Submit your post

Follow Us

चीन में भारत के राजदूत रह चुके इन अधिकारियों का गलवान घाटी के बारे में क्या कहना है

15 जून को भारत और चीन के सैनिकों बीच गलवान घाटी में झड़प हुई. इसमें भारतीय सेना के 20 जवानों के शहीद होने की खबर आई. इस पूरे मुद्दे पर चीन में भारत की तरफ से राजदूत रह चुके अधिकारियों ने भी अपनी राय रखी. क्या कहा उन्होंने?

गौतम बम्बावले

Gautam Bw 700
गौतम ने बताया कि किस तरह 30 साल से चला रहा है अरेंजमेंट अब काम नहीं कर रहा.

चीन में भारत के राजदूत रह चुके हैं. 2017 से 2018 तक. इन्होंने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया,

भारत और चीन संबंधों का जो वर्तमान नमूना है, वो दिसंबर 1988 में सेट हुआ था, जब तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी चीन गए थे. इसका सबसे महत्वपूर्ण पहलू ये था कि सीमा विवाद सुलझाने के लिए वहां शांति कायम रखते हुए भले ही हम उसका उपाय ढूंढें. लेकिन दूसरे क्षेत्रों में आपसी विचार-विमर्श और लेन-देन चलते रहना चाहिए. उसके बाद से लेकर अब तक कई समझौते हो चुके हैं. इस बीच दुनिया बदल गई है, लेकिन हमारे संबंध उसी ढर्रे पर चल रहे हैं. मुझे लगता है कि ये घटना उसे बदल सकती है.

शिवशंकर मेनन

S Menon 700
शिवशंकर मेनन ने चीन की रणनीति पर बात की. 

चीन में भारत के राजदूत रहे हैं. 2000 से 2003 तक. इन्होंने ‘द वायर’ को दिए इंटरव्यू में बताया,

भारत को इस बात पर जोर देना चाहिए कि चीज़ें वापस पहले जैसी हों. यानी हाल की डेवलपमेंट के पहले जो पोजिशन थी फोर्स की ग्राउंड पर, वो वैसी ही रखी जाएं. ये जो तरीका है, ये चीन की ‘टू स्टेप फॉरवर्ड, वन स्टेप बैक’ वाली रणनीति लग रही है. इसमें वो एक कदम पीछे हट जाता है, जिससे लगता है कि भारत की साइड को फायदा हो रहा है, लेकिन एक कदम आगे चीन ही बढ़ रहा होता है. 2017 में भी डोकलाम में यही हुआ था. 72 दिन तक आमने-सामने डटने के बाद दोनों तरफ की फोर्स पीछे हट गईं, लेकिन उसके बाद चीन ने बाक़ी की घाटी पर कब्ज़ा कर लिया और तब से लेकर अब तक 36 ढांचे वो वहां बना चुका है. तीन हेलीपैड और कई सडकें भी. चिंता ये है कि कहीं इस स्टैंड-ऑफ का नतीजा भी ऐसा ही न निकले.

निरुपमा राव

N Rao 70
निरुपमा राव ने ट्वीट करके कहा कि भारत-चीन के रिश्तों में खटास आने की आशंका है.

चीन में भारत की राजदूत. 2006 से 2009 तक. इन्होंने ट्वीट कर के लिखा,

पीपल्स लिबरेशन आर्मी का आधिकारिक बयान ध्यान देने लायक है. ये गलवान घाटी को चीन-भारत की सीमा पर बता रहा है. ये भी कहा है कि भारतीय सेना ने LAC को क्रॉस किया और अपने वादे का उल्लंघन किया. इस स्टेटमेंट में बिलकुल सीधी बात कही गई है. चीन ने अपनी मंशा ज़ाहिर कर दी है. जब 1959 में भारत चीन के बीच सीमा को लेकर विवाद हुआ था, तब भी इसी तरह की बातें चीन की तरफ से कही गई थीं. भारतीय सेना और विदेश मंत्रालय के बयान इनके मुकाबले बहुत सौम्य हैं. चीन हमेशा खुद को विक्टिम दिखाता है और सामने वाले को परिणामों के लिए दोषी ठहराता है. ऐसे अंधियारे समय में इस तरह खून बहना एक डरावनी त्रासदी है. हालात को सामान्य करने की कोशिशें जो 1976 से चली आ रही हैं, वो सभी बेकार साबित हुईं.

मिनिस्ट्री ऑफ एक्सटर्नल अफेयर्स (विदेश मंत्रालय) ने पूरे मामले पर आधिकारी बयान जारी करते हुए कहा-

चीन की तरफ से पहले से तय एक्शन लिया गया, जो कि हिंसा और मौतों के लिए सीधे तौर पर ज़िम्मेदार है. इससे ये इरादे साफ़ हुए कि ग्राउंड पर हकीकत बदलने की कोशिश की जा रही है. ये ‘स्टेटस क्वो’ (स्टैंडर्ड स्थिति) को न बदलने के हमारे समझौतों के खिलाफ है. दोनों तरफ के ट्रूप्स को द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल को मानना चाहिए. लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल को मानते हुए कोई भी एकतरफा एक्शन नहीं लेना चाहिए उसे बदलने के लिए.

बता दें कि 1975 के बाद पहली बार इस तरह की घटना देखने को मिली है. देश गुस्से में है. बदला लेने की बातें कही जा रही हैं. चीनी सामानों के बहिष्कार की बात की जा रही है.

ये भी पढ़ें: चीन के साथ लोहा ले चुके फौजी जनरलों ने क्या सलाह दी है


वीडियो: दुनियाभर के अखबारों और मीडिया ने लद्दाख में हुई भारत-चीन की हिंसक झड़प पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020