Submit your post

Follow Us

जब लता को ज़हर देकर मारने की कोशिश की गई

लता मंगेशकर. भारत रत्न लता मंगेशकर. सुरों की वो मल्लिका जो तक़रीबन सात दशकों तक भारतीय सिनेमा की आवाज़ बनी रहीं. अब जिसका नाम ही लता मंगेशकर हो उसकी क्या ही तारीफ़ की जाए. भारत के तीनों सर्वोच्च नागरिक सम्मान (भारत रत्न, पद्म भूषण और पद्म विभूषण) सहित तीन राष्ट्रीय और चार फिल्मफेयर पुरस्कार विजेता. इनकी तो बस उपलब्धियां गिनाईं और किस्से सुनाए जा सकते हैं. कला के प्रति समर्पित परिवार में 28 सितम्बर 1929 को जन्म लेने वाली लता के पिता स्व. दीनानाथ मंगेशकर अपने समय के जबरदस्त कलाकार थे. अभिनय और संगीत दोनों में महारत हासिल थी लेकिन उनकी मृत्यु के बाद लता ने किस तरह से अपने परिवार का भरण-पोषण किया वो बहुत प्रेरणादायी है. एक स्टेज आर्टिस्ट से भारत की महान गायिका बनने तक की उनकी कहानी बहुत दिलचस्प है. छोटी मुंह बड़ी बात होगी लेकिन उनके जीवन के कुछ ख़ास किस्से हम भी आपके लिए लेकर आए हैं.

लता मंगेशकर की जिंदगी बहुत ही प्रेरक है कैसे उन्होंने एक स्ट्रगलिंग एक्ट्रेस से महान सिंगर तक का सफ़र तय किया.
लता मंगेशकर ने एक स्ट्रगलिंग एक्ट्रेस से महान सिंगर तक का सफ़र तय किया था. उनका ये सफ़र बहुत ही प्रेरक है.

#1. लता के पिता दीनानाथ को उनके सिंगिंग टैलेंट के बारे में नहीं पता था, इसलिए लता को संगीत से दूर रखा जाता था. दीनानाथ घर पर ही बच्चों को संगीत की तालीम दिया करते थे. एक बार ऐसे ही उन्होंने अपने एक स्टूडेंट को गाने का सुर-ताल समझा दिया और घर से बाहर किसी से मिलने चले गए. जब वो लड़का प्रैक्टिस कर रहा था, तब लता वहीं बगल में खेल रही थीं. उन्होंने उस लड़के को बताया कि वो गलत धुन गा रहा है और उसे सही धुन गाकर समझाई. जब ये सब चल रहा था तब लता के पिता ठीक उनके पीछे खड़े होकर सब कुछ देख रहे थे. उन्होंने लता की आवाज़ सुनी और उसके बाद उन्हें भी संगीत सिखाने लगे.

लता के पिता जी ने पहले उनके सफल होने की भविष्यवाणी कर दी थी.
लता के पिता जी ने पहले ही उनके सफल होने की भविष्यवाणी कर दी थी.

दीनानाथ मंगेशकर एक आर्टिस्ट होने के साथ-साथ ज्योतिषी भी थे. वो नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी फिल्मों में गाए. जिस साल लता ने अपना पहला गाना रिकॉर्ड किया (मार्च, 1942) उसके ठीक एक महीने बाद दीनानाथ ने अपनी आखिरी सांसें ली थी. हालांकि मरने से पहले ही उन्होंने लता के बारे में भविष्यवाणी कर दी थी कि लता एक दिन बहुत मशहूर होंगी और शादी भी नहीं करेंगी. उनकी बात कितनी सही और कितनी गलत रही ये किसी को बताने की जरूरत नहीं है.

#2. जब लता मंगेशकर बहुत मशहूर सिंगर बन गईं तब उनके शुभचिंतक और करीबी लोग चाहते थे कि वो म्यूज़िक डायरेक्टर भी बन जाएं. सभी संगीतकारों के साथ अच्छे संबंध रखने वाली लता ने पहले तो यह कहकर मना कर दिया कि वो अपने किसी भी दोस्त के साथ कम्पटीशन कर अपने रिश्ते खराब नहीं करना चाहती. पर घरवाले तो मानने से रहे. उनके दबाव में लता ने एक मराठी फिल्म के लिए संगीत बनाया. फिल्म का नाम था ‘राम राम पाव्हणं’.

फिल्म में संगीत लता ने नाम बदलकर दिया ताकि उन्हें कोई पहचान न सके. उन्होंने ‘आनंद घन’ नाम से म्यूज़िक दिया. इससे उनकी फिल्म इंडस्ट्री के दोस्तों से संबंध भी सही बने रहे और घरवालों की इच्छा भी पूरी हो गई. दिक्कत तब हुई जब एक अवॉर्ड फंक्शन में ‘राम राम पाव्हणं’ फिल्म के लिए ‘आनंद घन’ को बेस्ट म्यूज़िक डायरेक्टर का अवॉर्ड दिया जाना था. स्टेज से कई बार ये नाम पुकारा गया लेकिन लता वहां होते हुए भी स्टेज पर नहीं जा पा रही थीं. वहां मौजूद किसी शख्स को लता का ये सीक्रेट पता था जिसके कारण उनका ये भेद सबके सामने खुल गया.

लता ने पहली बार

लता ने पहली बार ‘राम राम पाव्हणं’ नाम की मराठी फिल्म में संगीत दिया था.

#3. 60 के दशक में जब लता अपने चरम पर थीं, तभी उनकी तबीयत खराब रहने लगी. बहुत जगह डॉक्टरों को दिखाया गया, लेकिन कोई समझ नहीं पा रहा था कि आखिर मर्ज़ क्या है. फिर एक डॉक्टर ने बताया कि उन्हें धीमा ज़हर दिया जा रहा था. इस ज़हर से उनकी तबीयत तो ख़राब रहेगी ही, जान भी जा सकती है. बाद में डॉक्टर की ये बात सच निकली. लता के घर काम करने वाला एक रसोइया ही उन्हें खाने में धीमा जहर मिलाकर दिया करता था. जैसे ही लता की बीमारी की खबर फैली, रसोइया भाग गया.

#4. लता कभी एक्टिंग नहीं करना चाहती थीं, लेकिन पिता की मौत के बाद घर चलाने के लिए उन्हें ये करना पड़ रहा था. एक बार वो एक फ़िल्म की शूटिंग के लिए स्टूडियो गईं, वहां इनके साथ कुछ ऐसा हुआ जिसके बाद लता ने एक्टिंग छोड़ दी. हुआ यूं था कि 13 साल की लता को जब मेकअप वगैरह करने के बाद शूटिंग के लिए ले जाया गया तो फिल्म के डायरेक्टर को उनका मेकअप पसंद नहीं आया. डायरेक्टर ने मेकअप वालों से कहा कि इसकी भौंवें थोड़ी बड़ी हैं और ललाट काफी छोटा लग रहा है. लता को डायरेक्टर के मुताबिक तैयार करने के लिए उनकी भौंवें और आगे के बाल छोटे कर दिए गए. ये बात लता को बहुत बुरी लगी. वो रास्ते भर मुंह लटकाए आईं और घर पहुंचते ही मां के गले से लिपटकर रोने लगीं. जैसे-तैसे वो फिल्म तो पूरी हुई लेकिन इस घटना के बाद वो एक्टिंग छोड़ सिर्फ सिंगिंग पर फोकस करने लगीं.

लता कभी एक्टिंग नहीं करना चाहती थी लेकिन अपने परिवार के लिए उन्हें ये पड़ रहा था.
लता कभी एक्टिंग नहीं करना चाहती थी लेकिन अपने परिवार के लिए उन्हें ये करना पड़ रहा था.

#5. शुरुआत में बहुत से लोगों ने लता की आवाज़ को पतली और कमजोर बताकर खारिज कर दिया था. लता भी धुन की पक्की थीं, उन्होंने सबकी बताई गलतियों से सबक लिया और इंडस्ट्री में अपना नाम बनाया. लता की आवाज़ को पतली बताने वाले पहले इंसान थे मशहूर फिल्मकार एस मुखर्जी. एक बार लता के गुरु गुलाम हैदर साहब ने मुखर्जी को दिलीप कुमार और कामिनी कौशल स्टारर फ़िल्म ‘शहीद’ के लिए लता की आवाज़ सुनाई. मुखर्जी ने पहले बड़ी तन्मयता से उनका गाना सुना और फिर कहा कि वो इन्हें अपनी फिल्म में काम नहीं दे सकते क्योंकि उनकी आवाज़ बहुत पतली है.

दिलीप कुमार लता की आवज़ को पहले सही नहीं मानते थे लेकिन वक़्त के साथ दोनों की अच्छी बनने लगी. लता दिलीप कुमार को पाना भाई मानती हैं.
दिलीप कुमार लता की आवाज़ को पहले सही नहीं मानते थे लेकिन वक़्त के साथ दोनों की अच्छी बनने लगी. लता दिलीप कुमार को अपना भाई मानती हैं.

इनके सिंगर बनने के फैसले को गलत मानने वाले दूसरे शख्स थे ‘ट्रेजेडी किंग’ दिलीप कुमार. एक दफ़ा गुलाम हैदर, लता और दिलीप कुमार बंबई की लोकल ट्रेन में बैठकर कहीं जा रहे थे. ऐसे में हैदर ने सोचा दिलीप बड़े कलाकार हैं तो उन्हें लता की आवाज़ सुनाने से शायद कुछ काम मिल जाए. लता ने गाना शुरू ही किया था कि दिलीप कुमार ने टोकते हुए कहा कि मराठियों की आवाज़ से ‘दाल-भात’ की बू आती है. उनका इशारा लता के एक्सेंट पर था. इसके बाद लता ने हिंदी और उर्दू सीखने के लिए बाकायदा एक टीचर रखा और उर्दू और हिंदी के शब्दों का सही उच्चारण सीख लिया.


वीडियो देखें:

ये भी पढें:

कोई नहीं कह सकता कि वो ऋषिकेश मुखर्जी से महान फ़िल्म निर्देशक है

वो गंदा, बदबूदार, शराबी डायरेक्टर जिसके ये 16 विचार जानने को लाइन लगाएंगे लोग

बच्चन-देवगन आ तो रहे हैं, मगर दीपावली पर विजय तो ख़ान की ही होती है

कुरोसावा की कही 16 बातें: फिल्में देखना और लिखना सीखने वालों के लिए विशेष

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020