन बहस होती नहीं देखी गई. जीएसटी जैसा इतना बड़ा फैसला ले लिया गया है और लगभग सारा भारत अंजान है कि ये है क्या बला! किसी को ढंग से कुछ आईडिया नहीं है. आपकी जेब से जुड़ा इतना बड़ा बदलाव अगर वहां हो रहा होता, तो महीनों वहां लोग डिबेट में लगे रहते. इसके फायदे-नुकसान को तबियत से खंगालते. संसद के सामने धरना देते कि हमें ढंग से समझाओ. यहां हमें जीएसटी पर चुटकुले बनाने से ही फुरसत नहीं है.

ये मुल्क गाय, गोमूत्र, लव-जिहाद इन्हीं सब में उलझकर रह जाता है. किसी को नहीं परवाह कि हमारे आर्थिक मामलों में हमारी चुनी हुई सरकार क्या कर रही है! कैसे उसके फैसले सीधे-सीधे हमारी ज़िंदगी पर असर डालते हैं. ये किसी नरेंद्र मोदी, अरविंद केजरीवाल या राहुल गांधी की बात नहीं है. जनरल बात है. सत्ता में बैठी हर पार्टी इस देश की जनता की नौकर है. उससे सवाल-जवाब करना इस देश के नागरिक का हक़ है. लेकिन ये तमाम हुक्मरान हमें इस हक़ की भनक भी नहीं लगने देते. हमें गैरज़रूरी मुद्दों में अटकाए रखते हैं.

सही कहती है पाकिस्तान वाली आंटी. ये सारे मिल के हमें पागल बना रहे हैं (आगे की बातें सेंसर्ड है, वीडियो खुद खोज लीजिए).

और कमाल की बात ये कि हम पागल बन रहे हैं. ख़ुशी से. अपनी मर्ज़ी से.

गोरमिंट नहीं, हम बिक चुके हैं.


ये भी पढ़ें:

‘क़त्ल करने वाली भीड़ का हिस्सा बनने को हम तैयार नहीं हैं’

टुच्ची-टुच्ची बातों में धार्मिक भावनाएं आहत न किया कीजिए

बहुत हो गया, अब अयोध्या में मंदिर ही बना दो

गली-गली उग आए स्वघोषित देशभक्तों को देख कर लगता है ‘देशभक्ति’ भारत की सबसे बड़ी समस्या है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.