Submit your post

Follow Us

104 सैटेलाइट भेज इसरो ने नाम ऊंचा किया, गर्व करना है तो इनकी कहानी पर करो

हिंदुस्तान में लोग सोशल मीडिया एकाउंट सोशल होने के लिए कम, गर्व करने के लिए ज़्यादा बनाते हैं. किसी को जाति पर गर्व है, किसी को अपनी जाति की महिलाओं के जल कर मर जाने पर गर्व है. और तो और लोगों को वीडियो बनाकर गाली दे रहे फर्जी फौजियों पर भी गर्व है. इन सबके बीच इसरो के वैज्ञानिकों ने एक साथ 104 सैटलाइट एक रॉकेट पर अंतरिक्ष में भेज कर हमें गर्व करने का सही कारण दिया है. जिस परिस्थिति और बजट में इसरो के वैज्ञानिक पूरी लगन के साथ काम कर रहे हैं वो अद्भुत है. बात करते हैं तमाम उन कारणों की जिनके चलते इसरो ने बार-बार हमें गर्व करने का मौका दिया है-

# नवाज़ शरीफ के लॉन तक अब नज़र रख सकते हैं हम

श्री हरिकोटा से लॉन्च हुए इस रॉकेट में सिर्फ 104 की गिनती ही इंपॉर्टेंट नहीं है. इसरो के भेजे इन सैटलाइट्स में कार्टोसैट-2 सीरीज़ की सैटेलाइट भी शामिल है. इसे खास तौर पर हमारे पड़ोसी मुल्कों पर नज़र रखने के लिए बनाया गया है. इस सैटेलाइट के ज़रिए हम पाकिस्तान और चीन के इलाकों की 1 मीटर से कम विस्तार तक की तस्वीरें ले सकते हैं. एक मीटर तक तस्वीरें लेने का मतलब है कि एक मेज पर क्या रखा है, इसका अंदाज़ा इस सैटेलाइट के कैमरे से लगया जा सकता है.

बाकी के 103 सैटेलाइट में अमेरिका, इज़राइल, नीदरलैंड, स्विटज़रलैंड, यूएई, और कज़ाकिस्तान के सैटेलाइट शामिल हैं. इस मिशन के लिए जिस रॉकेट का इस्तेमाल किया गया है, वो इसरो का सबसे ताकतवर रॉकेट है. इसी रॉकेट के ज़रिए चंद्रयान और मंगल मिशन को अंतरिक्ष में भेजा गया था. वैसे आपको बता दें कि पाकिस्तान का स्पेस मिशन हमसे पहले शुरू हुआ था, मगर वो अब तक कुल 3 सैटेलाइट ही अंतरिक्ष में भेज पाए हैं.

pslv-c37-759
लॉन्च से पहले PSLV

# बैलगाड़ी वाले मुल्क से अंतरिक्ष सुपर पावर तक

जब हिंदुस्तान का मंगल मिशन कामयाब हुआ था तो न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक कार्टून छापा था जिसमें गाय लिए हुए एक आदमी अंतरिक्ष एलीट क्लब का दरवाजा खटखटा रहा है. इसको देखकर कई लोग आहत हो गए. मगर इसरो का पहला रॉकेट साइकिल पर ले जाया गया था. हिंदुस्तान के पहले कम्युनिकेशन सैटेलाइट ऐपल को वैज्ञानिक बैलगाड़ी पर रख कर लॉन्च साइट तक ले गए थे. इसरो वालों की लगन देखकर फ्रेंच और रशियन स्पेस एजेंसियां इतनी प्रभावित हुई थीं कि उन्होंने हिंदुस्तान के सैटेलाइट्स को फ्री में अंतरिक्ष में भेजा था.

साइकिल पर जाता पहला रॉकेट और बैलगाड़ी पर सैटलाइट
साइकिल पर जाता पहला रॉकेट और बैलगाड़ी पर सैटलाइट

# अमेरिका ने पहले मालिक बनना चाहा अब किराएदार है

अमेरिका ने पहले हमारे स्पेस मिशन को ये कहकर खारिज किया कि भूख से लड़ रहा देश स्पेस में सैटेलाइट कैसे भेज सकता है. अमेरिका के विरोध के चलते इसरो को रूस ने 1992 में क्रायोजेनिक इंजन की तकनीक नहीं दी. इसके बाद अगले 2 साल में इसरो ने बेहतर तकनीक डेवलप कर ली 2014 से अमेरिका हमारे रॉकेट्स पर अपने सैटेलाइट भेज रहा है.

न्यूयॉर्क टाइम्स का कार्टून
न्यूयॉर्क टाइम्स का कार्टून

# दुनिया में सबसे भरोसेमंद

इसरो का स्पेस मिशन दुनिया में सबसे भरोसेमंद माना जाता है. साल 2000 से अब तक इसरो का कोई भी मिशन फेल नहीं हुआ है.

शुरुआती रॉकेट लॉन्च
शुरुआती रॉकेट लॉन्च

# सबसे सस्ता और अच्छा

मंगल मिशन को भेजने की कुल लागत 450 करोड़ रुपए थी. पहले चंद्रयान मिशन की लागत 386 करोड़ और दूसरे चंद्रयान मिशन का खर्च 603 करोड़ थी. ये राशि अंतरिक्ष मिशन के हिसाब से कितनी कम है, इसे ऐसे समझा जा सकता है कि 2016 के आईपीएल का विज्ञापनों से आया रेवेन्यू ही 1100 करोड़ था. मुकेश अंबानी के मकान एंटिलिया की कीमत ही लगभग 650 करोड़ बताई जाती है. वैसे ये भी कह सकते हैं जितना हमारी सुपरहिट फिल्में कमाती हैं उसमें हमारे वैज्ञानिक अंतरिक्ष होकर लौट आते हैं. वैसे नासा का एक साल का जितना बजट होता है उतना इसरो का अभी तक का कुल बजट है.

चंद्रयान मिशन
चंद्रयान मिशन

# मस्ती के साथ रहते हैं हमारे वैज्ञानिक

के राधा कृष्णन
के राधा कृष्णन

इसरो के वैज्ञानिकों के लिए वर्क हार्ड, पार्टी हार्डर वाली कहावत फिट बैठती है. देश के पूर्व राष्ट्रपति और वैज्ञानिक अब्दुल कलाम वीणा बजाने के शौकीन थे. इसरो चीफ राधाकृष्णन कथकली और कर्नाटक संगीत के शौकीन हैं, इसमें ट्रेंड भी हैं और स्टेज पर परफॉर्म भी कर चुके हैं. किसी आम हिंदुस्तानी महिलाओं की तरह दिख रहीं इन औरतों की तस्वीरें देखिए. ये मंगल मिशन और लेटेस्ट कम्प्यूटर्स पर काम करने वाली वैज्ञानिक हैं. कपड़ों से इम्पावर्ड होने आहत होने वाले लोगों को ये तस्वीर थोड़ी देर रुक कर देखनी चाहिए.

Bengaluru: ISRO scientists and other officials celebrate the success of Mars Orbiter Mission at MARS Orbiter Command Network complex in Bengaluru on Wednesday. PTI Photo by Shailendra Bhojak (PTI9_24_2014_000055B)
मंगल मिशन के बाद खुशी मनाती वैज्ञानिकों की टीम

ये भी पढ़ें :

दिल्ली के इतिहास की सबसे खास तस्वीरें, जब कनॉट प्लेस माधौगंज हुआ करता था

दुनिया को हिला देने वाली तस्वीरों की लिस्ट जारी हुई है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.