Submit your post

Follow Us

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

साउथ अफ्रीका की क्रिकेट टीम को तो जानते ही होंगे! आप सोच रहे होंगे हेडिंग में राहुल वैद्य का नाम है तो यहां साउथ अफ्रीकन टीम का ज़िक्र कहां से आ गया! कनेक्शन है जनाब, बिल्कुल कनेक्शन है. कनेक्शन है ‘हार्ड लक’ का. ये जो ‘हार्ड लक’ टर्म है ना, ये सबसे ज़्यादा पीड़ादायक होती है. और ये अक्सर उन को सुनने को मिलती है, जो हर तरह से जीत के काबिल होते हैं लेकिन हमेशा किसी कारणवश जीत से चंद कदम की दूरी पर रह जाते हैं. और यही कनेक्शन है साउथ अफ्रीका की क्रिकेट टीम और राहुल वैद्य के बीच. राहुल वैद्य, जो हमेशा जीत के प्रबल दावेदार माने गए और अंत में किसी ना किसी वजह से जीत से वंचित रह गए. 16 साल पहले भी यही हुआ था, इस बार भी यही हुआ.

21 फ़रवरी को ‘बिग बॉस 14’ का ग्रैंड फ़िनाले था. रुबीना दिलैक ‘बिग बॉस14’ की विजेता बनीं. और राहुल वैद्य जीत से एक कदम दूर नंबर पर ठहरे रहे. राहुल की हार की वजह इस बार भी वही रही, जो आज से 16 साल पहले रही थी.

# 16 साल पहले

राहुल वैद्य को उस वक़्त दूसरा सोनू निगम बताया जाता था.
राहुल वैद्य को उस वक़्त दूसरा सोनू निगम बताया जाता था.

साल 2005. ‘इंडियन आइडल’ के पहले सीज़न का ग्रैंड फ़िनाले. ‘इंडियन आइडल’ भारतीय टेलीविजन का पहला टीआरपी तोड़ सिंगिंग रिएलिटी शो था . ये शो इतना पॉपुलर हुआ था कि इसके बाद हर चैनल पर सिंगिंग रिएलिटी शोज़ की बाढ़ सी आ गई थी. उस पहले सीज़न में इंडियन आइडल का खिताब जीतने के लिए तीन लोगों में कड़ी टक्कर थी. अभिजीत सावंत, अमित साना और राहुल वैद्य. राहुल तीसरे नंबर पर रह गए और शो के विजेता अभिजीत सावंत बन गए. हालांकि पूरे सीज़न भर राहुल को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा था.

#हार्ड लक

बिग बॉस में राहुल वैद्य की अली गोनी के साथ दोस्ती और रखी सावंत के मस्ती खूब भायी.
बिग बॉस में राहुल वैद्य की अली गोनी के साथ दोस्ती और राखी सावंत के मस्ती खूब भायी.

साल 2021. ‘बिग बॉस’ में इतिहास ने और या शायद राहुल के ‘हार्ड लक’ ने अपने आपको एक बार फ़िर दोहराया. राहुल वैद्य को जनता की वोटों की कमी की वजह से फ़िर से हार का मुंह देखना पड़ा. राहुल की ‘बिग बॉस’ की जर्नी बेहद दिलचस्प रही. अक्टूबर 2020 में जब ‘बिग बॉस’ का सीज़न शुरू हुआ था तब एजाज़ खान, अभिनव शुक्ल, रुबीना दिलैक, जैस्मिन भसीन जैसे पॉपुलर टीवी एक्टर्स के बीच राहुल को सब ‘बिग बॉस’ में कुछ ही दिनों का मेहमान बता रहे थे. लेकिन शो में राहुल की बेबाकी और बिंदास अंदाज़ लोगों को खूब भाया और देखते ही देखते राहुल वैद्य पॉपुलैरिटी के मामले में सबको पीछे छोड़ते गए. हालांकि दिसंबर में राहुल ने शो से वालंटियरी एग्ज़िट भी ले ली थी. लेकिन हफ्ते भर के बाद राहुल शो में दोबारा शामिल हो गए. लोगों को राहुल-अली गोनी की दोस्ती और राहुल-रुबीना की तकरार ने शो से बांधे रखा. शो के रेगुलर दर्शक कहते हैं कि राहुल ने शो में ड्रामा जनरेट करने के लिए बाकियों की तरह कभी फ़ालतू लड़ाई नहीं की. वे हमेशा मुद्दों को लेकर स्पष्ट दिखे.

# हार के जीतने वाले को…

23 सितंबर 1987 को नागपुर में जन्मे राहुल भले शोज़ के फाइनल में चूक जाते हैं, लेकिन उनका करियर देखें तो वो किसी भी विजेता से पीछे नहीं रहे हैं. उन्होंने ‘शादी नंबर वन’, ‘क्रेज़ी 4’, ‘रेस 2′ जैसी फिल्मों में बेहतरीन गाने गाए हैं. ‘ इंडियन आइडल’ और ‘ बिग बॉस’ के अलावा ‘जो जीता वो सुपरस्टार’, ‘म्यूजिक का महामुकाबला’ जैसे कई रियलिटी शोज़ का हिस्सा भी रहे हैं. ‘जो जीता वो सुपरस्टार’ शो तो जीता भी. जिसे सांत्वना पुरस्कार कहा गया. इसके अलावा ‘म्यूजिक का महामुकाबला’ शो में जो टीम जीती थी, राहुल उस का भी हिस्सा थे. 2020 में म्यूजिक कल्चर मैगज़ीन ने राहुल को सेक्सिएस्ट म्यूजिशियन ली लिस्ट में सातवें नंबर पर रखा था.

‘रेस 2’ में राहुल के गाए ‘बेइन्तेहा’ गाने को सुन लीजिए. म्यूजिक वीडियो में भी वो हैं.

#बैटर लक नेक्स्ट टाइम

भले अब तक राहुल से जीत आंखमिचौली का खेल खेल रही है लेकिन राहुल का हौंसला अभी भी उतना ही मज़बूत है. ‘बिग बॉस’ के फ़िनाले के बाद पत्रकारों से बात करते हुए राहुल का यही जज़्बा दिखा. राहुल ने मीडिया से कहा,

“मैं हैरान हूं कि मुझे अफ़सोस नहीं हो रहा है. मैं सिर्फ़ इस मोटिव से शो में आया था कि असली रहूं. मैंने कुछ नहीं सोचा था और सब किस्मत पर छोड़ दिया था. किस्मत यहां तक ले आई, मेरे मम्मी-पापा बहुत खुश हैं. मैं भी उतना ही खुश हूं.”

चलिए हम उम्मीद करते हैं राहुल ऐसे ही खुश रहें. तरक्की करते रहें. हमारी तरफ़ से भी उन्हें टनों शुभकामनाएं.


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है


विडियो: मिस शिमला और मिस नॉर्थ इंडिया का ख़िताब जीतने के बाद रुबीना दिलैक बनी बिग बॉस 14 की विनर

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

न्यू मॉन्क

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

अनंत चतुर्दशी और गणेश विसर्जन के अवसर पर पढ़िए गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

यज्ञ में नहीं बुलाया गया तो शिव ने भस्म करवा दिया मंडप

यज्ञ में नहीं बुलाया गया तो शिव ने भस्म करवा दिया मंडप

शिव से बोलीं पार्वती- 'आप श्रेष्ठ हो, फिर भी होती है अनदेखी'.

नाम रखने की खातिर प्रकट होते ही रोने लगे थे शिव!

नाम रखने की खातिर प्रकट होते ही रोने लगे थे शिव!

शिव के सात नाम हैं. उनका रहस्य जानो, सीधे पुराणों के हवाले से.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

एक बार सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र ने भी झूठ बोला था

एक बार सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र ने भी झूठ बोला था

राजा हरिश्चंद्र सत्य का पर्याय हैं. तभी तो कहा जाता है- सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र. पर एक बार हरिश्चंद्र ने भी झूठ कहा था. क्यों कहा था?

जटायु के पापा का सूर्य से क्या रिश्ता था?

जटायु के पापा का सूर्य से क्या रिश्ता था?

अगर पूरी रामायण पढ़े हो तो पता होगा. नहीं पता तो यहां पढ़ो.

ब्रह्मा की पूजा से जुड़ा सबसे बड़ा झूठ, बेटी से नहीं की थी शादी

ब्रह्मा की पूजा से जुड़ा सबसे बड़ा झूठ, बेटी से नहीं की थी शादी

कहते हैं कि बेटी सरस्वती से विवाह कर लिया था ब्रह्मा ने. इसीलिए उनकी पूजा नहीं होती. न मंदिर बनते हैं. सच ये है.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.