Submit your post

Follow Us

क्या है 32 साल पुराना वो मामला, जिसमें गिरफ्तार हुए एंबुलेंस घोटाले की पोल खोलने वाले पप्पू यादव

पप्पू यादव. मधेपुरा के पूर्व सांसद और जन अधिकारी पार्टी के अध्यक्ष. उन्हें 11 मई को बिहार पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. अमनौर थाने में दर्ज FIR के आधार पर उन्हें पकड़ा गया. इस FIR के मुताबिक, उन्होंने Covid 19 प्रोटोकॉल्स का उल्लंघन किया था. पप्पू यादव ने खुद ट्वीट करके बताया कि दिनभर उन्हें थाने में बैठाकर रखा गया, और रात में मधेपुरा का 32 साल पुराना मामला निकालकर उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

क्या था 1989 का वह मामला

आजतक की खबर के मुताबिक, 29 जनवरी, 1989 को मधेपुरा जिले के मुरलीगंज थाना इलाके से रामकुमार यादव और उमा यादव नाम के दो युवकों को अगवा किए जाने का आरोप सामने आया. शैलेंद्र यादव नाम के एक शख्स ने पप्पू यादव और उनके चार सहयोगियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. कथित अपहरण के कुछ दिन बाद दोनों युवक सकुशल वापस आ गए. इस घटना के करीब तीन महीने बाद पप्पू यादव को गिरफ्तार कर लिया गया. कुछ महीने जेल में रहने के बाद वो ज़मानत पर रिहा हो गए. जेल से बाहर आने के बाद पप्पू यादव पॉलिटिक्स में एक्टिव हो गए, विधायक-सांसद तक बने.

Pappu
पप्पू यादव की फाइल फोटो.

इस मामले की सुनवाई अभी तक मधेपुरा में एसीजेएम प्रथम के स्पेशल कोर्ट में चल रही है. 10 फरवरी, 2020 को कोर्ट ने पप्पू यादव के खिलाफ गैर ज़मानती वॉरंट जारी किया. सात महीने बाद यानी 17 सितंबर, 2020 को पुलिस ने कोर्ट में कहा कि वॉरंट की कॉपी चौकीदार से खो गई थी. इस वजह से पप्पू यादव की गिरफ्तारी नहीं हो पाई. कोर्ट ने वॉरंट की दूसरी कॉपी जारी की. उसके बाद भी बिहार पुलिस पप्पू यादव को गिरफ्तार नहीं कर पाई.

22 मार्च, 2021 को कोर्ट ने पप्पू यादव के घर की कुर्की का वॉरंट जारी कर दिया. इसी वॉरंट के आधार पर पप्पू यादव की गिरफ्तारी हुई है. मामले की और डिटेल के लिए हमने मधेपुरा के एसपी से बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, उस मामले में पुलिस ने पप्पू यादव समेत 12 लोगों को आरोपी बनाया है.

पर गिरफ्तारी के वक्त तो कुछ और मामला था

पप्पू यादव ने 7 मई को बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के अमनौर स्थित ऑफिस परिसर का एक वीडियो ट्वीट किया. इस वीडियो में खुले मैदान में कपड़े से ढकी कई गाड़ियां दिख रही हैं. पप्पू यादव के साथ पहुंचे लोग गाड़ियों से कपड़ा हटाते हैं, तो पता चलता है कि ये आम गाड़ियां नहीं, एम्बुलेंस हैं. जो महामारी के इस मुश्किल वक्त में खड़ी-खड़ी खटारा हो रही हैं.

इस वीडियो के सामने आने के बाद अमनौर पुलिस ने पप्पू यादव के खिलाफ एक मामला दर्ज किया. कोविड प्रोटोकॉल के उल्लंघन का.

पहले कहा जा रहा था कि पप्पू यादव की गिरफ्तारी अमनौर में दर्ज हुए मामले में हुई है. फिर पुलिस ने बताया कि पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल यानी PMCH से पप्पू यादव को गिरफ्तार किया गया. वो वहां अपने कुछ समर्थकों के साथ पहुंचे थे. पुलिस का कहना है कि कोविड 19 प्रोटोकॉल उल्लंघन के मामले में उनके खिलाफ केस दर्ज हुआ. पप्पू यादव के खिलाफ जमानती धाराओं में केस दर्ज हुआ था. गिरफ्तारी के बाद कुछ घंटे तक उन्हें गांधी मैदान पुलिस थाने में बैठाकर रखा गया. इस मामले में पर्सनल बॉन्ड पर पुलिस ने उन्हें छोड़ भी दिया, इस शर्त के साथ कि मामले की जांच के लिए बुलाए जाने पर वो उपलब्ध रहेंगे.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, पटना के SSP उपेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि जब पप्पू यादव उनकी हिरासत में थे तब मधेपुरा एसपी की तरफ से उन्हें चिट्ठी भेजी गई. इस चिट्ठी में लिखा था कि कोर्ट के आदेश पर पप्पू यादव को गिरफ्तार किया जाना है. इसलिए गांधी मैदान पुलिस द्वारा छोड़े जाने के बाद भी उन्हें हिरासत में रखा गया. उन्होंने बताया कि बाद में मधेपुरा पुलिस की टीम पटना पहुंची और वो पप्पू यादव को अपने साथ लेकर चली गई.

गिरफ्तारी की टाइमिंग पर सवाल

पप्पू यादव को BJP सांसद राजीव प्रताप रूडी से ट्विटर वॉर के बाद जिस तरीके से गिरफ्तार किया गया. पहले एक मामले में पटना पुलिस ने पकड़ा, पर शाम होते-होते एक अलग ही मामला निकालकर उन्हें मधेपुरा भेज दिया गया. इस पूरे घटनाक्रम के चलते बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर सवाल उठ रहे हैं.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फोटो: दी लल्लनटॉप)

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर चारों तरफ से आलोचना का सामना करना पड़ रहा है. (फोटो: दी लल्लनटॉप)

सोशल मीडिया पर लोग इस गिरफ्तारी को राजनीतिक साजिश बता रहे हैं. लोगों का दावा है कि पप्पू यादव अव्यवस्था की पोल खोल रहे थे, सामने आकर लोगों की मदद कर रहे थे. इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया गया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति लोग अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं. गुस्सा जाहिर करने वालों में आम जनता या विपक्ष के नेता ही नहीं, खुद नीतीश की पार्टी के नेता भी शामिल हैं.

बता दें कि कोरोना महामारी के बीच बिहार में जो नेता आगे आकर लोगों की ज्यादा से ज्यादा मदद कर रहे हैं, उनमें पप्पू यादव भी शामिल हैं. लोगों को फ्री में ऑक्सीजन उपलब्ध कराने से लेकर दवाओं तक की सारी मदद वो कर रहे थे. गिरफ्तार होने के बाद पप्पू यादव ने लिखा कि लोगों की मदद की उनकी कोशिश उनके सहयोगियों द्वारा जारी रहेगी.


राजीव प्रताप रूडी के चैलेंज पर 70 ड्राइवर खड़े करने वाले पप्पू यादव को बिहार पुलिस ने क्यों पकड़ा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान.

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.