Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

यहां से बनेगा Ind-Aus सीरीज से पहले माहौल!

1
शेयर्स

kETAN MISHRA THE LALLANTOP ये आर्टिकल लिख भेजा है हमें केतन ने, जो ‘दी लल्लनटॉप’ के टॉपमटॉप रीडर हैं. आप भी lallantopmail@gmail.com पर कायदे का कंटेंट भेज सकते हैं. ठीक लगा तो हम छापेंगे. 


एक पिच्चर थी ‘कर्मा’. दिलीप कुमार, अनिल कपूर, जैकी श्रॉफ वाली. उसमें गाना था ‘दिल दिया है जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए.’ अपना अइसा है गुरु कि वतन के लिए तो देंगे ही देंगे लेकिन क्रिकेट के लिए भी दे देंगे. ये कह लो कि हम टीवी देखते हैं तो सिर्फ क्रिकेट के लिए. हर महीना केबल वाले को चढ़ावा चढ़ाते हैं तो क्रिकेट वाले चैनल की खातिर. बाकी सब चैनल को हम वैसे ही समझते हैं जैसे सौ-पचास की सब्जी खरीदने पे पांच रुपिये की धनिया झिल्ली में डाल दी जाती है. वैसे झिल्ली बैन हो गयी है हमारे प्रदेस में, ये बहुत बढ़िया हुआ.

खैर, मंगलवार से इंडिया का मैच शुरू है ऑस्ट्रेलिया से. वही ऑस्ट्रेलिया जिसने शायद सबसे ज्यादा वक्त तक क्रिकेट की दुनिया पर राज किया है. जिसने इंडिया को सबसे कर्री टक्कर दी है. जिसने इंडिया को वर्ल्ड कप फाइनल में 359 का टारगेट दिया था वो भी उस ज़माने में जब ढाई सौ का स्कोर बहुत माना जाता था और अगर टीम में सचिन-सहवाग ना हों तो मैच हारा ही हुआ समझा जाता था.

2015 वर्ल्ड कप में भी इंडिया को ऑस्ट्रेलिया ने ही बाहर भेजा था. मिशेल स्टार्क ऐसा कहर बरपाए था कि मानो बल्लेबाज के सामने गेंद नहीं इंजीनियरिंग का मैथ्स पेपर आ रहा हो. वैसे हमने भी ऑस्ट्रेलिया को कम नहीं चिढ़ाया है. 2011 के वर्ल्ड कप में गजब ढंग से बाहर का रास्ता दिखाया. 2007 T-20 वर्ल्ड कप सेमी फाइनल में उनको पछाड़ा. शेन वार्न के लिए हमारे पास ब्रह्मास्त्र था. चेन्नई में दौड़ा-दौड़ा के हौंक-हौंक के मारा था सचिन ने. लक्ष्मण के लिए तो ये कहा ही जाता था कि ये खिलाड़ी सिर्फ ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलने से पहले ही प्रैक्टिस करता है. द्रविड़ तो खैर दीवार ही थे. कहीं भी धूनी रमा लेते थे. आने वाले टाइम में कोहली, रोहित शर्मा ने भी नाम कमाया. रोहित ने तो ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ अपना पहला दोहरा शतक भी जमाया था. हां, रोहितवा दो-दो दोहरा शतक मार चुका है.

तो अब जबकि हम टीवी पे ऑस्ट्रेलिया में चल रहा बिग बैश लीग देख रहे हैं, आइए आपको देते हैं कुछ मसाला जो सीरीज़ शुरू होने से ठीक पहले बनाएगा फुल माहौल.

1.

50 ओवर के मैच में रिकी पोंटिंग ने 40.07 के ऐवरेज से इंडिया के खिलाफ 2164 रन बनाए हैं. 59 मैचों में उन्होंने 9 हाफसेंचुरी और 6 सेंचुरी मारी. औसतन हर 100 गेंद पर 81 रन बनाते थे. अच्छा हुआ रिटायर हो गए वरना बिना खेले ‘मैन ऑफ द सीरीज’ का इनाम जीत जाते. वैसे ईशांत शर्मा ने इनको जो सात धकापेल गेंदे खिलाई थीं, वो ये शायद कभी ना भूल पाएंगे.


 

2.

हमारे भारत रत्न पोंटिंग बाबा से बीस ही हैं. उनके जवाब में सचिन तेंदुलकर ने 50 ओवर वाले मैचों में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ 44.59 के औसत से 3077 रन बनाए हैं. ये कारनामा उन्होनें 71 मैचों में कर दिखाया है. रन बनाने की रफ्तार हर 100 गेंद पर 85 रन की थी. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ 15 हाफ-सेंचुरी और 9 सेंचुरी मारी हैं. मैक्सिमम स्कोर 175 का है. वो मैच इंडिया हार गई थी. सचिन भी अब रिटायर हो चुके हैं. वैसे ये समझना मुश्किल ही है कि सचिन के रिटायर होने के बाद भी दुनिया क्रिकेट खेल रही है या बस खेलने का ढोंग कर रही है?


 

3.

मौजूदा खिलाड़ियों में भारत की ओर से धोनी भइय्या और ऑस्ट्रेलिया की ओर से शेन वाटसन ने सबसे ज़्यादा रन बनाये हैं. धोनी 38 मैचों में 1169 रन ठोंक चुके हैं जबकि वाटसन 717 रन बना के घूम-फिर रहे हैं. घूम-फिर इसलिए क्योंकि इस वक़्त वो बिग-बैश लीग में खेल रहे हैं और इस बार उनका टीम में सेलेक्शन नहीं हुआ है.


 

4.

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से तेज गेंदबाज ब्रेट ली ने सबसे ज़्यादा 55 विकेट लिए हैं. इंडिया के खिलाफ 32 मैचों में हर ओवर में लगभग 5.5 रन देने वाले ब्रेट ली ने 4 बार एक मैच में 5 विकेट लिए हैं. आज भी याद है 2007 टी-ट्वेंटी वर्ल्ड कप सेमी फाइनल में युवराज ने ये सिर्फ एक फ्लिक से लेग साइड में ये लम्बा छक्का जड़ा था इसको.


 

5.

इंडिया की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज कपिल देव हैं. उन्होंने 41 मैचों में हर ओवर में लगभग 3.6 रन देते हुए 45 विकेट झटके हैं. वैसे मौजूदा गेंदबाजों में ईशांत शर्मा 17 और सर रवींद्र जडेजा ने 15 विकेट लिए हैं.

जिस हिसाब से कंगारुओं की बैटिंग चल रही है, इतने से काम नहीं चलेगा गुरु. कपिल देव की आत्मा को किसी के शरीर में तो घुसना ही पड़ेगा.


 

6.

दुनिया को अपनी उंगली पे घुमाने वाले शेन वार्न इंडिया के खिलाफ वैसे ही साबित हुए हैं जैसे आज कल के मच्छरों पर मॉर्टीन काम करती है. शेन वॉर्न ने हर ओवर में औसतन 5.2 रन देते हुए सिर्फ 15 विकेट चटकाए हैं. 3 पर 38 इंडिया के खिलाफ उनका सबसे अच्छा प्रदर्शन है.


 

7.

सचिन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने करियर में कुल 365 बार गेंद को बाउंड्री के पार भेजा है. इसमें 330 चौव्वे और 35 छक्के शामिल हैं. इस हिसाब से देखो तो इन्होनें 1628 रन मात्र 365 गेंद में ही बना डाले और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 53 फीसदी रन सिर्फ बाउंड्री मार मार के ही बनाये हैं. ऐसे ही नहीं इनको क्रिकेट का भगवान कहा जाता है.


 

8.

आपस में कुल खेले गए मैचों में ऑस्ट्रेलिया, इंडिया से मीलों आगे हैं. 118 मैचों में ऑस्ट्रेलिया ने 68 मैच जीते और इंडिया ने 40. 10 मैच ऐसे हुए जहां कभी गेंद नाली में चली गयी तो कभी जिसका बैट था, वो घर लेकर चला गया, जिसकी वजह से मैच पूरा नहीं हो पाया.


 

9.

8 जनवरी 1981 को इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिर्फ 63 रन बनाए थे. इस सदी की बात करें तो सदी शुरू होते ही 14 जनवरी 2000 को इंडिया की टीम सिर्फ 100 रन पे ऑल आउट हो गई थी. गांगुली 5, तेंदुलकर 1 और द्रविड़ 22 रन पे वतन को साथियों के हवाले कर चले पड़े थे. मैक्ग्रा ने 10 ओवर में मात्र 8 रन देकर 4 विकेट लिए थे. “बच्चे की जान लेगा क्या?” वाला जुमला शायद यहीं से शुरू हुआ होगा.


 

10.

गेंदबाजी में दोनों टीमों को देखें तो 27 रन देकर 6 विकेट लेने वाले मुरली कार्तिक सबसे ऊपर काबिज हैं. मौजूदा खिलाड़ियों में देखें तो 38 रन देकर 4 विकेट लेने वाले ईशांत शर्मा का नाम आता है.


 

वैसे तो एक्सपीरियंस के नाम पर आज दोनों ही टीमें एक दूसरे का मुंह ताकती मिलती हैं लेकिन दोनों ही के कप्तान गजब टाइप से प्रतिभावान हैं. कैप्टन कूल धोनी हरक्युलिस के अवतार नजर आते हैं वहीँ बच्चे वाली शकल लिए स्मिथ छोटा पैकेट बड़ा धमाका वाली बात को एकदम जायज ठहराते हैं. ऑल-राउंडर के तौर पर कैरियर की शुरुआत करने वाले स्टीव स्मिथ आज टेस्ट में दुनिया के नंबर वन बल्लेबाज हैं.

वन-डे मैचों में टॉप-टेन बल्लेबाजों में इंडिया के 3 बल्लेबाज हैं और ऑस्ट्रेलिया के सिर्फ ग्लेन मैक्सवेल. गेंदबाजों में ऑस्ट्रेलिया के मिशेल मार्श सबसे ऊपर हैं.

टीम रैंकिंग में ऑस्ट्रेलिया पहले और इंडिया दूसरे नम्बर पर आती है. इसलिए ये सीरीज़ एकदम कुरकुरी और करारी होती हुई नज़र आ रही है और अभी-अभी बगल में बैठे लल्लन ने चुइंग-गम चबाते हुए कहा है, ‘मम्मी कसम, सीरीज़ में मिलेगा मारक मजा!’

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

रानी पद्मावती के पति का पूरा नाम क्या था?

पद्मावती फिल्म के समर्थक हो या विरोधी, हिम्मत हो तभी ये क्विज़ खेलना.

आम आदमी पार्टी पर ये क्विज खेलो, खास फीलिंग आएगी

आज भौकाल है आम आदमी (पार्टी) का. इसके बारे में व्हाट्सऐप से अलग कुछ पता है तो ही क्विज खेलना.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

गेम ऑफ थ्रोन्स लिखने वाले आर आर मार्टिन का जनम दिन है. मौका है, क्विज खेल लो.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

अगर जवाब है, तो आओ खेलो. आज ध्यानचंद की बरसी है.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.