Submit your post

Follow Us

करोड़ों को इंजीनियर बना, प्रोफेसर एच सी वर्मा रिटायर हो रहे हैं

2000 के आस-पास हिंदुस्तान में दो ही भगवान हुआ करते थे. एक सचिन तेंदुलकर थे और दूसरे एक प्रोफेसर थे.

इक्कीसवीं शताब्दी के आने से ठीक पहले और आने के बाद दसवीं पास किये हुए बच्चे एक किताब की तरफ बड़े ही सम्मान और प्यार से देखते थे. ये किताब दो भागों में आती थी. एक नीली और एक हरी. दसवीं की किताबों से अलग बड़ी, चौकोर और बेहद खूबसूरत प्रिटिंग. पटना के भारती भवन से छपी ये किताब हर बच्चे के हाथ में नहीं देखी जाती थी. जो इसे अपने हाथ में ले के चलता, उसे कई सवालों के जवाब देने पड़ते थे. साथियों की नफरत का शिकार होना पड़ता था. बुली किया जाता था वो स्टूडेंट.

इस किताब का नाम था कॉन्सेप्ट्स ऑफ फिजिक्स. लिखने वाले का नाम था एच सी वर्मा. इस किताब को एच सी वर्मा के नाम से ही जाना जाता था. फिजिक्स की ये किताब घरों में गीता प्रेस की किताबों को टक्कर देती थी. हर बच्चा इसे पढ़ना चाहता था, इसके सवाल हल करना चाहता था. पर ये आसान नहीं था. बेहद शानदार तरीके से तरीके से लिखी ये किताब कॉन्सेप्ट्स को सुलझाती थी और दिमाग को उलझाती थी. ऐसा कहा जाता था कि जिसने भी इस किताब को दो बार बना लिया, वो आईआईटी एंट्रेंस के फिजिक्स को तो निकाल ही लेगा. तब आईआईटी का एंट्रेस बहुत कठिन होता था. खास तौर से 2001 के आस-पास तो ये स्थिति हो गई थी कि स्टडी होने लगी कि आखिर एंट्रेंस का स्तर इतना ज्यादा कठिन कैसे हो गया. तमाम मिथक गढ़ दिये गये कि दुनिया का सबसे कठिन एग्जाम है. मेरे खुद के मन में हमेशा ये टीस रही कि मैं आईआईटी नहीं निकाल पाया. वहां पढ़ने से ज्यादा इस एंट्रेंस को निकालने का मन था. खास तौर से 2001 का वो पेपर देखने के बाद.

अब वही एच सी वर्मा रिटायर हो गये हैं. ही हैज हंग हिज बूट्स. अब वो आईआईटी कानपुर में नहीं पढ़ायेंगे.

 

hcv

 

जब हम लोग तैयारी करते थे, तो मन में एक इच्छा रहती थी कि एडमिशन कानपुर में ही लेंगे और एच सी वर्मा की क्लास अटेंड करेंगे. ये तमन्ना तो पूरी नहीं हुई. लेकिन एच सी वर्मा के बारे में हम तमाम कहानियां लेकर बड़े हुए. अब ये सारी कहानियां झूठी ही लगती हैं. पर मजा इनमें बहुत था. कहा जाता था कि वर्मा फिजिक्स में इतने खोये रहते हैं कि लुंगी में ही क्लास लेने चले जाते हैं. पढ़ाते-पढ़ाते सिगरेट पीने लगते हैं. उन्होंने इरोडोव की किताब को तो मजाक बना दिया था. उन्होंने दुनिया की सारी फिजिक्स की किताबें पढ़ डाली हैं. नासा वाले उनको किडनैप करने आये थे, लेकिन ये वहां भी फिजिक्स का दिमाग लगाकर बच गये. खास तौर से न्यूटन्स लॉज वाले चैप्टर में इनका लटकते बंदर का प्रश्न और पहले चैप्टर में उड़ती मक्खी का प्रश्न ये साबित तो करते ही थे कि ये दिमाग लगा सकते थे. हालांकि बाद में पता चला कि ये सवाल बाकी किताबों में भी थे. ये अलग बात है कि ये भी कहा जा सकता है कि ऐसी बातों पर ज्यादा भरोसा करने से ही एंट्रेंस क्लियर नहीं हुआ. ये तो व्याख्या का मसला है.

तो ये वो दौर था जब इंटरनेट नहीं था. किसी के बारे में जानकारी निकालना मुश्किल था. तब हम लोग एच सी वर्मा से प्यार करते थे. भारत एक अद्भुत देश है और वर्मा के प्रति बच्चों की दीवानगी इसमें चार चांद लगाती थी. किताब लिखते समय उन्होंने भी ये उम्मीद नहीं की होगी कि बच्चे उनको इतना प्यार करेंगे. उनके फेसबुक पेज पर जाइए. और आनंद आता है. वहां पता चलता है कि वर्मा अभी भी उतने ही प्यारे हैं. जब उनको फेसबुक पर देखा तो अपार खुशी हुई थी. ऐसा लगा जैसे बचपन के कोई कहानी कहने वाले दादाजी या चाचाजी फेसबुक पर आ गये हैं. मैं आज भी कॉन्सेप्ट्स ऑफ फिजिक्स पढ़ना चाहता हूं. मौका मिलेगा तो उसके सवाल हल भी करूंगा. ये मेरे लिए बचपन की तरफ लौटना होगा. जब भी मैं खुद को फंसा हुआ पाऊंगा, मैं ये किताब पढ़ूूंगा और महसूस करूंगा कि एक फिजिक्स की किताब में भी खोया जा सकता है.

मुझे नहीं मालूम कि वो आगे क्या करेंगे. पर ये जरूर उम्मीद है कि कुछ अच्छा ही करेंगे. मैं उनका कभी क्लास का स्टूडेंट नहीं रहा, पर एकलव्य की तरह उनको गुरु माना है. आज जब वो रिटायर हो रहे हैं, मुझे दुख हो रहा है.

Also Read:

भारत-पाकिस्तान के बीच एक और क्रिकेट मैच! क्या आप तैयार हैं?

पढ़िए GST के बारे में सबकुछ, आसान भाषा में

धोनी से ऐसा क्या सवाल पूछा गया कि उन्हें कहना पड़ा, ‘मैं शराब की तरह हूं’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.