Submit your post

Follow Us

टीम से बाहर हुई, बैन हुई, उम्र बढ़ी पर 5 साल बाद भारत के लिए गोल्ड जीता

2006 में टीवी पर एक विज्ञापन आता था. इसमें टीम से बाहर हो चुके सौरव गांगुली कहते थे कि वो प्रैक्टिस कर रहे हैं. क्या पता उन्हें टीम में वापस आने का मौका मिल जाए. गांगुली के इस ऐड ने करोड़ों क्रिकेट प्रेमियों को भावुक कर दिया था. उसी साल हिंदुस्तान की एक और खिलाड़ी गांगुली की ही तरह अपनी ससम्मान विदाई के लिए लड़ रही थी. पर इसके बारे में कम ही लोग बात करते हैं.

हिंदुस्तान की वेटलिफ्टर कुंजरानी ने 2006 में जब मेलबर्न कॉमनवेल्थ में गोल्ड मेडल जीता तो 38 की उम्र में उनसे मैडल की उम्मीद करने वाले कम ही लोग थे. बढ़ती उम्र के साथ-साथ 2000 की ओलंपिक टीम से बाहर किया जाना, डोपिंग आरोप के चलते 6 महीने का बैन लगना और पहले अटेंप्ट में हाथ से वेट का स्लिप हो जाने जैसे कई कारण थे जिनके चलते कुंजरानी देवी की मैडल की राह बड़ी मुश्किल थी. मगर कुंजरानी देवी ने न सिर्फ गोल्ड जीता बल्कि 166 किलो वजन उठाकर कॉमनवेल्थ गेम्स का नया रिकॉर्ड भी बनाया.

आज बात 1 मार्च को पैदा हुई इन्हीं कुंजरानी देवी की, जिन्होंने वेटलिफ्टिंग में भारत को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर एक अलग जगह दिलाई.

भारत की पहली अंतर्राष्ट्रीय महिला वेटलिफ्टर

हिंदुस्तान में वेटलिफ्टिंग खेल के तौर पर 1935 में शुरू हुआ. मगर महिलाओं को पहली बार वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेने का मौका 1989 में मिला था. मणिपुर की एक छोटी सी लड़की थी. कुल 21 साल की उम्र और 4 फुट 8 इंच के कद के साथ देश को नई ऊंचाई पर लेकर जा रही थी. कुंजरानी ने इस चैंपियनशिप में कुल 3 सिल्वर मैडल जीते. इसके बाद लगातार 7 सात साल तक वो वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेती रहीं और कोई न कोई मैडल लाती रहीं.

2000 ओलंपिक में मौका ही नहीं मिला

कुंजरानी ने 1994 एशियन गेम्स में सिल्वर मैडल जीता. 1996 में उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार दिया गया. मगर घुटने के ऑपरेशन से उबरती कुंजरानी 1998 के एशियन गेम्स में कोई भी मैडल जीत नहीं पाई और कुंजरानी के करियर पर सवाल उठने लगे. ये भी कहा जाने लगा कि वो हमेशा सिल्वर या ब्रॉन्ज़ ही मैनेज कर पाती हैं, कभी गोल्ड नहीं जीत पातीं. इसी बीच 2000 का सिडनी ओलंपिक भी आ गया.

कुंजरानी कह रही थीं कि वो सिडनी में मैडल जीत कर ही लाएंगी, ये उनकी आखिरी ख्वाहिश है. तभी किस्मत ने कुंजरानी देवी के साथ धोखा कर दिया. सिडनी ओलंपिक में हिंदुस्तान से सिर्फ दो खिलाड़ियों को भेजा जाना था और दावेदार तीन थे. 32 साल की कुंजरानी देवी को सिडनी नहीं भेजा गया. इस फैसले पर विवाद भी हुए मगर इसी सिडनी ओलंपिक में कर्णम मल्लेश्वरी ने वेटलिफ्टिंग में ब्रॉन्ज़ मैडल जीता. मल्लेश्वरी के ओलंपिक में मैडल जीतने वाली पहली महिला बनने के साथ ही कुंजरानी देवी को हाशिए पर पहुंचा हुआ मान लिया गया.

डोपिंग में निलंबन और वापसी

कुंजरानी अभी ओलंपिक के सदमे से उबर भी नहीं पाई थीं कि डोपिंग के चलते 6 महीने के लिए बैन कर दी गईं. उस समय की खबरें बताती हैं कि सैंपल लेने में लापरवाही हुई थी. गलती किसी और की थी मगर खामियाजा इस खिलाड़ी को भुगतना पड़ा. उस समय पर लगभग सबने मान लिया कि 15 साल के शानदार करियर का ये दुखद अंत है. मगर किस्मत को धता बताते हुए इस वेटलिफ्टर ने एक बार फिर एथेंस ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई किया.

36 की उम्र में जब बाकी एथलीट कोच बनने की संभावनाएं देखते हैं, वो मैदान में उतर रहीं थीं. एथेंस में कुंजरानी को चौथी पोज़ीशन मिली. मिल्खा सिंह, पीटी ऊषा वाली लिस्ट में एक और नाम. जिसमें बाद में दीपा कर्मकार का भी नाम आया. ओलंपिक में मैडल मिलने का सपना तो टूट गया मगर इस एथलीट ने अपने लड़ने का जज़्बा नहीं छोड़ा. 2006 के मेलबर्न कॉमनवेल्थ में हिंदुस्तान के लिए टूर्नामेंट का पहला गोल्ड मैडल जीता. 2006 की इस जीत के बाद भारत सरकार ने उन्हें 2011 में पद्मश्री से सम्मानित किया.

आगे आने वालों के लिए रास्ता

1980 के दशक में वेटलिफ्टिंग को करियर बनाना कितना मुश्किल रहा होगा सबको पता है. इसके बाद भी वो सफल हुईं और मणिपुर की कई लड़कियों की प्रेरणा बनीं. खेल से संन्यास लेने के बाद कुंजरानी देवी ने कोचिंग देना शुरू किया. खेल को डोपिंग फ्री बनाने का कैंपेन भी चलाया.

आज अगली पीढ़ी के खिलाड़ी तैयार कर रहीं  कुंजरानी अपने बारे में कहती हैं:

‘मैंने इस खेल को भारत के नक्शे पर जगह दिलवाई. मेरे दौर के बाद ये खेल उस स्तर तक नहीं पहुंच पाया है. आने वाले सालों के लिए मैं खिलाड़ी तैयार कर रही हूं. हमारे पास टैलेंट की कमी नहीं है बस उसे अच्छे से गाइड करने की ज़रूरत है.’


ये भी पढ़ें:

वो ‘सुट्टेबाज़’ जब दौड़ता था, तो पूरा ट्रैक उसके साथ दौड़ता था

पाकिस्तान से लड़ते वक्त खोया हाथ, इंडिया के लिए लाए पहला पैरालम्पिक गोल्ड मेडल

रियो ओलम्पिक से भारत के लिए 10 लल्लनटॉप पल!

जब ओलंपिक में फैन्स ने पिला दी ब्रांडी और पट्ठा जीत गया रेस

जब एक खबर ने तबाह कर दी ओलंपिक चैंपियन की जिंदगी

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

आप अपने देश की सेना को कितना जानते हैं?

आप अपने देश की सेना को कितना जानते हैं?

कितना स्कोर रहा ये बता दीजिएगा.

जानते हो ऋतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

जानते हो ऋतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे ऋतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

किसान दिवस पर किसानी से जुड़े इन सवालों पर अपनी जनरल नॉलेज चेक कर लें

किसान दिवस पर किसानी से जुड़े इन सवालों पर अपनी जनरल नॉलेज चेक कर लें

कितने नंबर आए, ये बताते हुए जाइएगा.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.