Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

भारत के चक्कर में आज ही के दिन खोजी गई थी नई दुनिया, जिससे इतिहास बदल गया

2.72 K
शेयर्स

सोचो. अभी-अभी टीवी चैनल्स पर एक ब्रेकिंग दिखे. इस दुनिया के भीतर एक नई दुनिया मिली है. एकदम नई-नवेली. ऐसी दुनिया, जिसके बारे में आज तक किसी को कुछ नहीं मालूम था. आप कैसा महसूस करेंगे? जैसा आप महसूस करेंगे, वैसा पहले लोग कर चुके हैं. तब, जब एक नई दुनिया खोजी गई थी. 12 अक्टूबर, 1492. ये तारीख उस खोज की पहली सीढ़ी थी. समझें, तो नई दुनिया की पहली खोज. इस खोज का श्रेय जिस शख्स को जाता है, वो खुद लंबे समय तक गलतफहमी में रहा. उसे लगा कुछ, जबकि हुआ कुछ और ही था. क्रिस्टोफर कोलंबस. भारत खोजने निकला था. नई दुनिया हाथ आ गई.

क्रिस्टोफर कोलंबस दुनिया के सबसे बड़े समुद्री यात्रियों में से एक माने जाते हैं. वन ऑफ द बेस्ट.
क्रिस्टोफर कोलंबस दुनिया के सबसे बड़े समुद्री यात्रियों में से एक माने जाते हैं. वन ऑफ द बेस्ट.

तब लोगों को लगता था, दुनिया में बस तीन ही महादेश हैं
उस समय तक यूरोप के लोगों को लगता था, दुनिया में केवल तीन ही महादेश हैं. इसके अलावा भी दुनिया हो सकती है, किसी ने नहीं सोचा था. ये समुद्री यात्राओं का दौर था. समुद्री मार्ग से व्यापार के नए-नए रास्ते तलाश करने का दौर. कोलंबस इटली में पैदा हुए. उन्हें बचपन से ही समंदर बड़ा भाता था. उन्हें एशिया पहुंचने का एक छोटा रास्ता तलाश करने की धुन चढ़ी थी. स्पेन के पूर्वी हिस्से से होते हुए. कोलंबस को असल में भारत और चीन पहुंचना था. भारत की समृद्धि के किस्से तब दूर-दूर तक पसरे हुए थे. यहां के मसालों का यश दुनियाभर में फैला था. भारत में मौजूद सोने की भी बड़ी चर्चा थी. कोलंबस को भारत पहुंचने का समुद्री मार्ग खोजना था.

सैंटा मारिया में बैठे क्रिस्टोफर कोलंबस की ये तस्वीर इमैन्युअल ल्यूट्ज ने 1855 में बनाई थी. कुछ समय पहले विशेषज्ञों ने कहा कि इस जहाज के अवशेष हैती के समुद्रतट के पास से खोज लिए गए हैं (फोटो: विकीपीडिया)

यूरोपियन देश ज्यादा से ज्यादा उपनिवेश बनाना चाहते थे
कोलंबस ने पुर्तगाल, फ्रांस और ब्रिटेन को मनाने की कोशिश की. ताकि कोई उनकी समुद्री यात्राओं का खर्च उठाने को तैयार हो जाए. निराशा हाथ लगी. आखिरकार कोलंबस स्पेन पहुंचे. यहां के राजा फर्डिनेंड और रानी इसाबेला कोलंबस की यात्रा को स्पॉन्सर करने के लिए राजी हो गए. उन्हें लगा कि अगर कोलंबस ने ऐसा कर दिखाया, तो एशिया के साथ मसालों के कारोबार का नया मार्ग शुरू हो जाएगा. ये उपनिवेशवाद का दौर था. दुनिया के ये चंद यूरोपियन देश अपने पांव पसारना चाहते थे. नए बाजारों के लिए. कच्चे माल के लिए. अपने फायदे के लिए. हर देश अपने लिए कारोबार के नए मार्ग खोलना चाहता था. किंग और क्वीन ने कोलंबस से वादा किया. अगर कोई नई जगह मिलती है, तो उन्हें वहां का गर्वनर बना देंगे. जो भी दौलत वो स्पेन लाएंगे, उसका 10 फीसद हिस्सा भी उन्हें दे दिया जाएगा.

भारत तक पहुंचने के समुद्री मार्ग को खोजने का श्रेय वास्को डि गामा को जाता है. 20 मई, 1498 को वो मालाबार तट पर पहुंचे थे (फोटो: द रॉयल म्यूजियम ग्रीनविच)
भारत तक पहुंचने के समुद्री मार्ग को खोजने का श्रेय वास्को डि गामा को जाता है. 20 मई, 1498 को वो मालाबार तट पर पहुंचे थे (फोटो: द रॉयल म्यूजियम ग्रीनविच)

भारत के चक्कर में खोज डाली नई दुनिया
फिर आई 3 अगस्त, 1492 की तारीख. कोलंबस अपने तीन जहाजों के साथ रवाना हुए. एशिया की तलाश में. उनके जहाजों के नाम थे- सैंटा मारिया, पिंटा और नीना. (इसी सैंटा मारिया जहाज पर सवार कोलंबस ने 1492 में अमेरिका की खोज की थी) तीनों जहाज अटलांटिक में आगे बढ़ चले. कोलंबस के आस-पास पसरा था समंदर का नीला पानी. अथाह. दस हफ्ते यूं ही गुजर गए. फिर जमीन नजर आई. वो तारीख यही थी. 12 अक्टूबर. कोलंबस और उनके साथियों ने सोचा, जापान आ गया. एशिया यानी इंडीज. वहां रहने वाले लोगों को इंडियन्स कहकर पुकारने लगे. सोचा, अब भारत और चीन भी मिल जाएंगे. सब नीचे द्वीप पर उतरे. ये जगह आज बाहमास के नाम से जानी जाती है. कोलंबस कैरेबियन आइलैंड्स के कई और द्वीपों पर भी पहुंचे. फिर गर्व से सीना चौड़ा करके स्पेन लौटे. उनका खूब स्वागत हुआ. खूब पदवियां मिलीं.

ये उस 'सैंटा मारिया' नाम के जहाज का मॉडल है, जिसपर बैठकर कोलंबस अमेरिका पहुंचे थे. प्यूरटो रिको के फोर्ट सैन क्रिस्टोबल में इसका एक मॉडल रखा हुआ है (फोटो: विकीपीडिया)
ये उस ‘सैंटा मारिया’ नाम के जहाज का मॉडल है, जिसपर बैठकर कोलंबस अमेरिका पहुंचे थे. प्यूरटो रिको के फोर्ट सैन क्रिस्टोबल में इसका एक मॉडल रखा हुआ है (फोटो: विकीपीडिया)

भारत को खोजने का अरमान कभी पूरा नहीं कर सके कोलंबस
कुछ ही महीने बाद कोलंबस दूसरी समुद्री यात्रा पर रवाना हुए. कई और नए हिस्से तलाश किए उन्होंने. एशिया दूर ही रहा मगर. लोगों को शुबहा हो रहा था. कई लोग कहने लगे थे, कहीं ये नई दुनिया तो नहीं खोज ली इसने. कोलंबस दो और यात्राओं पर गए. अपनी तीसरी यात्रा के दौरान कोलंबस दक्षिणी अमेरिका के तट पर पहुंचे. ये जगह मौजूदा वेनेजुएला था. कोलंबस ने अपनी चौथी यात्रा का ज्यादातर हिस्सा इस नई दुनिया के रास्ते एशिया का मार्ग तलाशने में बिताया. भारत उनके हाथ नहीं लगा मगर.

अपनी खोज के 200-300 सालों के अंदर ही अमेरिका ने बहुत तेजी से तरक्की की. वो बहुत तेजी से ऊपर चढ़ा. विश्व युद्ध के बाद अमेरिका दुनिया का सबसे ताकतवर देश बन गया.
अपनी खोज के 200-300 सालों के अंदर ही अमेरिका ने बहुत तेजी से तरक्की की. वो बहुत तेजी से ऊपर चढ़ा. विश्व युद्ध के बाद अमेरिका दुनिया का सबसे ताकतवर देश बन गया.

गलती से खोजा गया बन गया दुनिया का सबसे ताकतवर मुल्क
नई दुनिया, खासकर अमेरिका की तलाश ने न केवल भूगोल को बदला, बल्कि इतिहास को भी बदला. अमेरिका गलती से खोजा गया था. भारत आज की तारीख में अमेरिका का करीबी दोस्त बनना चाहता है. जब अमेरिका खोजा गया था, तब भारत को ‘सोने की चिड़िया’ कहते थे. अब देखिए. दोनों की स्थिति में कितना अंतर आ गया है. आज अमेरिका दुनिया पर दादागिरी करता है. भारत विकासशील जरूर है, पर है ‘तीसरी दुनिया’ का देश. अतीत और वर्तमान, दोनों बातें इतिहास ही हैं. एक-दूसरे से कितनी अलग हैं मगर.


देखिए, जब लल्लनटॉप शो में अखिलेश ने बताया कि लड़की को कैसे अप्रोच किया जाए


ये भी पढ़ें: 

इतना भयंकर तूफान आया कि समंदर गायब हो गया!

जाना था जापान, गलती से पहुंचे अमेरिका, बोले- भारत है!

महान नहीं था अशोक, इतिहास का सबसे बड़ा झूठ बेपर्दा हुआ

तूफान पीछे छोड़ गया है उस जीव को जिसे दुनिया पहचान नहीं पा रही

समुद्र को सागर क्यों कहते हैं?

समुद्रों के बनने की कहानी का ‘घोड़ा कनेक्शन’

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

रानी पद्मावती के पति का पूरा नाम क्या था?

पद्मावती फिल्म के समर्थक हो या विरोधी, हिम्मत हो तभी ये क्विज़ खेलना.

आम आदमी पार्टी पर ये क्विज खेलो, खास फीलिंग आएगी

आज भौकाल है आम आदमी (पार्टी) का. इसके बारे में व्हाट्सऐप से अलग कुछ पता है तो ही क्विज खेलना.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

गेम ऑफ थ्रोन्स लिखने वाले आर आर मार्टिन का जनम दिन है. मौका है, क्विज खेल लो.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

अगर जवाब है, तो आओ खेलो. आज ध्यानचंद की बरसी है.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.